होम /न्यूज /जीवन शैली /मोटापे को लेकर कहीं आपके दिमाग में तो नहीं ये बड़ी गलतफहमी? जान लीजिए सच्चाई

मोटापे को लेकर कहीं आपके दिमाग में तो नहीं ये बड़ी गलतफहमी? जान लीजिए सच्चाई

मोटापे को लेकर लोगों के मन में कई मिथक हैं.

मोटापे को लेकर लोगों के मन में कई मिथक हैं.

हेल्थ के लिए मोटापा नुकसानदायक साबित हो सकता है. इससे कई बीमारियों का खतरा बढ़ता है, लेकिन लोगों के दिमाग में मोटापे को ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

मोटापा सीधे तौर पर डायबिटीज का कारण नहीं बनता है, लेकिन इससे खतरा बढ़ जाता है.
अपर्याप्त नींद, तनाव, हार्मोन में दिक्कत और कुछ दवाओं का सेवन मोटापा बढ़ा देता है.

Medical Myths about Obesity: मोटापा एक वैश्विक समस्या बन गया है. देश और दुनिया में करोड़ों लोग ज्यादा वजन या मोटापे की समस्या से जूझ रहे हैं. लोग मोटापे से जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर जागरूक हो रहे हैं. इस बात में कोई शक नहीं है कि मोटापा स्वास्थ्य के लिए खतरनाक होता है. इसकी वजह से लोग कई गंभीर बीमारियों का शिकार हो सकते हैं. चौंकाने वाली बात यह है कि मोटापे को लेकर लोगों के मन में कई मिथक होते हैं. सभी लोगों को इन मिथकों और इसकी हकीकत के बारे में जान लेना चाहिए.

ज्यादा खाने से ही बढ़ता है मोटापा

मेडिकल न्यूज़ टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक कई मामलों में लंबे समय तक शरीर की जरूरत से ज्यादा कैलोरी का सेवन करना मोटापे का सीधा कारण होता है. हालांकि मोटापे की कई वजह हो सकती हैं. अपर्याप्त नींद, मनोवैज्ञानिक तनाव, पुराना दर्द, हार्मोन में दिक्कत और कुछ दवाओं का सेवन भी इसके लिए जिम्मेदार होता है. ज्यादा तनाव भी मोटापे की संभावना को बढ़ा सकता है. मोटापा कम करने में कैलोरी का सेवन और व्यायाम महत्वपूर्ण कारक हैं, लेकिन अन्य चीजों पर ध्यान देना होगा.

यह भी पढ़ेंः मलेरिया से बचने के लिए स्वस्थ लोगों के लिए भी दवा लेना जरूरी? जान लीजिए

मोटापे से होती है डायबिटीज

मोटापा सीधे तौर पर डायबिटीज का कारण नहीं बनता है. यह टाइप 2 डायबिटीज का रिस्क बढ़ा देता है, लेकिन मोटापे से ग्रस्त हर व्यक्ति को टाइप 2 डायबिटीज नहीं होती. इसके अलावा टाइप 2 डायबिटीज वाले सभी लोगों को मोटापे की समस्या नहीं होती. यह टाइप 1 डायबिटीज का रिस्क फैक्टर नहीं होता. अगर आप मोटे नहीं हैं, लेकिन डायबिटीज का कोई लक्षण नजर आ रहा है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

यह भी पढ़ेंः हेल्दी रहने के लिए रोज करें स्विमिंग, हार्ट और लंग्स डिजीज का खतरा होगा कम

मोटापा आलस की बनता है वजह

बिना फिजिकल एक्टिविटी वाली लाइफस्टाइल मोटापे की वजह बन सकती है. हालांकि यह कहना सही नहीं है कि यह आलस का कारण बन जाता है. बेहतर हेल्थ के लिए फिजिकल एक्टिविटी जरूरी होती है. डिप्रेशन और मोटापे के बीच कनेक्शन होता है. शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के अलावा मोटापे से ग्रस्त कुछ लोग शर्मिंदगी की वजह से भी बाहर निकलना पसंद नहीं करते.

मोटापा स्वास्थ्य को प्रभावित नहीं करता

कई लोगों के दिमाग में यह भी मिथक होता है कि मोटापा से हेल्थ पर कोई असर नहीं पड़ता. कई स्टडी में यह बात सामने आ चुकी है कि मोटापा डायबिटीज, हाइपरटेंशन, हार्ट डिजीज, ऑस्टियोआर्थराइटिस, स्लीप एपनिया और कुछ मेंटल प्रॉब्लम के जोखिम को बढ़ाता है. सीडीसी के अनुसार मोटापे से जूझ रहे लोगों के कुल वजन का 5-10% वजन घटाने से ब्लड प्रेशर, ब्लड कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर में सुधार होता है.

Tags: Diabetes, Health, Lifestyle, Obesity, Trending news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें