आयुर्वेद के हिसाब से सावन में नहीं खानी चाहिए ये चीजें

सावन के महीने में खानपान का ख़ास ख्याल रखना चाहिए क्योंकि इन मौसम में इन्फेक्शन का खतरा ज्यादा रहता है.

News18Hindi
Updated: July 18, 2019, 12:07 PM IST
आयुर्वेद के हिसाब से सावन में नहीं खानी चाहिए ये चीजें
आयुर्वेद के हिसाब से सावन में नहीं खानी चाहिए ये चीजें
News18Hindi
Updated: July 18, 2019, 12:07 PM IST
सावन के महीने में खानपान का ख़ास ख्याल रखना चाहिए क्योंकि इन मौसम में इन्फेक्शन का खतरा ज्यादा रहता है. मौसम के अनुसार, खानपान के विषय में आयुर्वेद में काफी जानकारी दी गई है. आयुर्वेद में कुछ चीजों को बादी बताया गया है जिसे खाने से पेट में गैस बनती है और सेहत से जुड़ी अन्य परेशानियां भी हो सकती हैं. आइए जानते हैं कि आयुर्वेद में मानसून के सीजन में किन चीजों को खाने से परहेज करने के लिए कहा गया है.

  1. आयुर्वेद के अनुसार, सावन में हरी पत्तेदार सब्जियों के सेवन से परहेज करना चाहिए. दरअसल इन सब्जियों के सेवन से पेट में गैस की समस्या बढ़ जाती है. इसके साथ ही इस सब्जियों पर हरे रंग के कीड़े भी लग रहते हैं जो कई बार दिखाई नहीं देते हैं और इनका सेवन करने से पेट की कई परेशानियां हो सकती हैं.



2. बैंगन को भी बादी यानी कि पेट में गैस बनाने वाली सब्जी माना जाता है. इसलिए बारिश के मौसम में इसके सेवन से भी बचना चाहिए. साथ ही बारिश के मौसम में बैंगन में कीड़े भी बहुत लगते हैं. बैंगन को किसी भी मौसम में बनाने से पहले इसमें हींग जरूर डालनी चाहिए. इससे सब्जी का बादीपन खत्म हो जाता है.

इसे भी पढ़ें: ऐसी महिलाएं होती हैं बेहद मजबूत, इन्हें हराना किसी के बस में नहीं!

3.बारिश के मौसम में दूध दही के सेवन से भी परहेज करना चाहिए. दरअसल, इनके सेवन से पेट में गैस की समस्या होने का डर बना रहता है. दही की तासीर ठंडी होती है इसलिए बारिश के मौसम में इसे खाने से सर्दी जुकाम हो सकता है.
Loading...

इसे भी पढ़ें:  मच्छरों से करें बचाव, घर में बेहद कम खर्च में बनाएं स्प्रे

4. बारिश के मौसम में पाचन तंत्र काफी कमजोर हो जाता है. इसलिए आयुर्वेद में मांसाहार करने से परहेज करने की सलाह दी जाती है. इससे पेट का इन्फेक्शन होने का खतरा बना रहता है.



Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.
First published: July 18, 2019, 11:34 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...