होम /न्यूज /जीवन शैली /Bad breath: मुंह की बीमारी हेलीटोसिस की वजह से उठानी पड़ती है शर्मिंदगी, जानिए इसके कारण और उपचार

Bad breath: मुंह की बीमारी हेलीटोसिस की वजह से उठानी पड़ती है शर्मिंदगी, जानिए इसके कारण और उपचार

अगर मुंह की बदबू क्रोनिक हो जाए तो इससे शरीर के अन्य अंग भी प्रभावित होते हैं. Image: Canva

अगर मुंह की बदबू क्रोनिक हो जाए तो इससे शरीर के अन्य अंग भी प्रभावित होते हैं. Image: Canva

What is Halitosis: अगर किसी इंसान का मुंह से हमेशा बदबू आती है तो उसे कई मौकों पर शर्मिंदगी उठानी पड़ती है. मुंह में हो ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

अगर मुंह को सही से साफ न किया जाए तो मुंह में बदबू होना लाजिमी है.
बैक्टीरिया, वायरस, फंगस आदि के संक्रमण के कारण मुंह से बदबू आ सकती है.

How to get rid of Bad breath: हेलीटोसिस मुंह की बदबू का मेडिकल टर्म है. मुंह में बदबू कई वजहों से आ सकती है. हालांकि हर किसी को कभी न कभी मुंह की बदबू से सामना करना पड़ता है लेकिन अधिकांश लोगों को यह कभी-कभी ही होता है लेकिन कुछ लोगों का मुंह अक्सर बदबू करता रहता है. अगर ज्यादा दिनों तक मुंह की बदबू न जाए तो यह क्रोनिक हो जाता है. यानी हमेशा मुंह में बदबू बनी रहती है. अगर मुंह की बदबू क्रोनिक हो जाए तो इससे शरीर के अन्य अंग भी प्रभावित होते हैं. हेलीटोसिस एक तरह से अन्य बीमारियों का लक्षण है. इसका मतलब है कि आपका शरीर ठीक तरह से काम नहीं कर रहा है. इसका पहला मतलब यह है कि आपका ओरल हाइजीन बहुत खराब है. इसलिए मुंह की बदबू का उपचार करने के लिए इसकी जड़ में जाना जरूरी है कि आखिर यह किस वजह से बदबू कर रही है.

इसे भी पढ़ें- Constipation in winter: क्या सर्दी में कॉन्स्टिपेशन ज्यादा परेशान करता है, जानें एक्सपर्ट की राय

माइ क्लीवलैंड क्लिनिक के मुताबिक दुनिया में 4 में से एक व्यक्ति को कभी न कभी मुंह की बदबू का सामना करना पड़ता है. एक रिसर्च के मुताबिक दुनिया भर में 31.8 प्रतिशत लोग हेलीटोसिस का सामना कर चुके हैं. हेलीटोसिस में मुंह में गंदी बदबू करती रहती है जो जाती ही नहीं. यह बदबू दूसरों को बहुत बुरा अहसास कराती है. जब भी हेलीटोसिस वाले व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति से बात करता है, दूसरे व्यक्ति को यह बदबू लगती है. यह बेहद असहज स्थिति हो जाती है.

मुंह में बदबू के कारण

  • ओरल हाइजीन-अगर मुंह को सही से साफ न किया जाए तो मुंह में बदबू होना लाजिमी है. ठीक से ब्रश नहीं करना, दांतों को सही से साफ नहीं करना, डेंटल क्लिनिंग से परहेज के कारण मुंह में बदबू आने लगती है. इससे कैविटीज, गम डिजीज हो सकती है.
  • ड्राई माउथ-मुंह में मौजूद थूक या स्लाइवा मुंह को साफ करता है लेकिन अगर किसी वजह से थूक कम बने और मुंह सूखने लगे तो इससे मुंह में बदबू आने लगती है. स्मोकिंग थूक को बनने से रोकता है.
  • गैस्टेरेएसोफेगल रिफलक्स डिजीज-यह पाचन संबंधी एक बीमारी है जिसमें पेट का एसिड या फ्लूड लीक करने लगता और उपर आने लगता है. इस कारण भी मुंह में बदबू कर सकती है.
  • कुछ बीमारियों के कारण-मुंह के कैंसर, गर्दन के कैंसर आदि के कारण भी मुंह में बदबू कर सकती है. इसके अलावा मसूड़ो की बीमारी गिगिवाइटिस, फीवर, ब्लीडिंग, बैक्टीरियल इंफेक्शन पेरियोडोंटाइटिस के कारण भी मुंह में बदबू आ सकती है.
  • इंफेक्शन के कारण-बैक्टीरिया, वायरस, फंगस आदि के संक्रमण के कारण मुंह से बदबू आ सकती है. नाक, गला और फेफड़ों में इंफेक्शन के कारण भी मुंह में बदबू आ सकती है.
  • डायबिटज-जो लोग डायबिटीज से पीड़ित रहते हैं, उनमें मसूड़ों से संबंधित बीमारियां होने का खतरा ज्यादा रहता है. इसके अलाला लिवर और किडनी डिजीज के कारण भी मुंह की बदबू कर सकती है.

मुंह की बदबू का निदान
मुंह की बदबू को हटाने के लिए सबसे पहले ओरल हाइजीन का ख्याल रखें. इसके लिए सुबह और सोने के समय ब्रश करें. मुंह को डेंटल क्लीनर से भी साफ करते रहें. जीभ को भी साफ करना जरूरी है. अल्कोहल फ्री एंटीबैक्टीरियल माउथवाश का इस्तेमाल करें. प्रत्येक छह महीने या साल भर में डेंटिस्ट के पास चेकअप कराने जरूर जाएं. मुंह को ड्राई होने से बचाने के लिए पर्याप्त पानी पीएं. मुंह में स्लाइवा को बढ़ाने के लिए शुगर फ्री च्यूगम चबाएं. कभी-कभी लौंग, इलाइची भी चबाते रहे. मुंह में बदबू का अहसास हो तो गाजर, सेब खाएं. इसके साथ ही सिगरेट, शराब, तंबाकू, कैफीन से परहेज करें.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें