#काम की बात : शादीशुदा हूं, लेकिन दूसरी स्त्रियों के बारे में सोचता हूं, क्‍या ये शर्मिंदगी की बात है

सेक्‍स सलाह
सेक्‍स सलाह

कल्‍पना या फैंटेसी बहुत स्‍वाभाविक है, इसमें शर्मिंदगी की कोई बात नहीं, लेकिन अपनी हर फैंटेसी को सच करने के बारे में सोचना भी जायज नहीं ठहराया जा सकता

  • Last Updated: August 22, 2018, 5:23 PM IST
  • Share this:
प्रश्‍न : मेरी उम्र 35 साल है. शादी को 11 साल हो चुके हैं. पत्‍नी के साथ खुश हूं, लेकिन मैं और स्त्रियों के बारे में भी फैंटेसाइज करता हूं. कई बार इस बात को लेकर अपराध बोध भी महसूस होता है. ये एक किस्‍म का ऑब्‍सेससिव कंपल्सिव डिसऑर्डर होता जा रहा है, जिसे मैं चाहकर भी कंट्रोल नहीं कर पाता. क्‍या ये कोई मानसिक बीमारी है? मैं क्‍या करूं?

उत्‍तर : आपको लग रहा है कि यह कोई समस्‍या या मानसिक बीमारी है तो मैं आपको बता दूं कि आप जो महसूस कर रहे हैं, वो एकदम नॉर्मल है. सेक्‍सुअल फैंटेसी या कल्‍पना बहुत सामान्‍य बात है और बहुत सारे लोग इस तरह की फैंटेसी करते हैं. इसे लेकर मन में अपराध बोध पालने या इसे बुरा समझने की कोई बात नहीं है.

हां, लेकिन कई बार यह स्थिति चिंताजनक भी हो सकती है. आपने अपने सवाल में एक टर्म का इस्‍तेमाल किया है- ऑब्‍सेससिव कंपल्सिव डिसऑर्डर. यानी आप चाहकर भी ऐसी फैंटेसी से खुद को रोक नहीं पा रहे हैं. हालांकि आपके सवाल में ये बात स्‍पष्‍ट नहीं है कि जिसे आप ऑब्‍सेससिव कंपल्सिव डिसऑर्डर समझ रहे हैं, वो दरअसल क्‍या है. यह इस पर निर्भर है कि-



1- दिन में सामान्‍यत: कितनी बार आपके मन में इस तरह की फैंटेसी आती है.
2- क्‍या आप काम के बीच और अपने पार्टनर के साथ भी इस तरह की फैंटेसी करते हैं.
3- क्‍या इसका असर आपके काम या आपके संबंधों पर नकारात्‍मक रूप से पड़ रहा है.
4- क्‍या आप फैंटेसी को हकीकत में भी बदलना चाहते हैं या उसके लिए कोशिश करते हैं.

इस बात को समझना जरूरी है कि हमारी हर फीलिंग, हर एक्‍शन में एक संतुलन बहुत जरूरी है. अगर आपकी फैंटेसी सिर्फ कभी-कभार की फैंटेसी तक सीमित है तो इसमें चिंता की कोई बात नहीं, लेकिन अगर यह फैंटेसी आपकी वास्‍तविक जिंदगी को नकारात्‍मक रूप से प्रभावित कर रही है तो आप तत्‍काल किसी काउंसिलर से मिलें.

(डॉ. पारस शाह सानिध्‍य मल्‍टी स्‍पेशिएलिटी हॉस्पिटल, अहमदाबाद, गुजरात में चीफ कंसल्‍टेंट सेक्‍सोलॉजिस्‍ट हैं.) 

अगर आपके मन में भी कोई सवाल या जिज्ञासा है तो आप इस पते पर हमें ईमेल भेज सकते हैं. डॉ. शाह आपके सभी सवालों का जवाब देंगे.
ईमेल – Ask.life@nw18.com

ये भी पढ़ें-

#काम की बात : जब से मेरे पार्टनर का वजन बढ़ा है, हमारी सेक्स लाइफ खत्म हो गई है
#काम की बात : क्या स्त्रियों की यौन इच्छा का संबंध उनके मासिक चक्र से भी है ?
#काम की बात: मुझे ऑर्गज्म नहीं होता, दिक्कत कहां है, शरीर में या दिमाग में?
#काम की बात : पोर्न की आदत पोर्नोग्राफी की लत में बदल सकती है?
#काम की बात: अगर एक से ज्‍यादा लोगों से यौन संबंध हों तो एसटीडी हो जाता है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से भी प्रेगनेंसी हो सकती है?
#काम की बात: क्या सेक्स के समय लड़कों को भी पीड़ा हो सकती है?
# काम की बात : क्‍या देसी वियाग्रा लेने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है ? 
# काम की बात : क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से बीमारी हो जाती है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करना सुरक्षित है?
#कामकीबात: कौन सी बात अंतरंग क्षणों को ज्यादा यादगार बना सकती है?
#कामकीबात: सेक्स के दौरान महिला साथी भी क्लाइमेक्स तक पहुंची, ये कैसे समझा जा सकता है? 
#कामकीबात: सेक्स-संबंध नीरस हो गया है. कभी मेरा मन नहीं करता तो कभी उसका

अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे लिखे Sexologists पर क्लिक करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज