होम /न्यूज /जीवन शैली /पाचन से लेकर माइग्रेन तक की समस्या से राहत दिलाती है जलनेति, जानें इसके और फायदे

पाचन से लेकर माइग्रेन तक की समस्या से राहत दिलाती है जलनेति, जानें इसके और फायदे

जलनेति करने से चिड़चिड़ापन कम होता है Image/canva

जलनेति करने से चिड़चिड़ापन कम होता है Image/canva

योग हमें स्वस्थ जीवन जीने का रास्ता बताती है. अपनी रूटीन में योग को शामिल कर हम कई समस्याओं से बच सकते हैं. इन्हीं योगि ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

जलनेति करने से पहले नेति पॉट को साफ करना ज़रूरी है
जलनेति एक्सपर्ट की निगरानी में ही करें

Benefits Of Jal Neti : प्राचीन काल से ही भारत में योग एक ऐसे ज्ञान के रूप में प्रचलित है, जो व्यक्ति को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ बनाता है. योग में कई ऐसी क्रियाएं हैं, जो बीमारियों से दूर रखने के लिए उपयोगी मानी जाती है. उन्हीं में से एक प्रक्रिया है जलनेति. जलनेति का इस्तेमाल व्यक्ति को कई तरह के  रोगों से दूर रखता है.

इस क्रिया के अंदर आप नाक के एक नथुने में पानी डालते हैं और दूसरे नथुने से इस पानी को बाहर निकालते हैं. यह क्रिया बारी-बारी से नाक के दोनों छेद में की जाती है. इससे सांस लेने में कोई समस्या नहीं होती है. जैसे ब्रश की मदद से दांत साफ होते हैं, वैसे ही जलनेति में पानी की मदद से नाक साफ की जाती है. आइए जानते है जल नेति से होने वाले फायदों के बारे में.

मेडिक्सजोन में छपी रिपोर्ट के मुताबिक जलनेति का सबसे बड़ा फायदा यही है कि इसे रोजाना करने से नाक साफ रहती है. इसकी मदद से नाक के बलगम के साथ-साथ बैक्टीरिया बाहर निकल जाते हैं, जिससे कई समस्याओं से  छुटकारा मिलता है.

इसे भी पढ़ें: कमर दर्द से छुटकारा दिलाएगी एक चुटकी अजवाइन, बस ऐसे करें इस्तेमाल!

– अगर आपको माइग्रेन की समस्या है और इसके लिए लोग दवाईयों का सहारा लेते हैं, तो आप जलनेति भी ट्राई कर सकते हैं. माइग्रेन से राहत पाने के लिए इसे ट्राई कर सकते हैं. इसके अलावा उन्हें साइनसाइटिस से भी छुटकारा मिल सकता है.

-जलनेति की क्रिया अस्थमा रोगियों के लिए काफी फायदेमंद मानी जाती है. इस क्रिया के उपयोग से अस्थमा के रोगियों को सांस लेने में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होती है. साथ ही जलनेति क्रिया को नियमित करने वाले व्यक्ति आंख, कान और नाक के संक्रमण से बचे रहते हैं.

इसे भी पढ़ें:  अपना लें ये 7 तरीके, पुराना कमर दर्द भी हो जाएगा छूमंतर

– जलनेति आपकी अपर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट की सफाई करती है, जिससे इससे होने वाली सामान्य समस्याएं जैसे गले में खराश, टॉन्सिल्स या सूखी खांसी आदि से आराम मिलता है.

– जलनेति पेट के लिए भी बेहतर माना जाता है, इससे पाचन क्रिया में सुधार आता है. इसका प्रभाव हमारे नर्वस सिस्टम और दिमाग पर भी पड़ता है. इसे क्रिया को करने से तनाव दूर होता है और दिमाग को शांति मिलती है. इसे रोज करने से क्रोध और चिड़चिड़ापन दूर होता है.

Tags: Health, Home Remedies, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें