जानें किन कारणों से होता है एड़ी का दर्द, ऐसे पाएं राहत

एड़ी के दर्द से बचने के लिए उन पर पड़ने वाले दबाव को कम करना जरूरी है.
एड़ी के दर्द से बचने के लिए उन पर पड़ने वाले दबाव को कम करना जरूरी है.

आमतौर पर एड़ी (Heels) के नीचे या इसके पीछे दर्द होता है. चोट, मोच, फ्रैक्चर आदि एड़ी में दर्द की वजह बनते हैं.

  • Last Updated: October 22, 2020, 2:24 PM IST
  • Share this:


मानव की एड़ी (Heels) की संरचना इस तरह की होती है कि वह आराम से शरीर का वजन (Weight) उठा सके. चलते या दौड़ते समय यह पैर पर पड़ने वाले दबाव को सोंख लेती है जिसके कारण व्यक्ति आगे बढ़ पाता है. एड़ी का दर्द अब एक आम समस्या बन चुका है. कई मामलों में तो एड़ी का दर्द गंभीर और असहनीय होता है, लेकिन स्वास्थ्य के लिए कोई खतरा पैदा नहीं करता है. एड़ी के दर्द की वजह से असहजता बनी रहती है और दैनिक गतिविधियों में रुकावट पैदा हो सकती है. एड़ी का दर्द आमतौर पर हल्का होता है और अपने आप ठीक हो जाता है. हालांकि, कुछ मामलों में दर्द निरंतर और लंबे समय तक बना रह सकता है.

एड़ी के दर्द के कारण और लक्षण



myUpchar के अनुसार पीड़ित को आमतौर पर एड़ी के नीचे या इसके पीछे दर्द होता है. चोट, मोच, फ्रैक्चर आदि एड़ी में दर्द की वजह बनते हैं. कई चिकित्सीय स्थितियां भी एड़ी के दर्द का कारण बनती है जिसमें आर्थराइटिस, टेन्डिनाइटिस, बर्साइटिस, फाइब्रोमाएल्जिया, गाउट, हील स्पर्स, प्लांटर फेसाइटिस आदि शामिल हैं. एड़ी के दर्द में तब डॉक्टर को दिखाना जरूरी होता है जब दर्द के साथ-साथ एड़ी में सुन्नता, झनझनाहट या बुखार हो, एड़ी का दर्द एक सप्ताह से ज्यादा समय तक जारी रहे, एड़ी के पास सूजन और गंभीर दर्द हो. कुछ मामलों में डॉक्टर ब्लड टेस्ट और इमेजिंग स्कैन भी करवाते हैं. दर्द किस कारण से है यह जानकर डॉक्टर उपचार देते है.
अपनाएं ये उपाय

दर्द होने पर कुछ चीजों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है. ऐसे समय में एड़ी को पर्याप्त आराम दें, आरामदायक फुटवियर पहनें, ज्यादा लंबे समय तक खड़े न रहें, सख्त जमीन पर नंगे पैर न चलें, ऊंची एड़ी के जूते पहनने से बचें. इसके अलावा कुछ घरेलू उपाय भी कारगर हो सकते हैं. myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि टेन्डिनाइटिस, प्लांटर फेसाइटिस और बोन स्पर की वजह से होने वाले दर्द में बर्फ लगाने से राहत मिलती है. बर्फ लगाने से प्रभावित क्षेत्र सुन्न हो जाता है, जिससे दर्द और सूजन कम होता है. प्रभावित क्षेत्रों पर जैतून, नारियल, तिल या सरसों के तेल से मसाज करने से राहत मिलती है.

ऐसे करें बचाव

बेहतर होगा कि एड़ी के दर्द से बचने के लिए कुछ उपाय अपना लिए जाएं. एड़ी के दर्द से बचने के लिए उन पर पड़ने वाले दबाव को कम करना जरूरी है. ख्याल रखें कि खेल के दौरान अच्छी किस्म के जूते पहनें हो. जूते पैरों के अनुकूल हों और उनका सोल आरामदायक हो. ज्यादा वजन वाले व्यक्ति का चलते या भागते हुए एड़ी पर ज्यादा दबाव पड़ता है. ऐसे में वजन घटाने की कोशिश करें.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, एड़ी में दर्द के घरेलू उपाय पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज