होम /न्यूज /जीवन शैली /क्या चॉकलेट खाने से बढ़ जाते हैं कील-मुहांसे, जानिए क्या कहती है रिसर्च

क्या चॉकलेट खाने से बढ़ जाते हैं कील-मुहांसे, जानिए क्या कहती है रिसर्च

डार्क चॉकलेट खाने से पिंपल्स हो सकते हैं.. (image-canva)

डार्क चॉकलेट खाने से पिंपल्स हो सकते हैं.. (image-canva)

chocolate increse pimples: टीएनज में अगर आप चॉकलेट ज्यादा खाते हैं तो इससे पिपल्स की समस्या और अधिक बढ़ सकती है. रिसर्च ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

ध्ययन में पाया है कि चॉकलेट खाने के कारण पांच से अधिक पिपल्स हो सकते हैं
पिपल्स होने के लिए कई कारक जिम्मेदार होते हैं

chocolate and pimples connection: चॉकलेट ऐसी चीज है जिससे हर किसी का मन ललचा उठता है. बच्चों के लिए तो यह मुफीद चीज है. बच्चे जब बड़े हो जाते हैं तो टीनएज में भी चॉकलेट के प्रति चाहत कम नहीं होती है. लेकिन टीनएज में ज्यादा चॉकलेट का सेवन कील-मुहांसों को बढ़ा सकता है. कुछ रिसर्च में दावा किया जा रहा है कि चॉकलेट चेहरे पर कील-मुहांस, पिपल्स आदि की समस्याओं को बढ़ा देती है. आमतौर पर कहा जाता है कि ज्यादा ऑयली चीजें खाने से कील-मुहांसे ज्यादा होते हैं लेकिन चॉकलेट भी इसका कारण बन सकती है. हालांकि चॉकलेट में कई तरह के एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो शरीर के लिए फायदेमंद हैं पर चॉकलेट का साइड इफेक्ट यह है कि यह पिंपलल्स को बढ़ाती है.

इसे भी पढ़ेंक्या कोलेस्ट्रॉल सच में शरीर के लिए दुश्मन है? इसके फायदे जानकर हैरान हो जाएंगे आप

मिल्क चॉकलेट से पिपल्स नहीं
सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक क्लेवलैंड मेडिकल सेंटर यूनिवर्सिटी अस्पताल के डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ ग्रेगोरी आर डेलोस्ट ने बताया,”हमने अपने अध्ययन में पाया है कि चॉकलेट खाने के कारण पांच से अधिक पिपल्स हो सकते हैं.” उन्होंने कहा कि कुछ लोगों को लगेगा कि 5 पिपल्स कुछ नहीं होते लेकिन इन पिपल्स के फटने के बाद यह और अधिक हो सकते हैं. डॉ ग्रेगोरी ने बताया कि जिन लोगों को पहले से पिपल्स नहीं हैं, वे अगर चॉकलेट का सेवन बढ़ा देते हैं तो उन्हें भी पिपल्स हो सकते हैं. हालांकि जिन लोगों को मिल्क चॉकलेट दिया गया, उन्हें पिपल्स की समस्या नहीं हुई. लेकिन जब दूध और चीनी मिश्रित चॉकलेट का सेवन किया गया तो इससे समस्या बढ़ गई. अपने निष्कर्षों के आधार पर, डॉ ग्रेगोरी को यकीन है कि चॉकलेट मुंहासों को बदतर बना सकती है.

डार्क चॉकलेट से बढ़ते हैं पिपल्स
वहीं दूसरी ओर थाइलैंड में यूनिवर्सिटी ऑफ बैंकॉक के डॉ प्रवित अस्वानोदा ने अपने अध्ययन के आधार पर दावा किया है कि चॉकलेट पिपल्स का एकमात्र कारण नहीं हो सकता. उन्होंने कहा कि पिपल्स होने के लिए कई कारक जिम्मेदार होते हैं. इसके लिए खान-पान, जीन, वातावरण सहित कई कारक जिम्मेदार हैं. हालांकि डॉ अस्वानोदा ने यह स्वीकार किया कि उनके अध्ययन में डार्क चॉकलेट का सेवन घावों की संख्या के मामले में ‘मुंहासे’ को बढ़ा देता है. अध्ययन में हालांकि यह भी नहीं बताया गया कि जिन लोगों को पिपल्स का जोखिम अब नहीं है या जिनकी उम्र बढ़ गई है, उनपर चॉकलेट खाने से पिपल्स बढ़ेंगे या नहीं. इस प्रकार देखा जाए तो कुछ अध्ययनों में चॉकलेट के सेवन से पिपल्स की संख्या में बढ़ोतरी दिखाई गई है जबकि कुछ अध्ययनों में इस पर कोई खास तरजीह नहीं दी गई है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें