Home /News /lifestyle /

चेस्ट इंफेक्शन में बच्चों पर एंटीबायोटिक का कोई असर नहीं – नई रिसर्च

चेस्ट इंफेक्शन में बच्चों पर एंटीबायोटिक का कोई असर नहीं – नई रिसर्च

निमोनिया का संदेह होने पर बच्चों को एंटीबायोटिक की दवा नहीं देनी चाहिए. (Image:Shutterstock)

निमोनिया का संदेह होने पर बच्चों को एंटीबायोटिक की दवा नहीं देनी चाहिए. (Image:Shutterstock)

Antibiotics not effective in children: आमतौर पर बच्चों को चेस्ट इंफेक्शन हो जाने पर एंटीबायोटिक दवा दी जाती है, लेकिन यह दवा काम नहीं करती.

    Antibiotics not effective in children: बच्चों के खेल-कूद पर आप रोक नहीं लगा सकते, चाहे आप कितना भी प्रयास क्यों न कर लें. खेल-कूद के लिए वे इधर से उधर घूमेंगे ही. इधर-उधर घूमने में सबसे ज्यादा जोखिम यह है कि वे कई बार इंफेक्शन के शिकार हो जाते हैं. इंफेक्शन में सबसे पहले सीने में दर्द की शिकायत होती है. मामूली इंफेक्शन में भी पैरेंट्स एंटीबायोटिक दवाइयां उन्हें दे देते हैं. अगर आप भी ऐसा करते हैं, तो सतर्क हो जाए, क्योंकि एक नई रिसर्च में दावा किया गया है कि एंटीबायोटिक दवाइयों से बच्चों में इंफेक्शन का कोई इलाज नहीं होता. डेलीमेल की खबर के अनुसार साउथंप्टन (Southampton University) के शोधकर्ताओं ने कहा है कि चेस्ट इंफेक्शन में बच्चों को एमोक्सीसिलिन (amoxicillin) जैसी एंटीबायोटिक दवाइयां देने से कोई फायदा नहीं पहुंचता. यह अध्ययन द लेंसेंट (The Lancet ) में प्रकाशित हुआ है.

    इसे भी पढ़ेंः कोरोना से ठीक हुए लोगों में लंबे वक्त तक रह सकते हैं थकान, डिप्रेशन सहित ये लक्षण – रिसर्च

    निमोनिया से पीड़ित बच्चों पर रिसर्च
    शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन के आधार पर डॉक्टरों को सलाह दी है कि वे छोटे बच्चों को एमोक्सीसिलिन न दें. उन्होंने कहा है कि आमतौर पर निमोनिया के लक्षण दिखते ही बच्चों को डॉक्टर एमोक्सीसिलिन दे देते हैं. उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए. शोधकर्ताओं ने चेस्ट इंफेक्शन से पीड़ित करीब 432 बच्चों पर एमोक्सीसिलिन के असर का परीक्षण किया. इनमें 6 साल से 12 साल के बच्चों को शामिल किया गया था. इन बच्चों में आधे को एमोक्सीसिलिन दी गई जबकि आधे बच्चे को प्लेसिबो दवा दी गई. जिन बच्चों को एमोक्सीसिलिन दवा दी गई, उनमें निमोनिया के लक्षण जाने में पांच दिन का समय लगा जबकि जिन बच्चों को प्लेसिबो (एमोक्सीसिलिन के बदले झूठी दवा जिससे न कोई नुकसान पहुंचता हो और न ही कोई फायदा.) दी गई, उनमें यह लक्षण जाने में छह दिनों का समय लगा. शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन्हें एमोक्सीसिलिन दी गई, वे भी और जिन्हें नहीं दी गई वे बच्चे भी लगभग एक ही समय में स्वस्थ्य हुए.

    इसे भी पढ़ेंः गुड़-चना साथ में खाने से सेहत को मिलता है दोगुना फायदा, जानें कैसे

    एमोक्सीसिलिन का कोई असर नहीं
    शोधकर्ताओं ने पाया कि चेस्ट इंफेक्शन में एमोक्सीसिलिन का बच्चों पर कोई क्लिनिकल फायदा नहीं है. उन्होंने कहा कि जिन बच्चों में इंफेक्शन जटिल नहीं है, उनमें भी डॉक्टर एमोक्सीसिलिन की सलाह देते हैं, लेकिन इससे इंफेक्शन सही होने की कोई संभावना नहीं है. शोधकर्ताओं ने कहा कि जब तक निमोनिया का संदेह है, तब तक डॉक्टरों को अन्य सुरक्षात्मक उपायों के बारे में सलाह देनी चाहिए. चेस्ट इंफेक्शन में ज्यादातर बच्चों को एंटीबायोटिक नहीं देनी चाहिए.

    Tags: Antibiotics, Health, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर