होम /न्यूज /जीवन शैली /

किस पोजीशन में सोने पर खाना सही से पचता है? जानिए यहां

किस पोजीशन में सोने पर खाना सही से पचता है? जानिए यहां

सोने का तरीका भी सेहत को प्रभावित करता है. (Image-Canva)

सोने का तरीका भी सेहत को प्रभावित करता है. (Image-Canva)

अगर रात में करवट बदलते रहने की आदत है तो यह जानना काफी आवश्यक है कि कौन सी साइड मुंह करके सोना बेस्ट रहता है क्योंकि कई बार सोने की पोजिशन से भी पाचन पर प्रभाव पड़ता है.

हाइलाइट्स

सही तरह सोने से हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल किया जा सकता है.
सही पोजिशन में सोने से दिल की बीमारियों का रिस्क कम हो सकता है.

Best Sleeping Position: हमारा सोना भी पूरे शरीर को प्रभावित कर सकता है. यह बात तो जानते ही होंगे कि रेस्ट और नींद की शरीर को कितनी जरूरत होती है. लेकिन शरीर अच्छी तरह से काम कर सके और खास कर पाचन अच्छी तरह से हो पाए, यह बात हम किस तरफ सोते हैं या किस पोजिशन में सोते हैं, इससे भी प्रभावित हो सकती है. रात में सभी बार-बार करवट बदलते रहते हैं. लेकिन कई बार किसी एक करवट में सोने के कारण हमारी गर्दन और कमर में दर्द होने लगता है और बाद में हम इस दर्द का कारण पता लगाने की कोशिश करते रहते हैं. इसलिए आपको सोने की सही करवट का पता कर लेना चाहिए ताकि शरीर में किसी तरह की तकलीफ न देखने को मिल सके.

आइए जानते हैं कि रात को सोते समय किस करवट में मुंह करके सोना है बेहतर ताकि पाचन अच्छे से हो पाए और शरीर भी स्वस्थ रह सके.

किस करवट में सोना है बेस्ट?

हेल्थलाइन के मुताबिक अगर बाएं ओर मुंह करके सोते हैं तो इस करवट को बेस्ट माना जाता है क्योंकि ऐसा करने से शरीर भी रिलैक्स होता है और बहुत सारे लाभ भी देखने को मिल सकते हैं.

ये भी पढ़ें: विटामिन A और B12 की कमी से हो सकते हैं अंधेपन का शिकार, बचने के लिए डाइट में शामिल करें ये फूड्स

बाएं करवट में सोने से मिलने वाले लाभ

-इससे पेट की सेहत में सुधार देखने को मिलता है और अगर अक्सर पेट खराब या पाचन न होने जैसी समस्या से परेशान रहते हैं तो बाएं ओर करवट में सो कर देखें. इससे पाचन में काफी सुधार देखने को मिल सकता है.

-हार्ट बर्न, कब्ज और पेट फूलने जैसी समस्याओं से राहत पाई जा सकती है.
-गठिया के दर्द में थोड़ा आराम मिल सकता है.

इसे भी पढ़ें : कब्‍ज की समस्‍या से रहते हैं परेशान, तो इन 5 नेचुरल स्‍टूल सॉफ्टनर का करें इस्‍तेमाल

-हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को भी बीपी लेवल कम करने में लाभ मिल सकता है.
-डायबिटीज और हार्ट अटैक जैसी बीमारियों का रिस्क कम किया जा सकता है.

Tags: Better sleep, Health, Lifestyle

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर