Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    एड़ी में दर्द होने पर अपनाएं ये घरेलू उपाय, तुरंत होगा फायदा

    एड़ी में दर्द होने पर बर्फ से सिकाई करने पर राहत मिल सकती है.
    एड़ी में दर्द होने पर बर्फ से सिकाई करने पर राहत मिल सकती है.

    एड़ी का दर्द (Pain In Heels) रोजाना की गतिविधियों को प्रभावित कर सकता है. इससे व्यक्ति की चाल में बदलाव आ सकता है. ऐसे में गिरने का जोखिम रहता है जिससे अन्य चोटें भी लग सकती हैं.

    • Last Updated: November 15, 2020, 6:15 AM IST
    • Share this:


    शरीर का ज्यादातर वजन एड़ी (Heels) पर ही होता है. एड़ी की संरचना ऐसी होती है कि वह आसानी से शरीर का वजन (Weight) उठा सकती है. चलने या दौड़ने पर एड़ी जमीन से टकराती है और यह पैर पर पड़ने वाले दबाव को सोख लेती है, जिससे व्यक्ति आगे बढ़ पाता है. विशेषज्ञों के मुताबिक, शरीर के वजन से 1.25 गुना ज्यादा चलने और 2.75 गुना ज्यादा दौड़ने से पैरों में अधिक दबाव पड़ सकता है और इसकी वजह से एड़ी में दर्द होता है. यह दर्द आमतौर पर एड़ी के नीचे या इसके पीछे होता है.

    myUpchar के अनुसार, एड़ी का दर्द रोजाना की गतिविधियों को प्रभावित कर सकता है. इससे व्यक्ति की चाल में बदलाव आ सकता है. ऐसे में गिरने का जोखिम रहता है जिससे अन्य चोटें भी लग सकती हैं. कई बार सपाट चप्पल पहनने से दर्द होता है. मोच, चोट, फ्रैक्चर आदि भी एड़ी के दर्द का कारण बनते हैं. इसके अलावा अन्य कारणों में ज्यादा वजन, सही साइज के जूते न पहनना, किसी कठोर जगह पर एड़ी रगड़ जाना आदि शामिल है. हालांकि, एड़ी का दर्द कई चिकित्सीय स्थितियों की वजह से भी होता है जैसे आर्थराइटिस, टेन्डिनाइटिस, बर्साइटिस, फाइब्रोमाएल्जिया, प्लांटर फेसाइटिस आदि. एड़ी में दर्द होने पर आप कुछ घरेलू उपाय अपना सकते हैं जैसे



    आराम करें
    यदि एड़ी के दर्द के प्रति आप अतिसंवेदनशील हैं, तो सबसे पहला और प्रभावी तरीका घरेलू उपचार है आराम करना. इस स्थिति में पैरों को आराम दें क्योंकि शरीर का ज्यादातर वजन एड़ी पर ही पड़ता है.

    बर्फ से सिकाई

    myUpchar के अनुसार, एड़ी में दर्द होने पर बर्फ से सिकाई करने पर राहत मिल सकती है. इसे प्रभावित हिस्से पर लगाने से दर्द और सूजन कम होती है क्योंकि बर्फ लगाने से वह जगह सुन्न हो जाती है. बर्फ की सिकाई के लिए कुछ बर्फ को एक कपड़े में करके प्रभावित हिस्से पर लगाकर रखें. इस प्रक्रिया को कम से कम 15 मिनट तक करें. दिन में कई बार इस प्रक्रिया को दोहराने से जल्दी फायदा होगा.

    हल्दी का दूध

    हल्दी में मौजूद करक्यूमिन तत्व होता है, दर्द और सूजन से राहत देता है. यूं तो हल्दी का दूध हमेशा ही पीना चाहिए, क्योंकि इसके कई फायदे होते हैं, लेकिन दर्द में यह काफी असरदार होता है. एक कप दूध में एक चम्मच हल्दी मिलाकर कम आंच पर कम से कम 5 मिनट उबाल लें. इसके बाद शहद मिलाकर इसे पी लें। दिनभर में दो या तीन बार पीने से जल्द फायदा होगा.

    मसाज

    प्रभावित हिस्से पर कोई भी गर्म तेल लगाकर मसाज करने में दर्द से राहत मिल सकती है. इसके लिए हाथों के दोनों अंगूठों का इस्तेमाल करते हुए प्रभावित हिस्से पर दवाब बनाकर 10 मिनट तक मसाज करें. मसाज के लिए जैतून, नारियल, तिल या सरसों के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है. मसाज से दर्द कम से राहत मिलने के अलावा मांसपेशियों को भी आराम मिलेगा और रक्त प्रवाह में सुधार होगा.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, एड़ी में दर्द पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

    अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज