सर्वाइकल कैंसर से हर साल होती हैं कई मौतें, जानिए इसके लक्षण और इलाज

Cervical Cancer Causes,Symptoms And Treatment: 2018 की एक रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसार, भारत में प्रति वर्ष सर्वाइकल कैंसर से 74 हजार महिलाओं की मौत हो जाती है.

News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 1:22 PM IST
सर्वाइकल कैंसर से हर साल होती हैं कई मौतें, जानिए इसके लक्षण और इलाज
सर्वाइकल कैंसर से हर साल होते हैं कई मौतें, जानिए इसके लक्षण औए इलाज
News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 1:22 PM IST
Cervical Cancer Causes,Symptoms And Treatment: कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो काफी तेजी के साथ फ़ैल रही है. यही वजह है कि इस बीमारी को लेकर लोगों में काफी जागरुकता भी फैली है. 2018 की एक रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसार, भारत में प्रति वर्ष सर्वाइकल कैंसर से 74 हजार महिलाओं की मौत हो जाती है. एक अन्य रिपोर्ट की मानें तो सर्वाइकल कैंसर की वजह से होने वाली मौतों में लगातार हर साल इजाफा देखने को मिल रहा है. इससे यह बात स्पष्ट हो जाती है कि इस बीमारी से पीड़ित महिलाएं सर्वाइकल कैंसर के लिए रोज स्क्रीनिंग करवाती हैं. आइए जानते हैं इस बीमारी के लक्षण और इलाज...

Cervical Cancer के लक्षण:
इस बीमारी की वजह से महिलाओं के गर्भाशय की कोशिकाएं बहुत तेजी से multiply होती हैं जिसकी वजह से कई सेल्स पैदा हो जाती हैं. इसके लिए एचपीवी वायरस यानी ह्यूमन पेपीलोमा वायरस जिम्मेदार होता है.

इसे भी पढ़ें: अंक भी करते हैं चमत्कार! क्या बदल कर रख देते हैं भाग्य?

सर्वाइकल कैंसर की शुरुआत में प्राइवेट पार्ट से बहुत ज्यादा मात्रा में ब्लड आता है, साथी से शारीरिक संबंध बनाने या टेपोंन का इस्तेमाल करने पर बहुत ज्यादा खून आता है और दर्द भी होता है यह सर्वाइकल कैंसर का एक लक्षण हो सकता है. इसके साथ ही साथी से संबंध स्थापित करने पर दर्द होना, प्राइवेट पार्ट से खून आना . पेट, कमर और पैर में दर्द महसूस होना जैसे अन्य लक्षण भी हैं.

इसे भी पढ़ें: पेट की चर्बी छुपाने में मदद करेंगे ये कपड़े

सर्वाइकल कैंसर का इलाज: कैंसर के कई चरण होते हैं. अगर शुरुआत में ही इसका अंदाजा लग जाए और शुरू में ही उपचार लिया जाए तो काफी हद तक सर्वाइकल कैंसर का इलाज किया जा सकता है. आइए जानते हैं कि इसके लक्षण दिखने पर उपचार के लिए क्या करना चाहिए.
Loading...

- रेगुलर चेकअप: महिलाओं को हर महीने रेगुलर टेस्ट करवाना चाहिए ताकि उन्हें अपनी सेहत से जुडी हा बात का अंदाजा हो.
- पैप स्मीयर टेस्ट: सर्वाइकल कैंसर पता करने के लिए तीन साल के अंतराल पर किसी अच्छे अस्पताल से पैप स्मीयर टेस्ट करवाना चाहिए.
- टीके लगवाएं: सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए इसके वाहक एचपीवी वायरस से बचाव के इंजेक्शन लगवाने चाहिए और सिगरेट, तली भुनी चीजें खाने से परहेज करना चाहिए.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.
First published: July 24, 2019, 12:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...