टेंशन फ्री ना हों जाएं अगर थम गया है कैंसर, हो सकता है ज्यादा खतरनाक: शोध

इस नए शोध से डॉक्‍टरों को कैंसर के इलाज में फायदा मिल सकता है. Image Credit : shutterstock

Cancers Switch Off Evade Treatment : कैंसर (Cancer) पेशेंट को ठीक होने (Treatment) के बाद भी खुद के शरीर (Body) में किसी भी तरह के हो रहे बदलावों पर नजर रखना जरूरी है.

  • Share this:
    Cancers Switch Off Evade Treatment : अगर आप कैंसर (Cancer) पेशेंट हैं और इलाज (Treatment) के बाद आपका कैंसर थम गया है तो निश्चित रूप से ये आपके और आपके परिवारजनों के लिए बहुत बड़ी राहत की खबर होगी. लेकिन इसके बावजूद आपको खुद को लेकर सतर्क रहने की जरूरत है.नए शोध में ये पता चला है कि कई बार कैंसर सेल्‍स (Cells) इलाज से बचने के लिए कुछ दिनों के लिए शरीर में फैलना बंद कर देते हैं और जैसे ही उन स्‍ट्रॉन्‍ग दवाओं के खिलाफ उनकी प्रतिरो‍धक क्षमता मजबूत हो जाती है वे दुबारा से अधिक स्‍ट्रॉन्‍ग होकर शरीर में फैलने लगते हैं. जानीमानी कैंसर सेल पत्रिका में प्रकाशित एक शोध (Research) में यह जानकारी दी गई है.

    कैंसर सेल्‍स खुद को करते हैं स्विच ऑफ

    शोध के मुताबिक, जब किसी इंसान को कैंसर होता है तो उसके इलाज के लिए कई तरह की दवाओं और ट्रिटमेंट की मदद ली जाती है. ऐसे में कैंसर सेल्‍स खुद के अस्तित्‍व को बचाने के लिए कई बार कुछ दिनों के लिए बढ़ना बंद कर देते  हैं और डॉक्‍टरों को यह लगता है कि कैंसर का बढ़ना रुक चुका है और पेशेंट का कैंसर नियंत्रण में है. लेकिन सच्‍चाई ये है कि दरअसल ऐसा होता नहीं. जब इलाज बंद हो जाता है तब कैंसर सेल्‍स खुद की इम्‍यूनिटी उन दवाओं और ट्रिटमेंट के खिलाफ तैयार करते हैं और जब उनकी इम्‍यूनिटी दवाओं के खिलाफ काम करने लगती है तो वे दुबारा से और अधिक स्‍ट्रॉन्‍ग होकर बढने लगते हैं.

    इसे भी पढ़ें : ब्‍लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने में बहुत असरदार है एप्‍पल साइडर विनेगर, जानें इसके सेवन का तरीका और अन्‍य फायदे



    कैंसर की अब मुख्‍य दो ही श्रेणियां

    कैंसर सेल पत्रिका में प्रकाशित एक नए अध्‍ययन के अनुसार नए शोध के मुताबिक सभी कैंसर को दो श्रेणियों में रखा जा सकता है. शोध में जब सभी कैंसर को एक दूसरे से लिंक किया गया तो पाया गया कि सभी कैंसर सेल्‍स में या तो एस आसोसिएटेड प्रोटीन यानी यैप (YAP) होते हैं या ये नहीं होते. अर्थात सभी कैंसर सेल्‍स या तो यैप ऑन कैटेगरी में होते हैं या यैप ऑफ कैटेगरी में होते हैं.

    इलाज में मिलेगा फायदा

    इस शोध से डॉक्‍टरों को कैंसर के इलाज में काफी फायदा मिल सकता है. दरअसल शोध में  कैंसर के लक्षण और उपचार आदि को देखते हुए जो दो कैटेगरीज सामने आई है इसकी मदद से कैंसर के इलाज में काफी मदद मिल सकती है. यही नहीं, समान लक्षण, उनके इलाज और प्रभाव का आंकलन और नए शोधों में भी इससे काफी सहूलियत मिल सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.