वायु प्रदूषण फेफड़ों के साथ आंखों के लिए भी है खतरनाक, ऐसे करें देखभाल

प्रदूषण में ऐसे रखें अपनी आंखों का ख्‍याल. Image Pexels/Cole Keister

प्रदूषण में ऐसे रखें अपनी आंखों का ख्‍याल. Image Pexels/Cole Keister

वायु प्रदूषण (Air Pollution) हमारी सेहत (Health) के लिए कई तरह से नुकसानदेह हो सकता है. जहां इसका असर फेफड़ों पर पड़ता है. वहीं खराब वायु गुणवत्ता से आंखों से संबंधित कई समस्याएं भी हो सकती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 10:28 AM IST
  • Share this:
वायु प्रदूषण (Air Pollution) का असर अब सिर्फ दिल्‍ली, मुंबई जैसे शहरों में ही नहीं कानपुर, भोपाल और जयपुर जैसे क्षेत्रों में भी देखा जा रहा है. विशेषज्ञों की मानें तो हम जिस हवा को ग्रहण कर रहे हैं, वह कई जहरीली गैसों और हानिकारक प्रदूषकों से मिश्रित है. यह हमारी सेहत (Health) के लिए कई तरह से नुकसानदेह हो सकती है. जहां प्रदूषित हवाओं के कारण सांस लेना मुश्किल होता है, वहीं इसका सबसे ज्‍यादा असर फेफड़ों पर पड़ता है. ऐसे में खराब वायु गुणवत्ता से आंखों से संबंधित कई समस्याएं भी हो सकती हैं. इस स्थिति में इससे बचाव करना बेहद जरूरी है. प्रदूषण में आप अपनी आंखों की देखभाल (Eye Care) इस तरह कर सकते हैं-

प्रदूषण में बाहर जाने से बचें
आंखों को प्रदूषण से सुरक्षित रखने का यह गोल्डन उपाय है कि आप प्रदूषण के संपर्क में आने से बचें. इसके लिए प्रदूषण के स्तर में वृद्धि होने पर सार्वजनिक स्थानों पर जाने से बचना चाहिए. सुबह के शुरुआती चरण में प्रदूषण का स्तर अपनी चरम सीमा पर होता है, ऐसे में आंखों को बचाने के लिए घर से बाहर न निकलना बेहतर रहेगा.

ये भी पढ़ें - Banana Flower: केले के फूल में छुपे हैं सेहत के राज, खून की कमी करेगा दूर
स्क्रीन से बनाए रखें दूरी


मोबाइल फोन और लैपटॉप का उपयोग लंबे समय तक न करें. आपको आंखों की थकान, सूखी आंखों और कंप्यूटर विजन सिंड्रोम की समस्‍या से बचाव के लिए इनसे बीच बीच में दूरी बनाए रखना जरूरी है. अगर आप इन पर काम करते हैं तो बीच बीच में अपनी आंखों को आराम जरूर दें.

कॉन्टैक्ट लेंस पहनने से बचें
आंखों में खुजली या रेडनेस होने पर कॉन्टैक्ट लेंस का इस्तेमाल करने से बचें. इस संबंध में आप किसी विशेषज्ञ की सलाह लें और तब ही इनका इस्‍तेमाल करें. खुजली होने पर आंखों को रगड़ने से भी बचना चाहिए.

हेल्दी डाइट लें, हाइड्रेटेड रहें
ओमेगा-3 और एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे मछली, हरी पत्तेदार सब्जियां, गाजर, पालक, बादाम, अखरोट को अपनी डाइट में शामिल करें. ये आंखों के लिए बेहद अच्छे और फायदेमंद होते हैं. इनसे रोशनी भी तेज होती है. इसके अलावा हाइड्रेटेड रहें. हाइड्रेटेड रहने से पर्याप्त आंसू बनने में मदद मिलती है. यह तब जरूरी हो जाता है जब स्मॉग जैसे बाहरी कारक सूखी आंखों में जलन की संभावना बढ़ा देता है. दिन में आठ से दस गिलास पानी पीना बेहतर रहेगा.

ये भी पढ़ें - कई रोगों से लड़ने में मददगार है नीम की चाय, जानें इसके फायदे और नुकसान

मेकअप का इस्तेमाल न करें
अगर आपकी आंखें असहज महसूस कर रही हैं, तो इस स्थिति में आंखों का मेकअप इस्तेमाल करने से बचना चाहिए. काजल अक्सर आंखों की एलर्जी को बढ़ा देते हैं और इससे आंखों में संक्रमण भी हो सकता है. प्रदूषण स्तर बढ़ने पर तो आंखों पर किए जाने वाले मेकअप को पूरी तरह नजरअंदाज करें. वहीं अगर कभी मेकअप करते हैं तो सोने से पहले विशेष आई मेकअप रिमूवर का इस्तेमाल करते हुए मेकअप हो हटाएं. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज