ओरल हेल्थ से जुड़ी इन 7 परेशानियों को कभी न करें नजरअंदाज, हो सकता है बुरा हाल

ओरल हेल्थ से जुड़ी इन 7 परेशानियों को कभी न करें नजरअंदाज, हो सकता है बुरा हाल
मसूड़ों से खून बहने का लक्षण पहला ओरल हेल्थ साइन है, जिसे आपको कभी भी अनदेखा नहीं करना चाहिए.

ओरल हेल्थ (Oral Health) की समस्या महिलाओं और पुरुषों दोनों के ही सभी आयु वर्गों के लिए एक आम समस्या है. जरूरी है कि ओरल हेल्थ के संकेतों को समझें, ताकि समय पर इलाज किया जा सके.

  • Last Updated: August 12, 2020, 1:23 PM IST
  • Share this:


दांतों (Teeth) की संवेदनशीलता या सांसों में बदबू (Bad Smell) कभी-कभी एक फ्लू बग के लक्षण होते हैं जो आमतौर पर फ्लू ठीक होने पर चले जाते हैं. लेकिन कभी-कभी, ऐसे लक्षण जो मुंह में दिखाई देते हैं  बहुत अधिक गंभीर होते हैं. यह अक्सर कहा जाता है कि आपका 6 महीने का डेंटल चेकअप (Dental Check Up) दांतों और मसूड़ों को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है. myUpchar से जुड़े डॉ. राजी एहसान का कहना है कि ओरल हेल्थ (Oral Health) की समस्या महिलाओं और पुरुषों दोनों के ही सभी आयु वर्गों के लिए एक आम समस्या है. जरूरी है कि ओरल हेल्थ के संकेतों को समझें, ताकि समय पर इलाज किया जा सके. यहां ऐसे ही 8 संकेत बताए हैं, जिन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

1. मसूड़ों से खून बहना



मसूड़ों से खून बहने का लक्षण पहला ओरल हेल्थ साइन है, जिसे आपको कभी भी अनदेखा नहीं करना चाहिए. यदि मसूड़ों में सूजन,  रक्तस्राव या फिर सेंसेशन की समस्या है, तो यह मसूड़ों के स्वास्थ्य के लिए एक समस्या हो सकती है. दांतों को ब्रश करते समय यदि खून निकलता है तो मसूड़ों की बीमारी होने का खतरा होता है. मसूड़ों से खून आना मसूड़े की सूजन के लिए एक संकेतक है. यदि मसूड़े की सूजन का इलाज नहीं करते हैं तो यह पीरियडोंटाइटिस की ओर ले जाता है जो एक गंभीर संक्रमण है, जिससे दांत ढीले हो सकते हैं या  गिर भी सकते हैं. इसके अलावा, मुंह में सूजन अन्य बीमारियों को जन्म दे सकती है जैसे हृदय रोग, स्ट्रोक, एथेरोस्क्लेरोसिस.
2. फ्लॉसिंग और ब्रश करने के बावजूद मुंह से बदबू

मुंह से बदबू आना ओरल हेल्थ का साइन भी माना जाता है, जिसे आपको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. अगर आपको रोजाना फ्लॉस करने और दिन में कम से कम दो बार ब्रश करने की आदत है, लेकिन फिर भी सांसों में बदबू है तो टंग स्क्रेपर की जरूरत है. लेकिन अगर इसके बाद भी सांस की बदबू बनी रहती है तो आपको लिवर या किडनी की गड़बड़ी और डायबिटीज जैसी गंभीर समस्या हो सकती है.

3. मुंह और जबड़े का दर्द

हमेशा ध्यान रखें कि जबड़े और मुंह में दर्द अक्सर तनाव के संकेत होते हैं और तनाव शारीरिक के साथ-साथ मानसिक विकारों में भी योगदान दे सकता है. ऐसे समय में दंत चिकित्सक से मिलने की आवश्यकता है, क्योंकि यह इस परेशानी के निदान में मदद कर सकते हैं. यह अकसर आसान और इलाज के लायक स्थिति जैसे दांत दर्द,  साइनस की समस्या या मसूड़ों की बीमारी के कारण हो सकती है.

इसके अलावा, इस तथ्य को जानना भी बहुत महत्वपूर्ण है कि जबड़े में दर्द या बेचैनी का मतलब यह हो सकता है कि दिल का दौरा पड़ रहा है और यह जानने और कुछ अन्य सामान्य दिल के दौरे के लक्षणों को पहचानने से किसी प्रियजन को बचाने में मदद मिल सकती है.

4. दांतों की सतह और इनैमल में बदलाव

अगर दांतों की सतह और इनैमल में बदलाव होते हैं तो यह समय है डेंटिस्ट के पास जाने का, क्योंकि इसका कारण यह है कि यह अक्सर ईटिंग डिसऑर्डर या एसिड रिफ्लक्स प्रॉब्लम के संकेत हैं.

5. जीभ में बदलाव

जीभ में बदलाव एक और ओरल हेल्थ साइन है. कभी-कभी लोग सबसे आम जीभ की बीमारियों का सामना करते हैं. यह मुंह और जीभ पर एक यीस्ट इन्फेक्शन है जिसमें जीभ पर, मुंह के किनारे और गले के पीछे सफेद घाव दिखाई देते हैं. इसलिए, इस समस्या को कभी भी नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए, क्योंकि यह एक गंभीर मुद्दा है.

6. मुंह सूखने की समस्या

myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. केएम नाधिर का कहना है कि मुंह सूखने की समस्या तब होती है जब लार ग्रंथि से कम लार बनती है. ये सिर्फ एक मामूली समस्या से लेकर एक गंभीर परेशानी भी हो सकती है. सामान्य स्वास्थ्य और दांतों को हानि पहुंचा सकती है. भूख और खाने की प्रवृत्ति पर असर डालती है.

7. भोजन करते समय दर्द

जब आप कुछ गर्म, ठंडा या मीठा खाते हैं तो दर्द होने पर इसे नजरअंदाज न करें. कैविटीज, टूटी हुई फिलिंग्स, टूटे हुए दांत समय के साथ दांतों में दर्द और क्षति का कारण बन सकते हैं. इसलिए पहले ही इन समस्याओं का पता लगाया जाए.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, दांत में दर्द के प्रकार, कारण, बचाव, इलाज, परहेज, क्या खाएं और दवा पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज