Home /News /lifestyle /

खाना चबाकर खाने से मोटापे और बढ़ते वजन को रोकने में मिलती है मदद- स्टडी

खाना चबाकर खाने से मोटापे और बढ़ते वजन को रोकने में मिलती है मदद- स्टडी

मुंह में खाने को अच्छी तरह से चबाना मोटापे को रोकने में मदद कर सकता है. (प्रतीकात्मक फोटो-shutterstock)

मुंह में खाने को अच्छी तरह से चबाना मोटापे को रोकने में मदद कर सकता है. (प्रतीकात्मक फोटो-shutterstock)

How to prevent obesity: जापान की वासेदा यूनिवर्सिटी (Waseda University) के रिसर्चर्स द्वारा की गई स्टडी में सामने आया है कि खाने को अच्छी तरह से चबाकर खाने से शरीर हेल्दी रहता है. साथ ही धीरे-धीरे खाने और खाने को अच्छी तरह से चबाने से मोटापा और वजन रोकने में मदद मिलती है. हालांकि, ये तथ्य एक सदी पहले लोकप्रिय हो चुका है और बाद में कई स्टडीज में भी इसकी पुष्टि होती रही है. वासेदा यूनिवर्सिटी (Waseda University) की डॉ युका हमदा (Dr. Yuka Hamada) और प्रोफेसर नायोयुकी हयाशी (Professor Naoyuki Hayashi) के नेतृत्व में की गई इस स्टडी के निष्कर्षों को 'साइंटिफिक रिपोर्ट्स (Scientific Reports) ' जर्नल में प्रकाशित किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

Preventing obesity by chewing food: जापान की एक यूनिवर्सिटी ने अपनी हालिया स्टडी में पाया है कि चबाकर खाने और डीआईटी (DIT) यानी आहार-प्रेरित थर्मोजेनेसिस (Diet-Induced Thermogenesis) के बीच गहरा संबंध है. वासेदा यूनिवर्सिटी (Waseda University) के रिसर्चर्स द्वारा की गई इस स्टडी में सामने आया है कि खाने को अच्छी तरह से चबाकर खाने से शरीर हेल्दी रहता है. साथ ही धीरे-धीरे खाने और खाने को अच्छी तरह से चबाने से मोटापे और बढ़ते वजन को रोकने में मदद मिलती है. हालांकि, ये तथ्य एक सदी पहले लोकप्रिय हो चुका है और बाद में कई स्टडीज में भी इसकी पुष्टि होती रही है.

वासेदा यूनिवर्सिटी (Waseda University) की डॉ युका हमदा (Dr. Yuka Hamada) और प्रोफेसर नायोयुकी हयाशी (Professor Naoyuki Hayashi) के नेतृत्व में की गई इस स्टडी के निष्कर्षों को ‘साइंटिफिक रिपोर्ट्स (Scientific Reports) ‘ जर्नल में प्रकाशित किया गया है. आमतौर पर देखा गया है कि चबाने से खाने के मेटाबॉलिज्म (metabolism) से संबंधित ऊर्जा की खपत होती है और आंतों की एक्टिविटी बढ़ती है. खाने के बाद शरीर में गर्मी बढ़ती है, जिसे आहार-प्रेरित थर्मोजेनेसिस (Diet-Induced Thermogenesis) के रूप में जाना जाता है.

स्टडी में क्या निकला
डीआईटी (DIT) वजन बढ़ाने को रोकने के लिए जाना जाने वाला एक कारक है, जो बुनियादी उपवास स्तर से ऊपर की ऊर्जा की खपत करता है. इससे पहले डॉ हमदा और प्रो हयाशी की टीम ने पाया था कि धीरे -धीरे खाने और पूरी तरह से चबाने से न केवल डीआईटी में वृद्धि हुई, बल्कि आंत वाले क्षेत्र में ब्लड सर्कुलेशन में भी वृद्धि हुई. हालांकि, इन स्टडीज ने चबाने से उत्पन्न डीआईटी को पेट में पाचन और अवशोषण से संबंधित गतिविधि में वृद्धि के साथ जोड़ा, लेकिन उन्होंने कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं की खोज के लिए नई गुंजाइश छोड़ी है.

यह भी पढ़ें-
बच्‍चे हो सकते हैं कोरोना के सुपर स्‍प्रेडर, इन बातों का ध्‍यान रखें पेरेंट्स

आगे स्टडी की जरूरत
प्रोफेसर हयाशी ने बताया कि हम इस बात को लेकर अनिश्चय की स्थिति में थे कि धीरे-धीरे खाने के बाद डाइजेस्टिव सिस्टम (Digestive System) में एंटर करने वाले भोजन की मात्रा से डीआईटी में वृद्धि होती है. अभी हमें अन्य पहलुओं को जानने की जरूरत पड़ेगी.

यह भी पढ़ें-
COVID-19: सूखी और बलगम वाली खांसी से ऐसे पाएं राहत, अपनाएं ये जरूरी टिप्स

स्लो खाने से कैसे होता वेट कंट्रोल
मुंह में खाने को अच्छी तरह से चबाना वास्तव में मोटापे को रोकने में मदद कर सकता है. इस स्टडी के मुताबिक, धीरे-धीरे खाने और पूरी तरह से चबाने से हमारा वजन नियंत्रित रहता है.

Tags: Health, Health News, Obesity

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर