होम /न्यूज /जीवन शैली /तकिए का कवर होता बीमारियों का घर, छूटे नहीं छूटता है स्किन प्रॉब्लम, एक्सपर्ट ने बताया कब बदलने की है जरूरत

तकिए का कवर होता बीमारियों का घर, छूटे नहीं छूटता है स्किन प्रॉब्लम, एक्सपर्ट ने बताया कब बदलने की है जरूरत

 तकिए का खोल यदि सिल्क का हो तो इससे बैक्टीरिया लगने के चांसेज कम होते हैं

तकिए का खोल यदि सिल्क का हो तो इससे बैक्टीरिया लगने के चांसेज कम होते हैं

Diseases in pillow covers: आपके तकिए के कवर में बीमारियों का घर छुपा हो सकता है. यही कारण है कि एक्सपर्ट तकिए के कवर को ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

यदि आप अपनी स्किन को हेल्दी रखना चाहते हैं तो बिस्तर की इन चीजों को भी नियमित रूप से बदलनी चाहिए.
तकिए के कवर में हर दिन धूलकण, तेल, हानिकारक बैक्टीरिया और कई तरह की गंदगी चिपक जाती हैं.

Pillow cover changing benefits: रात में सुकून की नींद के लिए तकिए का होना बहुत जरूरी है. कई लोगों को रात में सोने के लिए कई तकिए की जरूरत पड़ती है. तकिए का इस्तेमाल गलत बात नहीं है लेकिन अगर तकिए के कवर को नियमित रूप से बदला न जाए तो इसमें बीमारियों का घर बस जाता है. तकिए के कवर से स्किन से संबंधित कई बीमारियों हो सकती हैं. इससे स्किन मुरझाने लगती है. इसके लिए लोग इलाज भी कराते हैं. लेकिन कई बार इलाज कराने के बावजूद स्किन प्रोबल्म दूर नहीं हो पाता है. इसकी वजह तकिए का खोल हो सकता है.

तकिए के खोल में छुपी बीमारियों के बारे में कॉस्मेटोलॉजिस्ट और स्किनकेयर स्पेशलिस्ट डॉ गीतिका मित्तल गुप्ता ने अपने इस्टाग्राम पेज पर लोगों को सलाह दी है कि हर सप्ताह तकिए का खोल बदलना बेहद जरूरी है. उन्होंने कहा है कि यदि आप तकिए के कवर को हर सप्ताह नहीं बदलते हैं तो स्किन से संबंधित बीमारियां छुटे नहीं छुटेगी. इस स्थिति में यदि आप इलाज भी कराएंगे तो यह स्किन प्रोब्लम दूर नहीं होगा. इसके बाद दवा भी काम नहीं करेगी.

हर सप्ताह पिल्लो कवर को बदलना जरूरी
डॉ गीतिका ने बताया कि हर सप्ताह तकिए के कवर को बदलते की सलाह दी है. उन्होंने इसके लिए 6 कारण गिनाए हैं कि इन वजहों से हर सप्ताह तकिए के कवर को बदलना जरूरी है. डॉ गीतिका ने बताया कि तकिए के कवर में हर दिन धूलकण, पालतू जानवरों के बाल, तेल, डेड स्किन, हानिकारक बैक्टीरिया और कई तरह की गंदगी चिपक जाती है. बैक्टीरिया की वजह से चेहरे पर पिंपल्स, दाग-धब्बे बन जाते हैं. इसलिए हर सप्ताह पिलोकेस या तकिए के कवर को बदलना चाहिए. वरना ये सारी चीजें सबसे पहले चेहरे की स्किन को तबाह कर देंगी. फिर आप कितनी भी दवाई लें सही नहीं होगी. इसके साथ ही तकिए को छह महीने में एक बार जरूर साफ करना चाहिए या ड्राई क्लीन कराना चाहिए.

View this post on Instagram

A post shared by Dr Geetika Mittal Gupta (@drgeetika)

इन चीजों को भी बदलना जरूरी
डॉ गीतिका ने यह भी बताया कि यदि आप अपनी स्किन को हेल्दी रखना चाहते हैं तो बिस्तर की इन चीजों को भी नियमित रूप से बदलनी चाहिए. इनमें शामिल हैं-पिलो केस यानी तकिए का खोल, बेडशीट, मेकअप ब्रश, ब्यूटी ब्लैंडर्स और तौलिए.

तकिए का कवर सिल्क या कॉटन
हेल्थलाइन की एक खबर में कहा गया है कि तकिए का खोल यदि सिल्क का हो तो इससे बैक्टीरिया लगने के चांसेज कम होते हैं और इससे पिंपल्स भी नहीं होते. स्टडी में पाया गया कि स्किन की हेल्थ के लिए तकिए में कॉटन कवर से अच्चा सिल्क कवर होता है. सिल्क कवर के इस्तेमाल से चेहरे पर पिंपल्स होने का खतरा कम होता है.

इसे भी पढ़ें-बेसन एक काम अनेक, 5 बेमिसाल फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान, शुगर-कोलेस्ट्रॉल का है दुश्मन

इसे भी पढ़ें-क्या खाने के बाद आपका भी बढ़ जाता है शुगर ? 30 मिनट पहले लें सिर्फ एक चीज, गारंटी से कम होगा डायबिटीज

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें