प्रेग्नेंसी में जरूरत से ज्यादा न करें फॉलिक एसिड का सेवन, हो सकते हैं ये नुकसान

फॉलिक एसिड विटामिन बी का एक प्रकार है जो विकसित हो रहे भ्रूण के तंत्रिका ट्यूब में होने वाले दोषों को रोकता है.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 12:27 PM IST
प्रेग्नेंसी में जरूरत से ज्यादा न करें फॉलिक एसिड का सेवन, हो सकते हैं ये नुकसान
प्रेग्नेंसी में ज्यादा न करें फॉलिक एसिड का सेवन, होते हैं ये नुकसान
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 12:27 PM IST
डॉक्टर्स प्रेग्नेंसी के दौरान गर्भस्थ महिला को खानपान में आयरन युक्त डाइट और फॉलिक एसिड के सेवन की सलाह देते हैं ताकि मां और होने वाला बच्चा दोनों स्वस्थ रहें. लेकिन जरूरत से ज्यादा फॉलिक एसिड का इस्तेमाल भी आपके होने वाली बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है. आइए जानते हैं कैसे.

गर्भावस्था के बाद के चरणों में फॉलिक एसिड के सेवन से इंट्रायूटेरिन ग्रोथ रेस्ट्रिक्शन (आईयूजीआर) से प्रभावित बच्चों में एलर्जी के खतरे बढ़ सकते हैं. एक नए अध्ययन में इन खतरों के प्रति आगाह किया गया है.

फॉलिक एसिड विटामिन बी का एक प्रकार है जो विकसित हो रहे भ्रूण के तंत्रिका ट्यूब में होने वाले दोषों को रोकता है.

इसे भी पढ़ें: अंक भी करते हैं चमत्कार! क्या बदल कर रख देते हैं भाग्य?

तंत्रिका ट्यूब गर्भावस्था के पहले महीने में विकसित हो जाता है. यही कारण है कि चिकित्सकीय पेशेवर आम तौर पर महिलाओं को गर्भावस्था की पहली तिमाही में फॉलिक एसिड पूरक लेने की सलाह देते हैं.

हालांकि गर्भावस्था के बाद के चरणों में इसके नियमित सेवन की जरूरत नहीं रह जाती और असल में यह बच्चों में एलर्जी के खतरे को बढ़ा सकता है.

इसे भी पढ़ें: पेट की चर्बी छुपाने में मदद करेंगे ये कपड़े
Loading...

ऑस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ऑफ एडिलेड के अनुसंधानकर्ताओं ने भेड़ के तीन वर्गों से पैदा होने वाले मेमनों पर अध्ययन किया. इनमें सामान्य से छोटे प्लेसेंटा वाली मांओं, छोटे प्लेसेंटा वाली मांओं जिन्हें फॉलिक एसिड का ज्यादा डोज गर्भावस्था के आखिरी महीने तक दिया गया है.

तीसरा समूह उन महिलाओं का है जिनका आहार और प्लेसेंटा दोनों सामान्य था. रिसर्चर्स ने पाया कि ज्यादा डोज लेने वाली भेड़ों के बच्चों में एलर्जी का खतरा बढ़ जाता है. यह अध्ययन अमेरिकन जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी में प्रकाशित हुआ है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.
First published: July 29, 2019, 12:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...