Periods Guide: बड़ी होती बेटी को इस तरह समझाएं पहले पीरियड्स के बारे में सबकुछ

News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 1:59 PM IST
Periods Guide: बड़ी होती बेटी को इस तरह समझाएं पहले पीरियड्स के बारे में सबकुछ
जवान होती बेटी को इस तरह समझाएं पहले पीरियड्स के बारे में सबकुछ, ये हैं पीरियड्स Guide

मां की जिम्मेदारी है कि बड़ी होती बेटी को उसके शरीर में आने वाले बदलाव के बारे में पहले से ही आगाह करें और ये भी बताएं कि वो पीरियड्स को कैसे डील करे ताकि ऐन वक्त पर आपकी बेटी को कोई घबराहट न हो.

  • Share this:
पीरियड्स प्रॉब्लम से हर लड़की को गुजरना ही पड़ता है. काफी लंबे समय से लोग इस पर बात करने से हिचकिचाते हैं और इसे शर्मिंदगी का विषय माना जाता है. लड़कियों को जब पहली बार पीरियड्स आते हैं तो जानकारी के अभाव में वो काफी, तनावग्रस्त हो जाती है. इस स्थिति में एक मां की जिम्मेदारी है कि बड़ी होती बेटी को उसके शरीर में आने वाले बदलाव के बारे में पहले से ही आगाह करें और ये भी बताएं कि कैसे वो इसे डील करे ताकि ऐन वक्त पर आपकी बेटी को कोई घबराहट न हो. आइए जानते हैं कि किस तरह से आप अपनी बेटी को गाइड कर सकते हैं:

बेटी जब उम्र के दसवें पड़ाव में कदम रखे तो उसे उसके शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव और पीरियड्स के बारे में विस्तार से समझाएं. पीरियड्स की शुरुआत 10 से 10 साल की उम्र के बीच में ही होती है. मां बड़ी होती बेटी की सबसे अच्छी दोस्त होती है जो उसके सबसे करीब होती है. आपके समझाने पर वो शरीर में आने वाले इन बदलावों को लेकर सहज हो जाएगी.

डेंगू बुखार से राहत के लिए खाएं ये खास फल, बढ़ेगी प्लेटलेट्स

पीरियड्स को लेकर कई ऐसी बातें होती हैं जो केवल भ्रामक होती हैं. ऐसा भी हो सकता है कि बेटी आपके समझाने पर कई तरह के सवाल पूछे जिसे सुनकर आपको खीज महसूस हो. लेकिन गुस्सा होने के बजाए उसे जीवन के इस बदलाव के बारे में प्यार से समझाएं.

बेटी को समझाएं कि पीरियड्स के दौरान साफ-सफाई का ख्याल रखना कितना जरूरी है नहीं तो इन्फेक्शन का खतरा बना रहता है. साथ ही इससे जुड़ी हर जानकारी उससे साझा करने में हिचकिचाएं नहीं.

इसलिए लड़के नहीं निभा पाते रिश्ता, कर लेते हैं ब्रेकअप!

बेटी को पीरियड्स से पहले होने वाली दौरान थकान, पेट दर्द और बदन दर्द के बारे में बताएं. उसे मूड स्विंग्स के बारे में भी बताएं. बिटिया को बताएं कि पीरियड्स का टाइम क्या हो सकता है और उसका अंतराल क्या होता है.
Loading...

बेटी को सैनिटरी नैपकिन (पैड्स) के बारे में जानकारी दें और उसे बताएं कि हाइजीन के तहत दिन में कम से कम 3 या 4 पैड चेंज करने चाहिए. आप चाहें तो उसे ये भी बता सकती हैं कि कौन सा पैड उसके लिए बेस्ट रहेगा.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रिश्ते से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 19, 2019, 10:22 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...