#काम की बात : क्‍या एक से ज्‍यादा लोगों से रिश्‍ते रखने पर एसटीडी हो जाता है?

सेक्‍स सलाह
सेक्‍स सलाह

हालांकि यौन संबंधों से होने वाले इंफेक्‍शन से बचने के लिए सुरक्षित सेक्‍स यानी कंडोम के इस्‍तेमाल की सलाह दी जाती है. लेकिन यहां यह जानना जरूरी है कि कंडोम भी एसटीडी से बचाव की सौ प्रतिशत गारंटी नहीं है

  • Last Updated: August 12, 2018, 8:31 AM IST
  • Share this:
प्रश्‍न: मैं 33 साल का हूं और मेरी शादी होने वाली है. इसके पहले मेरे अनकों स्त्रियों के साथ संबंध रहे हैं. क्‍या मुझे एसटीडी हो सकता है?

उत्‍तर: एसटीडी का पूरा नाम है- सेक्‍सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज यानी यौन संपर्क के कारण होने वाली बीमारियां. जो बीमारियां किसी दूसरे व्‍यक्ति के साथ शारीरिक संपर्क में आने के कारण फैलती हैं, विज्ञान की भाषा में उन्‍हें एसटीडी कहते हैं. जैसे एचआइवी/एड्स और जेनाइटल हर्प्‍स. इसका एक नाम एसटीआई यानी सेक्‍सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्‍शन भी है.

एसटीडी को लेकर कई तरह की गलत अवधारणाएं हैं कि यह कैसे और क्‍यों फैलता है. यह एक कॉमन भ्रम है कि किसी भी व्‍यक्ति के साथ यौन संपर्क में आने से एसटीआई की आशंका रहती है. ऐसा नहीं है. एसटीआई की आशंका तभी होती है, जब आप किसी ऐसे व्‍यक्ति के साथ यौन संपर्क में हों, जो किसी यौन-जनित बीमारी या इंफेक्‍शन से पीड़ित है.



एक से अधिक व्‍यक्तियों और अजनबियों के साथ यौन संबंध बनाने पर इस इंफेक्‍शन का डर बढ़ जाता है. यद‍ि आप किसी एक ही व्‍यक्ति के साथ यौन संबंध में हैं, लेकिन उसके एक से ज्‍यादा संबंध हैं, तो भी एसटीडी की आशंका रहती है. किसी एक ही व्‍यक्ति के साथ संबंध इस लिहाज से सबसे ज्‍यादा सुरक्षित माना जाता है.
हालांकि यौन संबंधों से होने वाले इंफेक्‍शन से बचने के लिए सुरक्षित सेक्‍स यानी कंडोम के इस्‍तेमाल की सलाह दी जाती है. लेकिन यहां यह जानना जरूरी है कि कंडोम भी एसटीडी से बचाव की सौ प्रतिशत गारंटी नहीं है. सुरक्षित सेक्‍स करने के बाद भी आपको यौन-जनित संक्रमण हो सकता है. अकसर लोगों को यह लगता है कि अजनबियों के साथ यौन संबंध ही असुरक्षित होता है और इससे संक्रमण का खतरा रहता है. मेरे पास अकसर लोग यह समस्‍या लेकर आते हैं कि मैंने जिस व्‍यक्ति के साथ संबंध बनाया, उसे मैं अच्‍छी तरह जानता या जानती हूं, फिर भी मुझे इंफेक्‍शन हो गया. यहां किस व्‍यक्ति के अजनबी न होने का अर्थ ये नहीं है कि आप उसे निजी तौर पर जानते हैं या नहीं जानते हैं. इसका अर्थ यह है कि क्‍या आपको यह विश्‍वास है कि आपके अलावा अन्‍य व्‍यक्तियों के साथ उसके संबंध नहीं हैं. वह किसी और के साथ असुरक्षित सेक्‍स नहीं कर रहा है, संबंध बनाने से पहले ये पता होना जरूरी है.
इसलिए इस तरह के किसी भी संक्रमण और बीमारी से बचने का सबसे सुरक्षित उपाय यही है कि एक ही व्‍यक्ति के साथ यौन संबंध रखा जाए.

(डॉ. पारस शाह सानिध्‍य मल्‍टी स्‍पेशिएलिटी हॉस्पिटल, अहमदाबाद, गुजरात में चीफ कंसल्‍टेंट सेक्‍सोलॉजिस्‍ट हैं.) 

अगर आपके मन में भी कोई सवाल या जिज्ञासा है तो आप इस पते पर हमें ईमेल भेज सकते हैं. डॉ. शाह आपके सभी सवालों का जवाब देंगे.
ईमेल – Ask.life@nw18.com

ये भी पढ़ें-

#काम की बात : जब से मेरे पार्टनर का वजन बढ़ा है, हमारी सेक्स लाइफ खत्म हो गई है
#काम की बात : क्या स्त्रियों की यौन इच्छा का संबंध उनके मासिक चक्र से भी है ?
#काम की बात: मुझे ऑर्गज्म नहीं होता, दिक्कत कहां है, शरीर में या दिमाग में?
#काम की बात : पोर्न की आदत पोर्नोग्राफी की लत में बदल सकती है?
#काम की बात: अगर एक से ज्‍यादा लोगों से यौन संबंध हों तो एसटीडी हो जाता है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से भी प्रेगनेंसी हो सकती है?
#काम की बात: क्या सेक्स के समय लड़कों को भी पीड़ा हो सकती है?
# काम की बात : क्‍या देसी वियाग्रा लेने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है ? 
# काम की बात : क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से बीमारी हो जाती है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करना सुरक्षित है?
#कामकीबात: कौन सी बात अंतरंग क्षणों को ज्यादा यादगार बना सकती है?
#कामकीबात: सेक्स के दौरान महिला साथी भी क्लाइमेक्स तक पहुंची, ये कैसे समझा जा सकता है? 
#कामकीबात: सेक्स-संबंध नीरस हो गया है. कभी मेरा मन नहीं करता तो कभी उसका

अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे लिखे Sexologists पर क्लिक करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज