होम /न्यूज /जीवन शैली /एल्यूमिनियम के बर्तनों में खाना बनाना कितना सही? जानिए ताकि सेहत रहे दुरुस्त

एल्यूमिनियम के बर्तनों में खाना बनाना कितना सही? जानिए ताकि सेहत रहे दुरुस्त

एल्यूमिनियम बर्तनों के साइड इफेक्ट्स (image -canva)

एल्यूमिनियम बर्तनों के साइड इफेक्ट्स (image -canva)

Aluminium - एल्यूमिनियम के बर्तन सस्ते और टिकाऊ होते हैं, लेकिन बीमारियों का कारण भी बन सकते हैं. एल्यूमिनियम के कारण ए ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

एल्यूमिनियम के बर्तन सस्ते और टिकाऊ होने से ज्यादा उपयोग होने लगे हैं.
खाना बनाने के लिए एल्यूमिनियम के बर्तन का इस्तेमाल महंगा पड़ सकता है.
खाना बनाने के लिए एनोडाइज्ड एल्यूमिनियम बर्तनों का प्रयोग किया जा सकता हैं.

Side Effects of Aluminium Utensils: एल्यूमिनियम बर्तनों के लिए यूज होने वाला सबसे आम मेटल है. अक्सर घरों में एल्यूमिनियम के बर्तनों में ही खाना बनाया जाता है. दुनियाभर में लगभग 60% बर्तन एल्यूमिनियम से बनाए जाते हैं. इसके आम होने का कारण इसके हेल्थ बेनिफिट्स नहीं, बल्कि इसकी क्वॉलिटी है जो सस्ती और टिकाऊ होती है, साथ ही ये अच्छे हीट कंडक्टर होते हैं जिससे इसमें खाना बनाना आसान होता है. खाना बनाने के साथ ही खाना पैक करने के लिए भी एल्यूमिनियम फॉयल को उपयोग में लाया जाता है. ऐसे में जानने वाली बात ये है की, क्या एल्यूमिनियम के बर्तनों में बना खाना बॉडी के लिए हेल्दी होता है? खाने से बॉडी को एनर्जी और न्यूट्रिशन मिलता है, जिन बर्तनों में खाना बनता है वो स्वाद और सेहत दोनों पर असर डालते हैं. एल्यूमिनियम का बर्तनों में होने वाला यूज हमेशा सवालों के घेरे में रहा है. आइए जानते हैं क्या एल्यूमिनियम में बना खाना सेहतमंद होता है.

एल्यूमिनियम के बर्तनों में भोजन बनाने से पहले जान लें –
एल्यूमिनियम लीचिंग –
एनसीबीआइ के अनुसार बॉडी के लिए केवल 0.01-1% एल्यूमिनियम कंज्यूम करना सही होता है. एल्यूमिनियम ज्यादा यूज के बाद बर्तनों से छूटता-बहता है और खाने के साथ व्यक्ति के पेट में चला जाता है. ये बॉडी में एनीमिया, डिमेंटिया और ओस्टो-मलासिया जैसी कई हेल्थ प्रॉब्लम्स की जड़ बन सकता है.

सेल्स पर प्रभाव –
एल्यूमिनियम का सेवन बॉडी सेल्स और टिश्यूज पर भी असर डालता है. ये धीरे-धीरे सेल्स में जमा होने लगता है जिससे टिश्यूज के काम में गड़बड़ियां होने लगती हैं. पहले से बीमार लोगों के लिए ये ज्यादा खतरनाक बन सकता है.

एसिड से रिएक्शन –
एल्यूमिनियम एसिड, खाने की खट्टी चीजों और पत्तेदार सब्ज़ियों से रिएक्ट करता है. ये रिएक्शन खाने में एल्यूमिनियम का लेवल बढ़ा देती है और बड़ी परेशानी बन सकती है, इसके कारण बॉडी में जिंक का लेवल भी कम होने लगता है जो हड़्डियों और ब्रेन के लिए ज़रूरी है.

इम्यून सिस्टम –
एल्यूमिनियम का सेवन बॉडी के इम्यून सिस्टम को भी कमज़ोर करता है. इसी कमज़ोर इम्युनिटी के कारण बीमारियां धीरे-धीरे व्यक्ति को जकड़ने लगती हैं.
खाना बनाने के लिए एनोडाइज्ड एल्यूमिनियम बर्तनों का प्रयोग किया जा सकता हैं. ये एल्यूमिनियम जैसे ही गुण देता है और स्वास्थ्य का साथ भी बनाए रखता है.

यह भी पढ़ेंः कोल्ड ड्रिंक की कैन में 10 चम्मच चीनी? कहीं डायबिटीज का शिकार न हो जाएं

ये भी पढ़ें: चाहते हैं कि बच्चों का बढ़े वजन, तो उनकी डाइट में शामिल करें ये चीजें

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें