होम /न्यूज /जीवन शैली /टाइप-2 डायबिटीज के खतरे को आसानी से कम कर सकती हैं महिलाएं, जानें क्या है तरीका

टाइप-2 डायबिटीज के खतरे को आसानी से कम कर सकती हैं महिलाएं, जानें क्या है तरीका

जीवनशैली में कुछ परिवर्तनों के साथ महिलाएं डायबिटीज समेत कई बीमारियों के खतरे को कम कर सकती है.

जीवनशैली में कुछ परिवर्तनों के साथ महिलाएं डायबिटीज समेत कई बीमारियों के खतरे को कम कर सकती है.

Women Health, Diabetes in Women: महिलाएं टाइप-2 डायबिटीज की समस्या को कंट्रोल भी कर सकती हैं. शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

Women Health, Diabetes in Women:: वर्तमान समय में डायबिटीज एक सामान्य बीमारी बन गई है. पहले जहां यह बीमारी सिर्फ बुजुर्ग लोगों में ही सुनने को मिलती थी वहीं अब ये कम उम्र के युवाओं और महिलाओं में भी बड़ी आसानी से देखने को मिल रही है. वैसे तो डायबिटीज महिला और पुरुष दोनों को ही हो सकती है, लेकिन यह महिलाओं के ज्यादा हानिकार है. इसलिए जरूरी होता है कि जब भी मधुमेह से संबंधित लक्षण नजर आएं तो इसे इग्नोर न किया जाए.

डायबिटीज से महिलाओं को कई तरह की समस्याएं होती हैं. हालांकि महिलाएं इस समस्या को कंट्रोल भी कर सकती हैं. हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान मधुमेह का इतिहास रहा है वे एक हेल्दी लाइफस्टाइल को अपनाकर मधमेह की समस्या को कम कर सकती हैं.

जीवनशैली ्में करें ये बदलाव
स्टडी के मुताबिक डायबिटीज की क खतरे को कम करने के लिए महिलाओं को अपनी जीवनशैली में पांच बातों पर विशेषरूप से ध्यान देना चाहिए. स्वस्थ्य वजन, उच्च गुणवत्ता वाला आहार, रोजाना कुछ देर व्यायाम करना, शराब का सेवन कम करना और धूम्रपान न करना. परिणाम बताते हैं कि जिन महिलाओं ने इन बातों को अपनी लाइफस्टाइल में अपनाया उनमें डायबिटीजी का खतरा 90 प्रतिशत तक कम था. यह लाइस्टाइल उन लोगों में भी कारगर थी जो कि अधिक वजन से पेरशान थे या फिर आनुवांशिक तौर पर टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम में थे.

शोध के लिए 4 हजार से अधिक महिलाओं का चुनाव
वैसे तो अच्छी हेल्थ के लिए एक स्वस्थ जीवन शैली जरूरी है और यह हमें डायबिटीज के साथ साथ कई अन्य बीमारियों से लड़ने में भी मदद करती है. लेकिन क्या यह गर्भावस्था के दौरान मधमेह के इतिहास वाली महिलाओं पर भी लागू होता है इस बारे में कम ही जाना जाता है. शोधकर्ताओं ने अपनी स्टडी के लिए 4,275 ऐसी महिलाओं को चुना जिनका गर्भावस्था के दौरान मधुमेह का इतिहास था.

World Environmental Health Day 2022: पर्यावरण को स्वस्थ बनाने में दें अपना योगदान, अपनाएं ये खास टिप्स

अधिक वजन वाली महिलाओं में भी कारगर
रिसर्च में 28 वर्षों में हुए बदलाव को मापा गया. इन 28 वर्षों में 924 महिलाओं ने टाइप 2 डाइबिटीज से ग्रसित हुईं, जबकि अन्य सभी महिलाओं जिन्होंने उन सभी पांच नियमों का विशेषतौर पर पालन किया उनमें टाइप 2 मधुमेह का खतरा 90 प्रतिशत से ज्यादा जोखिम कम था. मधुमेह के लिए जिम्मेदार कारकों में बदलाव का असर उन महिलाओं में भी दिखा जो कि मोटापे और अधिक वजन से ग्रस्त थीं.

हालांकि शोधकर्ताओं ने का कहना है कि यह एक अध्ययन मात्र है इसलिए कारण स्पष्ट नहीं है जीवनशैली किस तरह से महिलाओं में टाइप-2 डाबिटीज के खतरे को कम करती है. शोधकर्ता स्वीकार करते हैं कि डेटा व्यक्तिगत रिपोर्टों पर निर्भर करता है, जिसने सटीकता को प्रभावित किया हो सकता है. शोधकर्ताओं का कहना है कि उनका अध्ययन “इस उच्च जोखिम वाली आबादी में टाइप 2 मधुमेह की रोकथाम के लिए महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य अवसर पर प्रकाश डालता है.

Tags: Diabetes, Health, Lifestyle, Women Health

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें