Home /News /lifestyle /

health news can diabetes patient eat ripe or raw banana when and how to eat it in hindi ans

डायबिटीज में पका केला खाना चाहिए या कच्चा? एक्सपर्ट ने बताया कब, कैसे करें सेवन

डायबिटीज में नाश्ते में पोहा, उपमा के साथ केला खाना सही नहीं है. केले को स्नैक्स के रूप में ही खाएं.

डायबिटीज में नाश्ते में पोहा, उपमा के साथ केला खाना सही नहीं है. केले को स्नैक्स के रूप में ही खाएं.

Diabetes Diet: डायबिटीज के मरीजों को अक्सर ये समझ नहीं आता कि उनके लिए केला खाना हेल्दी है या अनहेल्दी. पका हुआ केला खाएं या कच्चा केला. ऐसे में वे इस फल का सेवन करना ही बंद कर देते हैं. यदि आपको केला पसंद है और डायबिटीज के कारण इसे नहीं खाते हैं, तो एक्सपर्ट की बताई इन बातों पर गौर करें.

अधिक पढ़ें ...

Can Diabetes Patient Eat Banana: डायबिटीज होने पर खानपान का खास ख्याल रखना पड़ता है. जरा सी भी लापरवाही बरतने से शुगर लेवल हाई हो सकता है. अक्सर डायबिटीज रोगियों को समझ नहीं आता कि उन्हें फल और सब्जियों में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं. इस चक्कर में लोग कई फलों का सेवन करना ही छोड़ देते हैं. उन्हें लगता है कि फलों के सेवन से शुगर लेवल हाई हो सकता है. पर ऐसा नहीं है, कुछ फलों का सेवन डायबिटीज में करना हेल्दी माना गया है. फलों में नेचुरल शुगर होता है, जो नॉर्मल चीनी से काफी अलग होता है. यदि बात करें केले की तो इसका सेवन भी मधुमेह रोगी कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए कुछ बातों को ध्यान में रखेंगे, तो लाभ अधिक होगा.

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज पेशेंट हैं तो इन फल और सब्जियों को कहें NO, जानें किसे करें डाइट में शामिल

क्या डायबिटीज में केले का सेवन कर सकते हैं
कुछ लोग इस डर से केला नहीं खाते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है इससे शुगर लेवल बढ़ सकता है. कुछ ये भी सोचते हैं कि इस बीमारी में पका हुआ नहीं, बल्कि कच्चा केला खाना ही हेल्दी होता है. फरीदाबाद स्थित एशियन हॉस्पिटल की डायटिशियन विभा बाजपेयी कहती हैं कि डायबिटीज के मरीज यदि पका हुआ केला खाते हैं, तो वह इसे स्नैक्स के रूप में लें. यदि कच्चा केला खाते हैं, तो सब्जी बनाकर खाएं. दोनों की कंसिस्टेंसी और इस्तेमाल अलग-अलग है. डायबिटीज रोगी पका हुआ केला खा सकते हैं, लेकिन यह इस बात पर निर्भर करता है कि उनका शुगर लेवल कितना है. केला का ग्लाइसेमिक इंडेक्स अधिक होता है. इस बात का भी ध्यान रखें कि आप किस समय केला खा रहे हैं. इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि आप केले का सेवन स्नैक्स की तरह कर रहे हैं, भोजन के साथ ले रहे हैं या भोजन के रूप में ले रहे हैं.

डायटिशियन विभा बाजपेयी कहती हैं कि यदि आपने सुबह 8:30 पर नाश्ता किया है, तो केला 11 बजे ले सकते हैं, लेकिन नाश्ते में पोहा, उपमा के साथ केला खाना सही नहीं है. केले को स्नैक्स के रूप में 100 ग्राम खा सकते हैं. चूंकि, केला में ग्लाइसेमिक इंडेक्स और कार्बोहाइड्रेट्स अधिक होता है, जो शुगर लेवल को भी बढ़ा सकते हैं. भोजन के बीच में स्नैक्स के तौर पर आप केला ले सकते हैं, लेकिन नाश्ता, दिन और रात के भोजन के साथ बिल्कुल भी केला नहीं खाना चाहिए. एक मील से दूसरे मील के बीच होने वाले गैप में आप सिर्फ 100 ग्राम तक ही केले का सेवन कर सकते हैं. शुगर कंट्रोल में है, तो आप मीडियम साइज का केला स्नैक्स के रूप में खा सकते हैं. आपके दिनभर के खानपान में (नाश्ता, भोजन, डिनर) कार्बोहाइड्रेट, एनर्जी, प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में मौजूद होते हैं, ऐसे में केला इनके साथ लेंगे तो ये सभी चीजें एक्स्ट्रा हो जाएंगी, जिससे शुगर बढ़ने की संभावना रहती है.

इसे भी पढ़ें: जानिए किस तरह केला खाना डायबिटीज में है उपयोगी

हाई लेवल शुगर में ना खाएं केला
यदि आपका शुगर लेवल बहुत अधिक है, तो इसे कंट्रोल में आने तक पका हुआ केला खाने से बचना ही चाहिए. नॉर्मल कंडीशन में शुगर आ जाए, तभी खाएं. जब कोई भी बीमारी तीव्र अवस्था में होती है, तो उसे कंट्रोल करना चाहिए और खानपान में परहेज करते हुए दवाओं का सेवन भी सही समय पर करना चाहिए. डायबिटीज में इस बात का जरूर ध्यान रखें कि मीठा जैसे गुड़, चीनी डायरेक्ट न खाएं. फलों में मौजूद शुगर ले सकते हैं. चीनी शुगर के मरीजों के लिए मना होता है, क्योंकि यह डायरेक्ट शुगर लेवल बढ़ाता है. केले में फाइबर, सॉल्युबल फाइबर, विटामिंस, मिनरल्स भी होते हैं, इसलिए केला खा सकते हैं. चीनी में सिर्फ कैलोरी होती है, इसमें कोई दूसरा पोषक तत्व नहीं होता है, इसलिए डायबिटीज में ये मना होती है.

केले में पोषक तत्व और खाने का तरीका
केला में सॉल्युबल फाइबर, विटामिन सी, फॉलिक एसिड, पोटैशियम, कार्बोहाइड्रेट्स, एनर्जी, फ्रुक्टोज शुगर आदि होती है. ये सभी डायबिटीज के मरीजों के लिए हेल्दी होता है, लेकिन केले को किसी भोजन के साथ ना लें, स्नैक्स के रूप में लें और क्वांटिटी 100 ग्राम से अधिक ना हो. यदि बच्चा टाइप-1 डायबिटीज, इंसुलिन डिपेंडेंट है, तो उसे केले का शेक बिना चीनी मिलाए दे सकते हैं. इसे आप डबल डोन्ड दूध और आधे केले से शेक बना सकते हैं. प्रोटीन रिच करने के लिए आप इसमें बादाम, अखरोट भी थोड़ा सा मिला सकते हैं. किसी चीज में प्रोटीन ऐड करने से ग्लाइसेमिक लोड कम हो जाता है. ऐसे में अचानक से शुगर लेवल नहीं बढ़ता है. बड़े लोग जिन्हें डायबिटीज है, वे भी शेक ले सकते हैं, लेकिन मिड मील (11 बजे). इसमें 150 एमएल दूध लें. इसमें 5-6 बादाम, 1 अखरोट और आधा केला डालकर शेक बना लें. इसमें चीनी नहीं डालें. इसे पीने से शुगर लेवल नहीं बढ़ेगा.

डायबिटीज में खाएं कच्चा केला
कच्चा केला भी डायबिटीज के मरीज किसी भी फॉर्म में खा सकते हैं. यह नुकसानदायक नहीं होता है. सब्जी, भरता बनाकर इसका सेवन किया जा सकता है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर