• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • HEALTH AYURVEDA HAS AN ACCURATE CURE FOR THROAT PROBLEMS TRY IT MYUPCHAR PUR

आयुर्वेद में है गले की परेशानी का सटीक इलाज, आप भी आजमाएं

गले में खराश या दर्द होने पर सबसे अच्छा उपाय आयुर्वेद में है. आयुर्वेद का ये घरेलू नुस्खे अपनाकर परेशानी से छुटकारा पाया जा सकता है.

कई बार गलत खानपान से गला खराब (Throat Problem) हो जाता है. ज्यादा खट्टा खाने या ठंडी चीजों का सेवन कर लेने से भी गले में दिक्कत होने लगती है.

  • Myupchar
  • Last Updated :
  • Share this:


    गले में किसी भी तरह की परेशानी (Throat Problem) हो तो पूरे समय असहज महसूस होता है. एलर्जी (Allergy) या फ्लू (Flu) की वजह से अक्सर गले में खराश महसूस होती है और ऐसे में दर्द (Pain) भी होता है. कुछ लोगों को मीठे या दूध-दही से एलर्जी होती है और इनका सेवन करते ही गले में खराश शुरू हो जाती है. वहीं मौसम बदलने के साथ गले की तकलीफ बढ़ जाती है. कई बार तो खाना-पीना भी मुश्किल लगता है. कई बार गलत खानपान से भी गला खराब हो जाता है. ज्यादा खट्टा खाने या ठंडी चीजों का सेवन कर लेने से भी गले में दिक्कत होने लगती है. myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि गले में खराश या दर्द होने पर सबसे अच्छा उपाय आयुर्वेद में है. आयुर्वेद का ये घरेलू नुस्खे अपनाकर परेशानी से छुटकारा पाया जा सकता है. अगर गले में ज्यादा खराश है तो डॉक्टर के पास जरूर जाएं लेकिन अगर खराश कम या हल्की है तो इस समस्या को घरेलू उपाय से भी दूर किया जा सकता है.

    मुलेठी

    गले में खराश और दर्द से राहत पाने के लिए मुलेठी का इस्तेमाल पानी में डालकर गरारे करने के लिए करें. मुलेठी में मौजूद एस्पिरिन गुण इस परेशानी से छुटकारा दिलाने के लिए काफी हैं. हालांकि, गर्भवती और स्तनपान कराने वाले महिलाओं को इस घरेलू उपचार को नहीं करना चाहिए.

    दालचीनी

    हर घर के किचन में मौजूद दालचीनी का इस्तेमाल खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है, लेकिन इस मसाले में कई औषधीय गुण भी हैं. आयुर्वेदिक औषधियों में भी कई वर्षों से दालचीनी का इस्तेमाल किया जा रहा है. लौंग के बाद दालचीनी सबसे बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट है. इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण भी होते हैं. सर्दी-जुकाम और फ्लू में इसका इस्तेमाल करने पर गले में होने वाली दिक्कतों से छुटकारा मिलता है. इसे बादाम के दूध में डालकर पीने से गले की खराश में आराम मिलेगा.

    शहद

    शहद को स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है और इसमें अनेक औषधीय गुण होते हैं. औषधीय गुणों के कारण शहद को आयुर्वेद में भी महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है. इसे अन्य सामग्रियों के साथ मिलाकर गले की खराश दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. यह दर्द से राहत दिलाता है और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है. रोजाना गुनगुने पानी में एक बड़ा चम्मच शहद मिलाकर पीने से गले में फायदा होता है.

    अदरक

    गले में खराश, जलन, दर्द जैसी समस्या से छुटकारा पाने के लिए रोजाना अदरक की चाय पिएं. अदरक एक प्राकृतिक एनाल्जेसिक और दर्द निवारक है इसलिए इसे गले के दर्द और जलन को शांत करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. यह खांसी कम करने में भी मदद करता है.

    नमक

    गले के बैक्टीरिया को मारने के लिए गुनगुने पानी में नमक डालकर गरारे करें. इससे गले की खराश में बहुत आराम मिलेगा. एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच नमक मिलाकर एक घूंट मुंह में लें. दस सेकंड के लिए इससे गरारे करें और पानी थूक दें. यह प्रक्रिया दिन में दो से तीन बार दोहराएं. गले की खराश दूर करने का यह भी एक कारगर उपाय है.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, गले में दर्द के प्रकार, लक्षण, कारण, बचाव, इलाज, परहेज और दवा पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

    First published: