होम /न्यूज /जीवन शैली /देर रात खाने की आदत से हो सकते हैं ओबेसिटी के शिकार, जानें इसकी वजह

देर रात खाने की आदत से हो सकते हैं ओबेसिटी के शिकार, जानें इसकी वजह

देर रात खाना खाते हैं तो इससे आपका वजन तेजी से बढ़ सकता है. Image : Canva

देर रात खाना खाते हैं तो इससे आपका वजन तेजी से बढ़ सकता है. Image : Canva

देर से खाने से वसा (वसा) ऊतक में एनर्जी की खपत, भूख और आणविक मार्ग प्रभावित होता है. इसके अलावा, देर से खाने से जल्दी ख ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

देर से भोजन करने से भूख बढ़ाने वाले हार्मोन एक्टिव हो जाते हैं.
देर से खाने से भूख लगने की संभावना भी दोगुनी हो जाती है.

Late Night Eating Can Increase Weight: दुनियाभर में ओबेसिटी की समस्‍या से लोग परेशान हैं. मोटापे की वजह से लोग तरह तरह की बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं. इसकी वजह से डायबिटीज और हार्ट डिजीज जैसी गंभीर जानलेवा बीम‍ारियां हो रही हैं और ये मौत का कारण भी बन रही हैं. ऐसे में वजन को कंट्रोल करने के लिए लोग डाइट कंट्रोल करते हैं और वर्कआउट करते हैं. लेकिन तमाम कोशिशों के बाद भी वजन है कि घटने का नाम नहीं लेता. एक नए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि अगर आप वजन को कम रखना चाहते हैं तो देर रात खाने से बचें. क्‍योंकि जब आप देर रात खाना खाते हैं तो इससे आपका वजन तेजी से बढ़ सकता है.

शोधकर्ताओं ने क्‍या पाया गया
मेडिकल न्‍यूज टुडे के मुताबिक, ब्रिघम और महिला अस्पताल के शोधकर्ताओं ने पाया कि देर रात खाने से मोटापा और वजन बढ़ने के लक्षण पाए गए. नए अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि देर से खाने से वसा (वसा) ऊतक में एनर्जी की खपत, भूख और आणविक मार्ग प्रभावित होता है. इसके अलावा, देर से खाने से जल्दी खाने की तुलना में भूख लगने की संभावना भी दोगुनी हो जाती है. इस तरह यह समझा जा सकता है कि पिछले कई शोधों में देर रात खाने और मोटापे के बढ़ते जोखिम पर चर्चा एक दूसरे से कितनी संबंधित है. बता दें कि शोधकर्ताओं ने टीम में अधिक वजन या मोटापे की श्रेणी में बॉडी मास इंडेक्स वाले 16 प्रतिभागियों पर अध्‍ययन किया था और हर प्रतिभागी को एक ही भोजन अलग अलग समय पर दिया गया.

यह भी पढ़ेंः प्रेग्नेंट महिलाओं को होता है जेस्टेशनल डायबिटीज का खतरा, यह है वजह

शोध में क्‍या हुआ साबित
शोधकर्ताओं ने पाया कि देर से भोजन करने से हार्मोन ‘ग्रेलिन’ पर प्रभाव देखा, जो मस्तिष्क को बताता है कि शरीर को भोजन की जरूरत है. जबकि लेप्टिन मस्तिष्क को बताता है कि पेट भरा हुआ है. शोधकर्ताओं ने प्रत्येक परीक्षण के दिन 24 घंटे के दौरान प्रति घंटा इन हार्मोन का परीक्षण किया.

क्‍या कहना है शोधकर्ताओं का
शोध टीम में शामिल प्रो केली सी.एलिसन का कहना है शोध से यह पता चलता है कि देर रात में खाना हमारे लिए सच में नुकसानदायक है और हमें ऐसा करने से बचना चाहिए.

Tags: Health, Lifestyle

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें