क्या सेहत के लिए बेहतर है शाकाहार? जानिए रोचक जानकारी

शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर ठीक तरीके से साग-सब्जियों का सेवन किया जाए तो यह सेहत के लिए काफी फायदेमंद है.

News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 12:55 PM IST
क्या सेहत के लिए बेहतर है शाकाहार? जानिए रोचक जानकारी
क्या सेहत के लिए बेहतर है शाकाहार? जानिए रोचक जानकारी
News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 12:55 PM IST
पशु प्रेम के चलते आज के समय में शाकाहार चलन में है. साल 2008, में यूनाइटेड किंगडम (UK) में 350 फीसदी ऐसे लोग थे जो शाकाहार के फायदे के बारे में लोगों को जागरुक कर रहे थे. शाकाहार के लिए लोगों की वजह अलग अलग हो सकती है लेकिन इसमें कहीं न कहीं पर्यावरण के प्रति प्रेम, धार्मिक विश्वास और पशु प्रेम भी एक कारण है. ज्यादातर लोग स्वस्थ रहने के लिए अच्छी डायट लेना पसंद करते हैं. शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर ठीक तरीके से साग-सब्जियों का सेवन किया जाए तो यह सेहत के लिए काफी फायदेमंद है. आइए जानते हैं किस तरह से शाकारी डायट आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है.

शुरुआती कुछ हफ़्तों में:
अगर आपने भी शाकाहारी डायट की शुरुआत की है तो शरीर में काफी ऊर्जा और स्फूर्ति का एहसास होता है. इससे आपके शरीर को विटामिन, मिनरल और उचित मात्रा में फाइबर मिलता रहता है. जैसे जैसे समय बीतता जाएगा आप महसूस करेंगे कि इससे आपकी सेहत में काफी सकारात्मक बदलाव आ रहे हैं और आपको पेट से जुड़ी कई परेशानियों से राहत मिलती जा रही है.

इसे भी पढ़ें: पेट की चर्बी छुपाने में मदद करेंगे ये कपड़े

तीन से छह महीने बाद:
शाकाहारी डायट लेने के कुछ महीने बाद आप यह देखेंगे कि आपके चेहरे पर कील मुहांसे कम होते जा रहे हैं. हालांकि ऐसा सबके साथ नहीं होगा. इस स्टेज पर आपकी बॉडी में विटामिन डी की कमी हो सकती है. इसकी वजह है कि आपने मांसाहार छोड़ दिया है. हड्डियों, दांतों और मसल्स की मजबूती के लिए विटामिन डी काफी आवश्यक है. इसकी कमी से कैंसर, दिल के रोग, माइग्रेन और तनाव जैसे रोग हो सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: अंक भी करते हैं चमत्कार! क्या बदल कर रख देते हैं भाग्य?
Loading...


छह माह से लेकर कई साल बाद तक:
एक साल तक वेज डायट फॉलो करने पर, शरीर में विटामिन डी की मात्रा कम हो सकती है. यह पोषक तत्व रकत के सही बहाव और नर्व सेल (तंत्रिका कोशिकाओं) के ठीक तरीके से काम करने के लिए जिम्मेदार हैं. विटामिन बी-12 अधिकतर एनिमल प्रोडक्ट्स में ही पाया जाता है. इसकी कमी से सांस लेने में तकलीफ, थकान, कमजोर याददाश्त और हाथ और पैरों में कंपकपाहट जैसी समस्या हो सकती है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 30, 2019, 12:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...