होम /न्यूज /जीवन शैली /पुरुषों को महिलाओं की अपेक्षा कैंसर का खतरा ज्यादा, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे

पुरुषों को महिलाओं की अपेक्षा कैंसर का खतरा ज्यादा, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे

कैंसर की वजह से हर साल लाखों लोग जान गंवा देते हैं.

कैंसर की वजह से हर साल लाखों लोग जान गंवा देते हैं.

Cancer Risk Factors: कुछ बीमारियां महिलाओं को ज्यादा प्रभावित करती हैं, तो कुछ बीमारियों का खतरा पुरुषों को ज्यादा होता ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

पुरुष और महिलाओं के हार्मोन में बदलाव की वजह से खतरा अलग-अलग होता है.
इम्यून सिस्टम और जेनेटिक्स में अंतर की वजह से भी ऐसा होने का अनुमान है.

Why are men at higher risk of cancer: अगर आपसे कहा जाए कि कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का खतरा महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में ज्यादा होता है तो क्या आप यकीन कर पाएंगे? आपको लग रहा होगा कि यह सच नहीं है, लेकिन यह बात पूरी तरह सच है. अब तक कई स्टडी में यह बात सामने आ चुकी है कि पुरुषों को सभी तरह के कैंसर का खतरा महिलाओं की तुलना में कई गुना ज्यादा होता है. इतना ही नहीं कैंसर से होने वाली मौतों का आंकड़ा भी पुरुषों का ज्यादा है. एक हालिया स्टडी में इसकी वजह सामने आई है. इसमें बताया गया है कि आखिर इसकी क्या वजह है.

यह भी पढ़ेंः एक्सरसाइज के दौरान कैसे पहचानें हार्ट अटैक के लक्षण? एक्सपर्ट से जानें

नई स्टडी में सामने आईं ये बातें
मेडिकल न्यूज़ टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक सभी तरह के कैंसर के मामले पुरुषों में ज्यादा देखने को मिलते हैं. इस बारे में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (NIH) की एक रिसर्च सामने आई है. इस रिसर्च में 1.71 लाख पुरुष और 1.22 लाख महिलाओं ने हिस्सा लिया था. करीब 16 साल तक शोधकर्ताओं ने इन लोगों का डाटा इकट्ठा किया और इसका एनालिसिस किया. इस रिसर्च के परिणाम बेहद चौंकाने वाले रहे. इसमें पता चला कि महिला और पुरुषों में कैंसर का खतरा बायोलॉजिकल डिफरेंस की वजह से अलग होता है. लाइफस्टाइल, स्मोकिंग, एल्कोहल, बॉडी मास इंडेक्स, हाइट, फिजिकल एक्टिविटी, डाइट और मेडिकल हिस्ट्री का इस पर खास असर नहीं होता.

ये फैक्टर भी हो सकते हैं जिम्मेदार
इस स्टडी के शोधकर्ताओं का अनुमान है कि पुरुष और महिलाओं के हार्मोन जैसे एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन, इम्यून सिस्टम और जेनेटिक्स में अंतर की वजह से भी कैंसर का खतरा अलग-अलग हो सकता है. महिलाओं में पाए जाने वाले एक्स क्रोमोसोम भी ऐसे खतरनाक जीन को दबा सकते हैं. कैंसर के इलाज के लिए तैयार किए जा रहे ड्रग्स के क्लीनिकल ट्रायल में इस बात को समझने में आसानी मिल सकती है. अगर इसकी सही वजह सामने आ जाए तो महिला और पुरुषों का इलाज कारगर तरीके से किया जा सकेगा. फिलहाल इसको लेकर कई शोध किए जा रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः खाने के बाद सिर्फ 2 मिनट की वॉक से दूर होगा डायबिटीज का खतरा !

महिलाओं और पुरुषों में कैंसर का खतरा

  • पुरुषों में ब्लैडर कैंसर (Bladder Cancer) का खतरा महिलाओं की तुलना में 3.30 गुना ज्यादा होता है.
  • गैस्ट्रिक कार्डिया कैंसर (Gastric Cardia Cancer) का खतरा पुरुषों में 3.49 गुना अधिक होता है.
  • लैरिंजीयल कैंसर (laryngeal Cancer) का खतरा पुरुषों में 3.53 गुना ज्यादा होता है.
  • गॉलब्लैडर (Gallbladder Cancer) और थायराइड कैंसर (Thyroid Cancer) का खतरा पुरुषों में कम होता है.

Tags: Cancer, Health, Lifestyle, Trending news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें