खाएं ये 'बैक्टीरिया', कम होगा दिल की बीमारी और शुगर का खतरा

3 महीने के बाद रिसर्चर्स ने प्रतिभागियों का परीक्षण कर पाया कि जिस ग्रुप ने पास्चुरीकृत बैक्टीरिया खाया था. उनमें दिल की बीमारी और शुगर की बीमारी का रिस्क काफी हद तक कम हो गया था.

News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 12:48 PM IST
खाएं ये 'बैक्टीरिया', कम होगा दिल की बीमारी और शुगर का खतरा
खाएं ये 'बैक्टीरिया', कम होगा दिल की बीमारी और शुगर का खतरा
News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 12:48 PM IST
सामान्य तौर पर लोग साफ-सफाई को इसलिए जरूरी मानते हैं, ताकि बीमारियां फ़ैलाने वाले बैक्टीरिया और वायरस से बचा जा सके. लेकिन हर बैक्टीरिया जानलेवा नहीं होता, बल्कि फायदेमंद भी होता है. हाल ही में हुए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ कि एक विशेष तरीके के बैक्टीरिया खाने से दिल मजबूत बनता है और रोग की संभावना कम हो जाती है. वैज्ञानिकों के मुताबिक, ये बैक्टीरिया ह्यूमन इंटेस्टाइन में पाया जाता है. इसका नाम है अक्करमेंसिया म्यूसिनीफिला बैक्टीरिया. अगर इसे पास्चुरीकरण करके खाया जाए, तो इससे दिल से जुड़ी बीमारियों के लिए जिम्मेदार कारक से सुरक्षा मिलती है.

सांकेतिक चित्र


यह शोध ‘नेचर मेडिसिन’ नामक मैगज़ीन में प्रकाशित हुआ है. लौवेन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं की टीम ने इंसान की आंत में पाए जाने वाले इस बैक्टीरिया पर शोध किया. इसके तहत 42 लोगों को इसमें शामिल किया गया जिसमें से 32 ने इस टेस्ट को पूरा किया. वैज्ञानिकों ने मोटापे के शिकार प्रतिभागियों (जिनमें ह्रदय रोग के कारक, डायबिटीज टाइप 2 और मेटाबॉलिक सिंड्रोम पहले से मौजूद थे) को इंटेस्टाइन में पाया जाने वाला बैक्टीरिया 'अक्करमेंसिया' पास्चुरीकरण कर खाने को दिया.

इसे भी पढ़ें:  पुरुषों की दाढ़ी में कुत्ते के बाल से ज्यादा खतरनाक बैक्टीरिया, रिसर्च में हुआ खुलासा

वैज्ञानिकों ने शोध में भाग लेने वाले लोगों को दो बराबर भागों में बांट दिया- इसमें से एक ग्रुप को जीवित बैक्टीरिया और दूसरे को पास्चुरीकृत बैक्टीरिया सेवन करने के लिए दिया गया. साथ ही इन्हें अपने लाइफस्टाइल, रूटीन लाइफ और खाने की आदतों में कुछ बदलाव करने के निर्देश दिए गए. सप्लीमेंट की तरह इन्हें अक्करमेंसिया न्यूट्रीशनल दिया गया, जिसे इन्हें बिना नागा 3 महीने तक सेवन करना था.

इसे भी पढ़ें: हर हालात में दें खुद का साथ, चाहे पूरी दुनिया छोड़ दे साथ

3 महीने के बाद रिसर्चर्स ने प्रतिभागियों का परीक्षण कर पाया कि जिस ग्रुप ने पास्चुरीकृत बैक्टीरिया का सेवन किया था उनमें ह्रदय रोग और शुगर की बीमारी का रिस्क काफी हद तक कम हो गया था. इसके बाद लीवर भी पहले से बेहतर हुआ था और लोगों के वजन में भी तकरीबन 2.3 किलो गिरावट के साथ कोलेस्ट्रोल लेवल में भी गिरावट दर्ज की गई.
Loading...

लाइफस्टाइल, खानपान, रिश्ते और धर्म से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 3, 2019, 12:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...