होम /न्यूज /जीवन शैली /किशोरों में डिप्रेशन के लक्षणों के लिए वायु प्रदूषण भी जिम्मेदार- स्टडी

किशोरों में डिप्रेशन के लक्षणों के लिए वायु प्रदूषण भी जिम्मेदार- स्टडी

ओजोन गैस वायु प्रदूषण के कारण किशोर खुद को दुखी और निराश महसूस करने लगते हैं. (फोटो-canva.com)

ओजोन गैस वायु प्रदूषण के कारण किशोर खुद को दुखी और निराश महसूस करने लगते हैं. (फोटो-canva.com)

Air pollution responsible for depression in teens : नई स्टडी में दावा किया गया है कि बच्चों और किशोरों में अवसाद यानी ...अधिक पढ़ें

Air pollution responsible for depression in teens : अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन (American Psychological Association) द्वारा की गई नई स्टडी में दावा किया गया है कि बच्चों और  किशोरों में अवसाद यानी डिप्रेशन (Depression) के लक्षणों के लिए ओजोन गैस वायु प्रदूषण (ozone gas air pollution) भी जिम्मेदार है. ओजोन के लेवल को समय के साथ किशोरों में अवसाद के विकास से जोड़ने वाली ये पहली स्टडी है. आपको बता दें कि ट्रैफिक और पावर प्लांट से निकलने वाला धुआं जब सूर्य की किरणों के साथ प्रतिक्रिया करता है, तब ओजोन गैस बनती है. ओजोन के हाई लेवल की वजह से अस्थमा, रेस्पिरेटरी वायरस व समय पूर्व मौत का खतरा बना रहता है. ओजोन गैस वायु प्रदूषण के कारण किशोर खुद को दुखी और निराश महसूस करने लगते हैं. उनकी एकाग्रता और नींद बाधित होती है तथा कई बार उनके मन में आत्महत्या के भी विचार पैदा होने लगते हैं.

इस स्टडी का निष्कर्ष ‘डेवलपमेंट साइकोलाजी (Development Psychology.)’ जर्नल में प्रकाशित किया गया है. रिसर्चर्स ने सैन फ्रांसिस्को खाड़ी क्षेत्र (San Francisco Bay area) में 9 से 13 साल की आयु वाले  213 किशोर प्रतिभागियों के साथ प्रारंभिक जीवन तनाव यानी अर्ली लाइफ स्ट्रेस के बारे में पिछले अध्ययन के आंकड़ों का विश्लेषण किया.

यह भी पढ़ें-
प्रेग्नेंट महिला के वायु प्रदूषण में रहने से जन्म लेते हैं कम वजन के बच्चे: स्टडी

रिसर्चर्स ने चार साल की अवधि में किशोरों के मानसिक स्वास्थ्य के बारे में डेटा की तुलना, उनके घर के पते के लिए जनगणना ट्रैक्स और कैलिफ़ोर्निया पर्यावरण संरक्षण एजेंसी से उन इलाकों के लिए वायु गुणवत्ता डाटा के साथ की. अपेक्षाकृत उच्च ओजोन स्तर वाले क्षेत्रों में रहने वाले किशोरों ने समय के साथ अवसादग्रस्तता के लक्षणों में उल्लेखनीय वृद्धि दिखाई. हालांकि, उनके पड़ोस में ओजोन का स्तर राज्य या राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता मानकों से अधिक नहीं था.

यह भी पढ़ें-
चप्‍पल या गलत फुटवियर्स पहनकर वॉक करने से हो सकता है घुटने और पैरों में दर्द, जानें कैसे

क्या कहते हैं जानकार
यूनिवर्सिटी आफ डेनवर (University of Denver) में साइकोलॉजी की असिस्टेंट प्रोफेसर एरिका मांजाक (Erika Manczak) के अनुसार, ‘हमारी स्टडी निष्कर्ष शारीरिक के साथ-साथ मानसिक हेल्थ पर पड़ने वाले वायु प्रदूषण के प्रभावों पर विचार करने के लिए प्रेरित करता है.’ रिसर्चर्स ने स्टडी के लिए सैन फ्रांसिस्को के नौ से 13 साल के 213 बालकों व किशोरों पर हुए पूर्व के अध्ययन से जुड़े आंकड़ों का विश्लेषण किया. इस दौरान उन्होंने पाया कि वायु प्रदूषण बालकों व किशोरों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है.

Tags: Depression, Health, Health News, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें