होम /न्यूज /जीवन शैली /आपकी इन गलतियों से जवानी में ही आ जाएगा बुढ़ापा ! अभी सुधार लें वरना जिंदगीभर रहेगा अफसोस

आपकी इन गलतियों से जवानी में ही आ जाएगा बुढ़ापा ! अभी सुधार लें वरना जिंदगीभर रहेगा अफसोस

साइकोलॉजिकल हेल्थ की वजह से कम उम्र में बुढ़ापा आ जाता है.

साइकोलॉजिकल हेल्थ की वजह से कम उम्र में बुढ़ापा आ जाता है.

Depression And Ageing Process: बड़ी संख्या में लोग उम्र से पहले ही बुढ़ापे जैसी कंडीशन में आ जाते हैं, जबकि कुछ लोग काफ ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

डिप्रेशन और अकेलेपन की भावना होने से एजिंग प्रोसेस तेजी हो जाती है.
साइकोलॉजिकल हेल्थ को बेहतर रखकर आप बीमारियों से बच सकते हैं.

Feeling Depressed Age Us Faster: हर किसी की ख्वाहिश लंबे समय तक जवां और तंदुरुस्त दिखने की होती है. इसके लिए लोग तरीके आजमाते हैं. कुछ लोग जिम में जाकर घंटों पसीना बहाते हैं तो कुछ लोग कॉस्मेटिक सर्जरी का सहारा लेते हैं. सेलिब्रिटीज ही नहीं बल्कि आम लोग भी अपने लुक को लेकर काफी सजग हो गए हैं. तमाम कोशिशों के बावजूद बड़ी संख्या में लोग इन दिनों उम्र से पहले बुढ़ापे का शिकार हो रहे हैं. आपके आसपास कई लोगों को यह समस्या हो रही होगी. क्या आप उम्र से पहले बूढ़ा होने की वजह जानते हैं? अगर नहीं तो आपको यह बात जरूर जान लेनी चाहिए.

यह भी पढ़ेंः इन वजहों से रॉकेट की रफ्तार से बढ़ता है यूरिक एसिड

हालिया रिसर्च में हुआ बड़ा खुलासा
एक हालिया स्टडी में खुलासा हुआ है कि डिप्रेशन, दुख और अकेलेपन की फीलिंग्स से एजिंग प्रोसेस तेजी से बढ़ जाती है. द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक शोधकर्ताओं का कहना है कि डिप्रेस्ड (Depressed) और लोनली (Lonely) महसूस करना हेल्थ के लिए सिगरेट पीने और अन्य बीमारियों से ज्यादा खतरनाक साबित होता है. इसका एजिंग प्रोसेस पर सीधा प्रभाव होता है. आसान भाषा में कहें तो दुखी रहने से आप कम उम्र में ही बूढ़े हो सकते हैं. इतना ही नहीं ऐसा होने से बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है. उम्र के हिसाब से शरीर की फंक्शनिंग प्रभावित होती है. लाइफस्टाइल और जेनेटिक कारणों से भी कम उम्र में बुढ़ापा आ सकता है.

यह भी पढ़ेंः क्या दुनिया में अगले 20 सालों में फैल जाएगी T1D महामारी? 

रिसर्च के इन खुलासों ने चौंकाया
शोधकर्ताओं के मुताबिक अनहैप्पी, डिप्रेस्ड और अकेलापन महसूस करने से तमाम लोगों की हेल्थ बायोलॉजिकल उम्र से 1.65 साल (करीब 18 महीने) ज्यादा महसूस होने लगती है. इसके अलावा सिगरेट पीने वाले लोगों की उम्र बिना सिगरेट पीने वाले लोगों की अपेक्षा करीब 15 महीने ज्यादा दिखाई देने लगती है. साइकोलॉजिकल फैक्टर्स का इसमें अहम योगदान होता है. लंबी उम्र तक जवां रहने के लिए फिजिकल ही नहीं बल्कि मेंटल और साइकोलॉजिकल हेल्थ भी अच्छी होनी चाहिए. इससे आपको गंभीर बीमारियां होने का खतरा भी काफी कम हो जाएगा.

तेजी से बढ़ रही डिप्रेशन और अकेलेपन की समस्या
अब तक कई स्टडी में यह बात सामने आ चुकी है कि कोविड-19 महामारी की वजह से सभी उम्र के लोगों की मेंटल हेल्थ बुरी तरह प्रभावित हुई है और बड़ी संख्या में लोग डिप्रेशन जैसी समस्या का शिकार हो रहे हैं. इतना ही नहीं ज्यादा उम्र के लोगों में अकेलेपन की भावना भी घर कर रही है, जिससे उनकी हेल्थ प्रभावित हो रही है. इन सब फैक्टर्स का असर लोगों पर इन दिनों देखने को मिल रहा है. इससे बचने के लिए लोगों को खुश रहना चाहिए और सोशल इंटरेक्शन करते रहना चाहिए.

Tags: Depression, Health, Lifestyle, Mental health, Trending news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें