Home /News /lifestyle /

क्या आपको रविवार की रात को नींद नहीं आती, जानें क्या है कारण

क्या आपको रविवार की रात को नींद नहीं आती, जानें क्या है कारण

पर्याप्त मात्रा में पानी पीना और कम से कम 8 घंटे की अच्छी नींद लें.

पर्याप्त मात्रा में पानी पीना और कम से कम 8 घंटे की अच्छी नींद लें.

रविवार रात (Sunday Night) को नींद न आना कई लोगों के लिए आम हो जाता है. सोमवार सुबह (Monday Morning) चिड़चिड़ाहट और ऊर्जा (Energy) की कमी क्योंकि रातभर अच्छे नींद जो नहीं आई. इसे संडे इनसोमनिया कहते हैं.

  • Myupchar
  • Last Updated :


    पूरे सप्ताह काम करने के बाद जब वीकेंड (Weekend) आता है तो दिलो-दिमाग में अलग सुकून होता है. खूब आराम, नींद (Sleep), परिवार के साथ समय बिताना, घूमना-फिरना (Outing) लेकिन जब रविवार रात (Sunday Night) बिस्तर पर जाते हैं तो नींद ही नहीं आती. तब उस समय ऐसा लगता है कि यह सबसे खराब वीकेंड था. रविवार रात को नींद न आना कई लोगों के लिए आम हो जाता है. सोमवार सुबह (Monday Morning) चिड़चिड़ाहट और ऊर्जा (Energy) की कमी क्योंकि रातभर अच्छे नींद जो नहीं आई. इसे संडे इनसोमनिया कहते हैं. रविवार रात को होने वाली यह अनिद्रा की परेशानी दुनियाभर के सैकड़ों-हजारों लोगों को प्रभावित करती है.

    myUpchar से जुड़े डॉक्टरों का कहना है कि अनिद्रा यानी इनसोमनिया में व्यक्ति के लिए नींद आना या सोते रहना मुश्किल होता है. ऐसा होने पर आमतौर पर दिन के समय नींद, सुस्ती और मानसिक व शारीरिक रूप से बीमार होने की सामान्य अनुभूति को बढ़ाती है. मूड स्विंग्स, चिड़चिड़ापन और चिंता इसके सामान्य लक्षणों से जुड़े हैं.

    ऑनलाइन पैनल प्रोवाइडर टोलुना ओम्निबस द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार, प्रत्येक चार व्यक्तियों में से एक को रविवार की रात को सोते समय परेशानी होती है. एक अन्य अध्ययन से पता चलता है कि 60 प्रतिशत कर्मचारियों को रविवार की रात सबसे खराब नींद आती है और 80 प्रतिशत लोगों ने शुक्रवार की रात को सबसे अच्छी नींद लेने की बात कही. विशेषज्ञों का मानना है कि वीकेंड शेड्यूल आम दिनों की तुलना में अलग होना इसका कारण बनता है.

    कारण

    -ऐसे कई कारण हैं जिनसे रविवार की रात सोने में कठिनाई होती है और इनमें सबसे महत्वपूर्ण है तनाव. हर कोई इन दिनों तनाव से जूझ रहा है लेकिन अत्यधिक तनाव में रहने से शरीर पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ सकते हैं. यदि व्यक्ति आने वाले सप्ताह के बारे में अत्यधिक तनाव ले रहा है और अपने पूरे सप्ताह के शेड्यूल को बारीकी से मैनेज करने की कोशिश कर रहा है, तो इससे नींद में परेशानी हो सकती है.

    -व्यक्ति द्वारा की जाने वाली शारीरिक या मानसिक गतिविधि की मात्रा दूसरा कारण हो सकती है. आम तौर पर, सप्ताह के अंत पर अन्य सप्ताह की तुलना में कम शारीरिक और मानसिक गतिविधियां होती हैं. जैसे कि रविवार को काम नहीं करते हैं और इससे शरीर थका नहीं होता है और जब सोने की बारी आती है तो यह जागता रहता है.

    -सप्ताह के अंत में दिन में सोने से रविवार की रात नींद न आने की परेशानी हो सकती है. साथ ही वीकेंड में देर तक सोने से पूरी जैविक घड़ी गड़बड़ा जाती है. यह एक जेट लेग के समान है.

    -यहां तक कि शराब और कैफीन का अधिक सेवन भी आपके नींद के चक्र को बिगाड़ सकता है.

    ऐसे दूर करें रविवार की रात अनिद्रा की परेशानी

    -myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि नियमित दिनचर्या का पालन करना और समय पर सोना अच्छी नींद देता है. इसलिए रविवार सुबह अपने नियमित समय पर जागें.

    -सुबह पूरी तरह सक्रिय रहें.

    -ज्यादा और भारी भोजन न लें, जिसमें खूब कैलोरी हो.

    -दिन में सोने से जहां तक हो सके बचे रहे.

    -यदि तनाव देर रात जगा रहा हो तो संगीत सुनें या कोई किताब पढ़ें.

    -जिस किसी बात की चिंता सता रही हो तो उसे एक डायरी में लिख लें. दिमाग शांत होगा.

    -यह भी ध्यान रखें कि रविवार को सोने से पहले मोबाइल या कोई भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण इस्तेमाल न करें.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, नींद न आने के प्रकार, कारण, लक्षण, जोखिम, इलाज और दवा पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

    Tags: Health, Health tips, Lifestyle, News18-MyUpchar

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर