Home /News /lifestyle /

health news benefits of cardamom tea how to make and consume it in hindi ans

इलायची वाली चाय सेहत पर करती है कई कमाल, इस तरह करें तैयार

यदि आपको उल्टी, जी मिचलाने की समस्या परेशान करती है, तो आप इलायची वाली चाय ज़रूर पीकर देखें.

यदि आपको उल्टी, जी मिचलाने की समस्या परेशान करती है, तो आप इलायची वाली चाय ज़रूर पीकर देखें.

Benefits of Cardamom Tea: छोटी इलायची को लोग बतौर माउथ फ्रेशनर की तरह खाते हैं. साथ ही मीठे व्यंजनों में भी इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है. इतना ही नहीं, इलायची वाली चाय पीने से भी सेहत को कई लाभ होते हैं. जानें, क्या लाभ होते हैं इलायची की चाय पीने से और कैसे बनाएं ये चाय.

अधिक पढ़ें ...

Benefits of Cardamom Tea: बड़ी इलायची हो या फिर छोटी इलायची, दोनों ही किसी भी भोजन का स्वाद दोगुना कर देती हैं. हर घर में आपको छोटी-बड़ी इलायची मिल जाएगी. बिरयानी से लेकर खीर तक में इनका इस्तेमाल किया जाता है. स्वाद के साथ ही इलायची में कई औषधीय गुण भी मौजूद होते हैं. ये कई रोगों से भी बचाती हैं. यदि बात करें, छोटी इलायची की तो लोग इसे बतौर माउथ फ्रेशनर की तरह भी खाते हैं. साथ ही मीठे व्यंजनों में इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है. इतना ही नहीं, इलायची वाली चाय पीने से भी सेहत को कई लाभ होते हैं. अक्सर लोग दूध वाली चाय में हरी इलायची डालते हैं, लेकिन इसे आप कई तरह से बनाकर भी पी सकते हैं और पा सकते हैं कई सेहत लाभ.

इसे भी पढ़ें: Cardamom Benefits: इलायची खाने के हैं शौकीन तो जान लें इसके फायदे

इलायची में मौजूद पोषक तत्व
जैसा कि हम सभी जानते हैं कि इलायची दो तरह की होती है, बड़ी और छोटी. हरी वाली को छोटी इलायची और भूरे या काले रंग वाले को बड़ी इलायची कहते हैं. इसका इस्तेमाल बतौर गरम मसाले के रूप में किया जाता है और ज्यादातर सब्जी, नॉनवेज, बिरयानी आदि में डाला जाता है. बात करें छोटी इलायची में मौजूद पोषक तत्वों की तो इसमें कार्बोहाइड्रेट्स, फाइबर, प्रोटीन, फॉस्फोरस, पोटैशियम, सोडियम, जिंक, आयरन, कैल्शियम, मैंगनीज, कॉपर, कुछ विटामिंस, थियामिन, राइबोफ्लेविन आदि मौजूद होते हैं.

इलायची वाली चाय में मौजूद तत्व
स्टाइलक्रेज डॉट कॉम में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, इलायची वाली चाय में फेनोलिक एसिड और स्टेरोल्स होता है, जो एंटीऑक्सीडेंट तत्वों से भरपूर होते हैं. साथ ही इसमें, सीनेओल, पीनेन, सैबिनेन, लिनालूल जैसे बायोलॉजिकल मेटाबोलाइट्स होते हैं, जो शरीर में एंटीकैंसर, एंटी-इन्फ्लेमेटरी, एंटीडायबिटिक, एंटीहाइपरटेंसिव, एंटीमाइक्रोबियल जैसे प्रभाव करते हैं.

इसे भी पढ़ें: खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ाती कई सारी दिक्कतों को भी कम करती है बड़ी इलायची

इलायची वाली चाय पीने के फायदे

– पाचनशक्ति को दुरुस्त करने के लिए आप इलायची वाली चाय पी सकते हैं. इसे आप खाना खाने के बाद पिएं. हर्बल टी में आप इलायची के छोटे-छोटे बीजों को डालकर पिएं, स्वाद के साथ ही सेहत को भी लाभ होगा. इलायची वाली चाय पीने से पेट की सेहत अच्छी बनी रहती है. भोजन जल्दी पचता है. अपच से बचाती है. गैस की समस्या नहीं होती है.

– यदि आपको उल्टी, जी मिचलाने की समस्या परेशान करती है, तो आप इलायची वाली चाय ज़रूर पीकर देखें. साथ ही कब्ज, पेट में क्रैम्प की समस्या भी दूर होती है.

– इलायची वाली चाय पीने से दिल की सेहत दुरुस्त रहती है. शरीर में रक्त का संचार सही बना रहता है. चूंकि, इसमें पाइनेन, लिमोनेन और अन्य फेनोलिक कम्पाउंड्स होते हैं, जो फ्री रैडिकल्स को कम करते हैं. ये फ्री रैडिकल्स हाइपरटेंशन का कारण बनते हैं.

– इस चाय में मौजूद फ्लेवोनॉएड्स ब्लड वेसल्स में कोलेस्ट्रॉल को जमा होने से रोकते हैं, वह भी सीरम में गुड कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम किए बिना. इससे वेसल्स में खून का संचार सही तरीके से होता रहता है और दिल और वेसल्स की दीवारों पर दबाव और स्ट्रेस नहीं पड़ता है. इस तरह से आप दिल के रोगों से बचे रह सकते हैं.

– वायरल फीवर, फ्लू, सर्दी-जुकाम, गले में खराश आदि की समस्या से भी छुटकारा दिलाती है इलायची वाली चाय. इस चाय में भारी मात्रा में स्टेरोल्स, विटामिन ए, सी, होते हैं, जो इसे एंटीवायरल, एंटीफंगल, एंटीमाइक्रोबियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्वों से भरपूर बनाते हैं. यदि आपको गले में खराश और सूखी खांसी है, तो इलायची वाली चाय पिएं. इससे कफ भी आसानी से निकल जाता है.

– फेफड़े और इससे संबंधित रोग जैसे अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, निमोनिया आदि होने पर इलायची वाली चाय पीने से फेफड़ों में इंफ्लेमेशन की समस्या दूर होती है. यह चाय एंटी-इंफ्लेमेटरी एंजाइम्स के प्रोडक्शन को बढ़ाकर इन समस्याओं को कम कर सकती है.

– इलायची के बीजों से बने काढ़े को स्कैल्प और बालों में लगाने से डैंड्रफ की समस्या कम हो सकती है. नए बालों का विकास हो सकता है. स्कैल्प और बालों की जड़ों में फंगल या स्किन इंफेक्शन ठीक हो सकता है.

– साथ ही त्वचा संबंधित समस्याएं जैसे एक्ने, मुंहासे, स्किन टोन, रैशेज, पिग्मेंटेशन आदि से परेशान हैं, तो इलायची वाली चाय पिएं. नॉर्मल दूध वाली चाय में भी आप इलायची पाउडर डाल सकते हैं, इससे फ्लेवोनॉएड लेवल बढ़ता है. ये एक एंटीऑक्सीडेंट्स है, जो रक्त में फ्री रैडिकल्स को कम करता है.

इलायची वाली चाय बनाने का तरीका
एक बर्तन में 4 कप पानी डालें, उसे उबलने दें. इलायची का छिलका हटाकर बीजों को बारीक पीसकर पाउडर बना लें. 1 बड़ा चम्मच इलायची पाउडर उबलते हुए पानी में डाल दें. आंच कम करके 10 मिनट तक उबलने दें. अब गैस बंद कर दें और 1 से 2 मिनट के लिए यूं ही छोड़ दें. इसे कप में छान लें. इसमें शहद या थोड़ी सी चीनी मिलाएं और पीने का लुत्फ उठाएं. आप दूध वाली चाय में भी इलायची पाउडर डालकर पी सकते हैं, स्वाद बढ़ने के साथ ही सेहत को फायदे भी होंगे. इसके अलावा, आप इलायची पाउडर, हल्दी, दालचीनी, शहद या चीनी भी दूध वाली चाय में डालकर पी सकते हैं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर