• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • एसिडिटी की समस्या से पाना हो छुटकारा, तो रोज करें ये 2 योगासन

एसिडिटी की समस्या से पाना हो छुटकारा, तो रोज करें ये 2 योगासन

योग के कुछ खास आसानों की मदद से एसिडिटी को दूर करने में मदद मिल सकती है.

योग के कुछ खास आसानों की मदद से एसिडिटी को दूर करने में मदद मिल सकती है.

एसिटिडी (Acidity) की इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए खानपान और रहन-सहन में बदलाव जरूरी है. साथ ही योग (Yoga) से भी एसिडिटी की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है.

  • Share this:
    एसिडिटी पाचन तंत्र (Digestive System) से जुड़ी एक गंभीर समस्या है. यह समस्या पेट में अत्यधिक एसिड बनने से होती है. इसे एसिड रिफ्लक्स (Acid Reflux) भी कहा जाता है. इस दौरान एसिड भोजन नली से गले तक वापस आ जाता है. वहीं कई बार खाना उल्टी के रूप में बाहर भी आने लगता है. खासकर नवजात शिशु दूध पीने के बाद उसे तुरंत निकाल देते हैं. ऐसा एसिड रिफ्लक्स के चलते होता है. एसिड रिफ्लक्स की समस्या अत्यधिक कॉफी या चाय के सेवन, चटपटा और भरपेट खाना खाने से होती है. इस वजह से चक्कर आने लगता है और पेट भी फूलने लगता है. एसिटिडी की इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए खानपान और रहन-सहन में बदलाव जरूरी है. साथ ही योग से भी एसिडिटी की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है. योग के कुछ खास आसानों की मदद से एसिडिटी को दूर करने में मदद मिल सकती है. आइए जानते हैं कौन से हैं वो आसन.

    उष्ट्रासन
    इसके लिए सबसे पहले सावित्री आसन की पोजीशन में बैठ जाएं. इसके बाद शरीर को पीछे की ओर मोड़कर दोनों हाथों को अपने टखनों पर रखें. एक चीज़ का ध्यान रखें कि अपने गर्दन को न घुमाएं, बल्कि गर्दन को प्राकृतिक अवस्था में रहने दें. कुछ देर के लिए इस अवस्था में रहें. अब हाथों को हटाकर पहली अवस्था में वापस आ जाएं. इस अवस्था में ज्यादा देर तक न रहें. हालांकि, उष्ट्रासन को योग शिक्षक की निगरानी में करें. साथ ही शारीरिक शक्ति का दमन न करें.

    इसे भी पढ़ेंः जानें पैंक्रियाज को हेल्दी रखने के लिए क्या खाएं और क्या नहीं

    पश्चिमोत्तानासन
    पश्चिमोत्तानासन दो शब्दों पश्चिम और उत्तानासन से मिलकर बना है. इसमें पश्चिम को पीठ को बताया गया है जबकि उत्तानासन का तात्पर्य अपने शरीर के पीछे वाले हिस्से को आगे की ओर खींचना है. आसान शब्दों में कहें तो समतल भूमि पर बैठकर अपने शरीर के पीछे वाले हिस्सों को आगे करना पश्चिमोत्तानासन है. इस योग को करने से पेट पर बल पड़ता है. साथ ही पेट में खिंचाव पैदा होता है. इससे एसिडिटी की समस्या में आराम मिलता है.(Disclaimer:इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज