#काम की बात : क्‍या ल्‍यूब्रिकेंट के इस्‍तेमाल से प्रेग्‍नेंसी की संभावना कम हो जाती है?

सेक्‍स सलाह
सेक्‍स सलाह

ल्‍यूब्रिकेंट का इस्‍तेमाल सेक्‍स की प्रक्रिया को आसान बनाता है लेकिन अगर आप प्रेग्‍नेंसी की प्‍लानिंग कर रहे हैं तो बेहतर होगा कि इसका इस्‍तेमाल न करें

  • Last Updated: August 30, 2018, 2:48 PM IST
  • Share this:
प्रश्‍न: मेरी उम्र 32 साल है और मेरी शादी को 4 साल हो चुके हैं. हम काफी समय से बच्‍चे की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन वो हो नहीं पा रहा. मेरी पत्‍नी को ड्रायनेस का प्रॉब्‍लम है, जिसके चलते मैं ल्‍यूब्रिकेंट का इस्‍तेमाल करता हूं. हाल ही में मैंने किसी आर्टिकल में पढ़ा कि ल्‍यूब्रिकेंट का इस्‍तेमाल करने की वजह से प्रेग्‍नेंसी में दिक्‍कत आ सकती है. क्‍या ये बात सही है?

उत्‍तर :  हमेशा और हर स्थिति में ऐसा नहीं होता. सेक्‍स में ल्‍यूब्रिकेंट का इस्‍तेमाल भी बहुत कॉमन है. अकसर ड्रायनेस की समस्‍या होने पर इसका इस्‍तेमाल किया जाता है और यह पूरी तरह सुरक्षित भी है. ड्रायनेस कई कारणों से हो सकती है. हालांकि इसकी मुख्‍य वजह स्‍त्री शरीर का सेक्‍स के लिए पूरी तरह तैयार न होना ही होता है, लेकिन हर बार और हर स्थिति में यही वजह हो, जरूरी नहीं है.

कई बार अन्‍य कारणों से भी यह समस्‍या हो सकती है, जिसके निदान के लिए डॉक्‍टर ल्‍यूब्रिकेंट के प्रयोग की सलाह देते हैं. लेकिन कई मामलों में यह देखा गया है कि ल्‍यूब्रिकेंट का इस्‍तेमाल करने पर प्रेग्‍नेंसी में दिक्‍कत आती है. दरअसल पुरुष का स्‍पर्म बहुत नाजुक होता है और जरा भी बाहरी चीजों के संपर्क से यह नष्‍ट हो सकता है. इसकी उम्र भी बहुत लंबी नहीं होती. ल्‍यूब्रिकेंट में इस तरह के केमिकल्‍स का इस्‍तेमाल होता है कि उसके संपर्क में आने के कारण स्‍पर्म नष्‍ट या अप्रभावी हो सकता है. इसलिए डॉक्‍टर आमतौर पर यह सलाह देते हैं कि अगर आप प्रेग्‍नेंसी चाहते हैं तो बेहतर है कि ल्‍यूब्रिकेंट का इस्‍तेमाल न करें. ड्रायनेस की समस्‍या से निपटने के लिए आपको फोरप्‍ले को ज्‍यादा समय देना चाहिए और कोशिश करनी चाहिए कि किसी बाहरी कृत्रिम चीज का प्रयोग किए बगैर प्राकृतिक ढंग से ही सेक्‍स किया जा सके.



समस्‍या का हल न होने पर किसी विशेषज्ञ की सलाह लें.
(डॉ. पारस शाह सानिध्‍य मल्‍टी स्‍पेशिएलिटी हॉस्पिटल, अहमदाबाद, गुजरात में चीफ कंसल्‍टेंट सेक्‍सोलॉजिस्‍ट हैं.) 

अगर आपके मन में भी कोई सवाल या जिज्ञासा है तो आप इस पते पर हमें ईमेल भेज सकते हैं. डॉ. शाह आपके सभी सवालों का जवाब देंगे.
ईमेल – Ask.life@nw18.com

ये भी पढ़ें-

#काम की बात : जब से मेरे पार्टनर का वजन बढ़ा है, हमारी सेक्स लाइफ खत्म हो गई है
#काम की बात : क्या स्त्रियों की यौन इच्छा का संबंध उनके मासिक चक्र से भी है ?
#काम की बात: मुझे ऑर्गज्म नहीं होता, दिक्कत कहां है, शरीर में या दिमाग में?
#काम की बात : पोर्न की आदत पोर्नोग्राफी की लत में बदल सकती है?
#काम की बात: अगर एक से ज्‍यादा लोगों से यौन संबंध हों तो एसटीडी हो जाता है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से भी प्रेगनेंसी हो सकती है?
#काम की बात: क्या सेक्स के समय लड़कों को भी पीड़ा हो सकती है?
# काम की बात : क्‍या देसी वियाग्रा लेने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है ? 
# काम की बात : क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से बीमारी हो जाती है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करना सुरक्षित है?
#कामकीबात: कौन सी बात अंतरंग क्षणों को ज्यादा यादगार बना सकती है?
#कामकीबात: सेक्स के दौरान महिला साथी भी क्लाइमेक्स तक पहुंची, ये कैसे समझा जा सकता है? 
#कामकीबात: सेक्स-संबंध नीरस हो गया है. कभी मेरा मन नहीं करता तो कभी उसका

अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे लिखे Sexologists पर क्लिक करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज