क्या बाल झड़ने और कोविड-19 संक्रमण का आपस में है संबंध?

जब बाल झड़ते हैं तो सिर की त्वचा पर गोल आकार के पैचेस (धब्बे) पड़ने लगते हैं.
जब बाल झड़ते हैं तो सिर की त्वचा पर गोल आकार के पैचेस (धब्बे) पड़ने लगते हैं.

एंड्रोजन या पुरुष हार्मोन (Hormone) निश्चित रूप से कोरोना वायरस (Coronavirus) के लिए कोशिकाओं में प्रवेश करने का रास्ता है.

  • Last Updated: September 18, 2020, 6:53 AM IST
  • Share this:


रोजाना लगभग 100 बाल झड़ना आम बात है, लेकिन बाल (Hairs) सामान्य से ज्यादा झड़ते हैं तो व्यक्ति गंजेपन का शिकार हो सकता है. इस स्थिति को एलोपेसिया कहते हैं. एक शोध के मुताबिक, यह स्थिति महिलाओं की तुलना में, पुरुषों में ज्यादा देखने को मिलती है. अब कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के माहौल में गंजापन पुरुषों के लिए जोखिम भरा हो सकता है. हाल ही में हुए एक शोध में सामने आया है कि वे पुरुष जो गंजेपन के शिकार हैं, उनमें कोविड-19 संक्रमण का खतरा ज्यादा है. हॉर्मोन एंड्रोजन पुरुषों में बालों के झड़ने का कारण बनता है. स्पेन के अस्पतालों में कोविड-19 को लेकर हुए अध्ययन में इसके गंभीर केस सामने आए हैं.

अमेरिका के ब्राउन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के मुताबिक, एंड्रोजन या पुरुष हार्मोन निश्चित रूप से कोरोना वायरस के लिए कोशिकाओं में प्रवेश करने का रास्ता है. दो अध्ययनों में गंजेपन और कोविड-19 के बीच संबंध पाया गया तथा दोनों में एक जैसे रिजल्ट नजर आए हैं. 122 मरीजों के एक अध्ययन में मैड्रिड के तीन अस्पतालों में पॉजिटिव टेस्ट वाले 79 फीसदी पुरुष गंजे थे. यह अध्ययन जर्नल ऑफ द अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी में प्रकाशित हुआ है.



स्पेन में 41 रोगियों के पहले के अध्ययन में 71 प्रतिशत गंजे पाए गए. हालांकि, अपेक्षाकृत छोटे पैमाने के अध्ययन थे और वैज्ञानिकों का मानना है कि पुख्ता तौर पर किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले इस पर अधिक काम करने की आवश्यकता है. शोधकर्ताओं ने खुलासा किया कि पुरुषों का हार्मोन एंड्रोजन दवाओं को असर नहीं करने देता है, जिससे कोविड-19 के मरीजों के ठीक होने की दर धीमी हो जाती है.
इटली के वेनेटो में 9,280 रोगियों के एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि प्रोस्टेट कैंसर वाले पुरुष केवल एक चौथाई थे, उनके कोविड-19 संक्रमित होने की आशंका अधिक थी. ये रोगी एंड्रोजन की कमी का इलाज करवा रहे थे. myUpchar के अनुसार एलोपेसिया की समस्या आनुवंशिक स्थिति की वजह से भी होती है और इसे ऑटोइम्यून डिसीज में वर्गीकृत किया गया है.

इसका मतलब यह है कि शरीर का इम्यून सिस्टम बालों पर हमला करना शुरू कर देता है. इससे बाल झड़ना शुरू हो जाते हैं. इस स्थिति में बालों का झड़ना भी कई प्रकार से हो सकता है. जब बाल झड़ते हैं तो सिर की त्वचा पर गोल आकार के पैचेस (धब्बे) पड़ने लगते हैं. बाल कहीं ज्यादा तो कहीं कम झड़ते हैं. वहीं एक अन्य स्थिति बाल सिर की त्वचा से पूरी तरह से झड़ जाते हैं.

myUpchar के अनुसार, पुरुषों में गंजापन उम्र के हिसाब से भी हो सकता है. 60 साल की उम्र के बाद 3 में से लगभग 2 पुरुषों को गंजेपन की समस्या हो जाती है. ज्यादातर बार पुरुषों में बाल झड़ने की समस्या मेल पैटर्न बाल्डनेस के कारण होती है. इस तरह से गंजेपन की समस्या, जीन और हार्मोन के मिलने से भी होती है. कुल मिलाकर अध्ययन यही संकेत देता है कि कोरोना वायरस के खिलाफ जिस तरह बच्चों, बुजुर्गों और कमजोर इम्युनिटी वालों को अतिरिक्त सावधान रहने को कहा गया है, उसी तरह यदि इस समय अचानक बाल झड़ना शुरू होते हैं, तो डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, गंजापन दूर करने के घरेलू उपाय पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है.  myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज