Home /News /lifestyle /

health news benefits of postpartum yoga in hindi women mother anjsh

बच्चे के जन्म के बाद मां के लिए योग करना है जरूरी, अवसाद का रिस्क होता है कम

पोस्टपार्टम योग को प्रसवोत्तर अवसाद यानी पोस्टपार्टम डिप्रेशन के जोखिम को कम करने के लिए किया जा सकता है. (Image- Canva)

पोस्टपार्टम योग को प्रसवोत्तर अवसाद यानी पोस्टपार्टम डिप्रेशन के जोखिम को कम करने के लिए किया जा सकता है. (Image- Canva)

Postpartum Yoga Benefits: बच्चे के जन्म के बाद मां के शरीर में कई बदलाव होते हैं. ऐसे में पोस्टपार्टम योग मां के शरीर को ठीक होने में मदद करता है. योगाभ्यास से पोस्टपार्टम डिप्रेशन (Postpartum depression) के जोखिम को कम किया जा सकता है.

अधिक पढ़ें ...

Postpartum Yoga Benefits: बच्चा होने के बाद, मां के शरीर को ठीक होने और आराम के लिए समय चाहिए होता है. ऐसा ही मेंटल हेल्थ के साथ भी होता है. ऐसे में पोस्टपार्टम योग बहुत फायदेमंद माना जाता है. दरअसल, जन्म देने के बाद तनाव और अवसाद को योग के जरिए कम किया जा सकता है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक बच्चे के जन्म के कुछ दिनों से लेकर कुछ हफ्तों तक योग का अभ्यास शुरू कर देना चाहिए. हांलाकि, यह इस बात पर निर्भर करता है कि डिलीवरी कैसी रही.

वेबएमडी के अनुसार बच्चे के जन्म के बाद योगाभ्यास करना मां के लिए बहुत फायदेमंद होता है. हांलाकि, इसे अपनी क्षमता अनुसार और धीरे-धीरे ही करना चाहिए. जानिए, क्या है पोस्टपार्टम योग और इसके फायदे.

पोस्टपार्टम योग क्या है? 
प्रसवोत्तर योग यानी पोस्टपार्टम योग एक संशोधित, कम तीव्रता वाला योग अभ्यास है. दरअसल, बच्चे के जन्म के बाद मां के शरीर में कई बदलाव होते हैं. ऐसे में ये मां के शरीर को ठीक होने में मदद करता है. प्रसव के बाद पहले तीन महीनों के दौरान इस तरह का योग सबसे अधिक लाभदायक होता है.

यह भी पढ़ें- Pregnancy Tips: प्रेग्‍नेंसी में मॉर्निंग सिकनेस से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स


पोस्टपार्टम योग के फायदे 
पोस्टपार्टम योग को प्रसवोत्तर अवसाद यानी पोस्टपार्टम डिप्रेशन (Postpartum depression) के जोखिम को कम करने के लिए किया जा सकता है.

  • ये बॉडी की ऊर्जा और रक्तचाप को संतुलित करता है.
  • तनाव व चिंता को कम करने में मदद कर सकता है.
  • इसे करने से चिड़चिड़ापन और गुस्सा कम होता है.
  • योग का अभ्यान करने से मांसपेशियों का तनाव कम होता है.

यह भी पढ़ें- Pregnancy Symptoms: प्रेग्नेंसी में सिर्फ पीरियड्स ही मिस नहीं होते, ये संकेत भी आते हैं नजर

और किन लक्षणों को करता है कम?

  • मूड स्विंग
  • अधिक रोना
  • भूख न लगना या सामान्य से अधिक खाना
  • अनिद्रा या अधिक सोना
  • अत्यधिक थकान
  • चिड़चिड़ापन और गुस्सा
  • एक अच्छी मां न बनने का डर
  • निराशा या शर्म या गिल्ट की भावना
  • एंग्जायटी
  • खुद को नुकसान पहुंचाने के विचार आना

यदि बच्चा होने के बाद मां इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव कर रही हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें.

Tags: Benefits of yoga, Health News, Lifestyle, Pregnancy

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर