लिवर, पाचन, गठिया समेत इन रोगों के लिए रामबाण इलाज है मुलेठी, जानें इसके फायदे

पेट से जुड़ी अनेक समस्याओं का इलाज मुलेठी के सेवन से किया जा सकता है.
पेट से जुड़ी अनेक समस्याओं का इलाज मुलेठी के सेवन से किया जा सकता है.

गले में खराश हो या फिर सर्दी,(Cough and Cold), खांसी और अस्थमा (Asthma), श्वसन तंत्र में होने वाले संक्रमण के इलाज में मुलेठी (Mulethi) काफी लाभकारी है.

  • Last Updated: November 20, 2020, 8:31 AM IST
  • Share this:


आयुर्वेद (Ayurveda) में कई जड़ी-बूटियां मौजूद हैं जो स्वास्थ्य को बढ़ावा देती हैं, इन्हीं में से एक है मुलेठी (Mulethi), जो कि यूरोप और एशिया के कई क्षेत्रों में पाई जाती है और इसका इस्तेमाल विभिन्न व्यंजनों में प्राकृतिक रूप से मीठे स्वाद के लिए किया जाता है. एंटीसेप्टिक, एंटी-डायबिटिक, एंटीऑक्सीडेंट गुण से लेकर श्वसन संक्रमण से लड़ने के लिए मुलेठी स्वास्थ्य के लिए कई तरह से फायदेमंद है. myUpchar के अनुसार, यह विटामिन बी और विटामिन ई का अच्छा स्रोत है. इसमें फास्फोरस, आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, सेलेनियम, कैल्शियम और जिंक जैसे खनिज पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं. इसमें कई आवश्यक फाइटोन्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं. मुलेठी की जड़ आसानी से बाजार में मिलती है। इसे सूखी जड़, पाउडर या कैप्सूल के रूप में खाया जा सकता है.

श्वसन तंत्र में संक्रमण से लड़ने में सहायक



गले में खराश हो या फिर सर्दी, खांसी और अस्थमा, श्वसन तंत्र में होने वाले संक्रमण के इलाज में मुलेठी काफी लाभकारी है. चूंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं इसलिए यह ब्रोन्क्रियल ट्यूब्स की सूजन को कम करने में मदद करती है और वायुमार्ग को शांत करती है. इसके अलावा यह श्वसन संबंधनी बीमारियों और बलगम से होने वाले रोगाणुओं से लड़ने में भी मदद करती है.
पाचन में करे सुधार

मुलेठी पाचन में सुधार के लिए शानदार जड़ी-बूटी है. यह पेट फूलना, सूजन और पेट में गड़बड़ी को कम करती है. मुलेठी भूख बढ़ाती है, अपच को कम करती है और शरीर में पोषक तत्वों के बेहतर अवशोषण को बढ़ावा देती है. इसकी जड़ में मौजूद कार्बेनेक्सोलोन और ग्लाइसीर्रिजिन एक हल्के रेचक के रूप में कार्य करते हैं, जिससे पेट की समस्याओं से तुरंत राहत मिलती है.

लिवर के इलाज में असरदार

मुलेठी का एंटीऑक्सीडेंट गुण मुक्त कण और विषाक्त पदार्थों की वजह से होने वाले नुकसान से लिवर को बचाता है. यह हेपेटाइटिस, फैटी लिवर, पीलिया जैसे रोगो के इलाज में मदद करता है. मुलेठी की जड़ की चाय पीने से लिवर के स्वास्थ को फायदा होता है.

गठिया से राहत

myUpchar के अनुसार गठिया के सबसे प्रमुख लक्षणों में जोड़ों के दर्द, जकड़न और सूजन शामिल है. यह गठिया के इलाज में सहायक है. इसके अलावा सूजन वाले रोगों जैसे रुमेटाइड अर्थराइटस आदि के इलाज में मुलेठी का इस्तेमाल होता है. मुलेठी की चाय पीने से सूजन और दर्द से राहत मिलती है.

इम्युनिटी बढ़ाने में फायदेमंद

यह आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी शरीर के सामान्य स्टेमिना (ताकत) और ऊर्जा के स्तर में सुधार करती है. मुलेठी में मौजूद बायो-एक्टिव तत्व दुर्बलता, कमजोरी और थकान को कम करते हैं और जीवन शक्ति में सुधार करते हैं. मुलेठी में मौजूद एंटी-माइक्रोबियल गुण प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में मदद करते हैं और शरीर को विभिन्न माइक्रोबियल संक्रमणों से बचाते हैं.

अल्सर में लाभकारी

मुलेठी पाउडर के एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण अल्सरेटिव कोलाइटिस, अल्सर, नासूर घावों या मुंह के छालों आदि के इलाज में फायदेमंद हैं. इसमें मौजूद बायोएक्टिव कम्पाउंड कार्बेनॉक्सोलोन मुंह और गैस्ट्रिक अल्सर के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. यह सूजन वाली परत को तेजी से सामान्य करने और अल्सर के जोखिम को कम करने में मदद करता है.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, मुलेठी के फायदे और नुकसान पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज