बर्फ करेगी दर्द को दूर, जानिए सेहत से जुड़े 6 फायदे

बर्फ करेगी दर्द को दूर, जानिए सेहत से जुड़े 6 फायदे
बर्फ की सिकाई का उपयोग कई समस्याओं में किया जा सकता है.

बर्फ (Ice) के ढेरों फायदे हैं. बर्फ दर्द, सूजन और यहां तक की दांत के दर्द (Toothache) को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है.

  • Last Updated: July 21, 2020, 6:48 AM IST
  • Share this:


बर्फ का नाम सुनने पर लोगों के दिमाग में आइसक्रीम, बर्फ का गोला, बर्फ वाली कैंडी या शरबत में आइस क्यूब्स (Ice Cubes) की छवि आती है, लेकिन बर्फ (Ice) का काम केवल इतना नहीं है. खाने-पीने के इस्तेमाल के अलावा बर्फ के और भी ढेरों फायदे हैं. बर्फ दर्द, सूजन और यहां तक की दांत के दर्द (Toothache) को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है.

myUpchar से जुड़ीं डॉ. मेधावी अग्रवाल का कहना है कि बर्फ की सिकाई का उपयोग कई समस्याओं में किया जा सकता है. ये कई स्थितियों के लिए लाभदायक होता है. शरीर के किसी भी हिस्से में ठंडी सिकाई का इस्तेमाल कर सकते हैं. हालांकि नवजात शिशुओं पर बर्फ की सिकाई की सलाह नहीं दी जाती है.



सूजन को कम करती है बर्फ
गर्दन या मांसपेशियों में सूजन से पीड़ित हैं, तो दर्द और सूजन से राहत के लिए प्रभावित क्षेत्र पर आइस पैक लगाएं. यह उपाय रक्त वाहिकाओं को संकुचित करता है, जिससे शरीर की सूजन कम हो जाती है. myUpchar से जड़े डॉ. लक्ष्मीदत्त शुक्ला का कहना है कि किसी तरह की चोट लगी हो तो पहले 72 घंटों में सूजन को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है कोल्ड कॉन्ट्रेक्शन का इस्तेमाल. ठंडा तापमान तंत्रिकाओं पर एक सुन्न प्रभाव डालता है जो बदले में सूजन को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इसके लिए एक कपड़े में चार से पांच बर्फ के टुकड़े लपेटें और इसे प्रभावित क्षेत्र पर कम से कम 20 मिनट तक रखें और इस प्रक्रिया को हर घंटे दोहराएं. त्वचा पर सीधे बर्फ न लगाएं, क्योंकि इससे फ्रॉस्टबाइट हो सकता है.

दर्द से राहत मिलना
इंजेक्शन के कारण मांसपेशियों में ऐंठन हो या दर्द, प्रभावित क्षेत्र पर आइस पैक लगाने से दर्द और परेशानी कम हो जाती है. यह सूजन को कम करने के साथ और उस प्रभावित क्षेत्र में ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करके दर्द का मुकाबला करने में मदद करता है. टीकाकरण के कारण होने वाले दर्द के लिए, एक आइस क्यूब लें और इसे अपनी हथेली पर रगड़ें और क्षेत्र पर अपना हाथ रखें. मांसपेशियों में दर्द के लिए, प्रभावित क्षेत्र पर आइस-क्यूब रगड़ें. बेहतर परिणाम के लिए दो से तीन दिनों तक दिन में कम से कम तीन बार ऐसा करें.

पाइल्स के इलाज में मदद करती है बर्फ
पाइल्स से पीड़ित लोग गुदा में दर्द और असुविधा को कम करने के लिए बर्फ का इस्तेमाल कर सकते हैं. आइस पैक सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं लेकिन इसे सीधे अप्लाई न करें. कुछ आइस क्यूब्स के टुकड़ें करें और इसे प्लास्टिक बैग या शीट में लपेटें. इसे एक साफ कपड़े में लपेटें. अब अपनी पीठ के बल पर आरामदायक स्थिति में लेट जाएं और प्रभावित हिस्से पर लगाएं. जब भी दर्द महसूस हो तब अधिकतम 10 मिनट के लिए ऐसा करें.

टैन और सनबर्न दूर करती है बर्फ
बर्फ के टुकड़े त्वचा को हाइड्रेट भी करते हैं. ऐसा इसलिए है क्योंकि बर्फ में पानी होता है जो त्वचा पर लगाने पर दर्द और सूजन को कम करता है. यही नहीं myUpchar से जुड़ीं डॉ. अप्रतिम गोयल का कहना है कि धूप में ज्यादा समय तक रहते हैं तो चेहरे पर एलोवेरा वाले आइस क्यूब्स लगाएं. ऐलोवेरा का शीतल प्रभाव सनबर्न पर असर दिखाएगा. ज्यादा राहत पाने के लिए शरीर के अन्य भागों पर भी क्यूब्स रगड़ सकते हैं. अगर एलोवेरा नहीं है तो खीरे के रस से बने आईस क्यूब्स को चेहरे और त्वचा पर रगड़ें. सनबर्न से तुरंत राहत पाने के लिए आइस क्यूब पर गुलाब जल डालकर त्वचा पर रगड़ें.

दांत दर्द को कम करती है बर्फ
बर्फ दांत दर्द से राहत दिला सकती है. संवेदनशील क्षेत्र पर आइस क्यूब लगाने से कुछ समय के लिए नसों और मसूड़ों को निष्क्रिय कर देता है और राहत देता है. एक कपड़े में एक आइस क्यूब लपेटें और इसे अपने गाल पर कुछ मिनटों के लिए रखें. सीधे दांत पर बर्फ भी लगा सकते हैं. हालांकि यह काफी दर्दनाक हो सकता है.

ये भी पढ़ें - यूरिक एसिड बढ़ने से हो सकता है ये खतरा, जानें कम करने के घरेलू उपाय

काले घेरों को कम करती है बर्फ
बर्फ की मदद से डार्क सर्कल्स के साथ-साथ आंखों की सूजन का भी प्रभावी तरीके से इलाज किया जा सकता है. यह रक्त वाहिकाओं को संकुचित करता है, त्वचा में कसावट रखते हुए कालापन कम करता है. यह त्वचा को मॉइस्चराइज करके इसकी डलनेस भी दूर करती है. बर्फ के पानी में लैवेंडर ऑयल की कुछ बूंदें डालें और इस सॉल्यूशन को कॉटन की मदद से काले घेरों पर लगाएं. जल्दी राहत के लिए नियमित रूप से ऐसा करें.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, बर्फ से सिकाई कैसे करते हैं पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज