Home /News /lifestyle /

इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज, हो सकता है स्किन कैंसर

इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज, हो सकता है स्किन कैंसर

स्किन कैंसर का इलाज उसकी गंभीरता पर निर्भर करता है.(Image:shutterstock)

स्किन कैंसर का इलाज उसकी गंभीरता पर निर्भर करता है.(Image:shutterstock)

Skin Cancer: एक शोध के मुताबिक भारत में करीब 14 लाख लोग स्किन कैंसर (Skin Cancer) के शिकार हैं. त्वचा के कैंसर का इलाज उसकी गंभीरता पर निर्भर करता है. जिसमें बायोप्सी, फ्रीजिंग, एक्सीजन सर्जरी, मोहस सर्जरी का सहारा लिया जाता है.

    Skin Cancer Symptoms: त्वचा की कोशिकाएं जब आसामान्य तरीके से बढ़ने लगती हैं तो उसे स्किन कैंसर (Skin Cancer) या त्वचा का कैंसर कहते हैं. यह कैंसर तब होता है जब व्यक्ति बहुत ज्यादा देर तक धूप में रहता है. स्किन कैंसर शरीर के उन हिस्सों पर होता है जो सबसे ज्यादा सूरज की रोशनी के संपर्क में आते हैं. अगर अल्ट्रावायलेट किरणों से बचा जाए तो त्वचा के कैंसर के जोखिम को कम किया जा सकता है. साथ ही कुछ बातों पर अगर हम गौर करें, तो इसके शुरुआती लक्षण को समझ के इस कैंसर को हम गंभीर स्टेज पर पहुंचने से रोक सकते हैं.

    यह भी पढ़ें : वायु प्रदूषण से बुजुर्गों को इन बीमारियों का हो सकता है खतरा, ऐसे करें बचाव

    मायो क्लिनिक से मिली जानकारी के मुताबिक सामान्य रूप से कैंसर 3 तरह के होते हैं, बेसल सेल कार्सिनोमा, स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा और मेलानोमा. डॉक्टर्स के अनुसार मेलानोमा सबसे खतरनाक कैंसर माना जाता है. स्किन कैंसर होने पर शरीर पर कुछ ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं, जिन को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

    लक्षण

    – शरीर पर अचानक से तिल आने शुरू हो जाते हैं.

    – तिल का आकार बड़ा होता है. तिल की जगह खुजली और घाव हो सकता है.

    – अगर कोई पुराना तिल है तो उसका रंग बदल सकता है या उसका आकार बढ़ सकता है.

    – इसमें त्वचा का रंग गुलाबी होने लगता है या फिर भूरा पड़ने लगता है.

    – स्किन पर घाव हो जाता है.

    – त्वचा लाल हो सकती है साथ ही पपड़ी भी पड़ सकती है.

    –  कुछ लोगों में मस्से के रूप में भी कैंसर हो सकता है.

    यह भी पढ़ें : वर्कआउट के बाद अगर शरीर में होता है दर्द, तो ऐसे मिलेगी राहत

    इस तरह से होती है जांच

    इनमें से अगर कोई भी लक्षण आपकी त्वचा पर नजर आता है, तो डॉक्टर आपसे कुछ सवाल पूछेंगे. उसके अनुसार डॉक्टर कुछ जांच और दवाओं की सलाह दे सकते हैं. इस दौरान डॉक्टर शरीर पर पड़े घाव की जांच करते हैं. इस प्रक्रिया में डर्मेटोलॉजिस्ट यानी कि त्वचा रोग विशेषज्ञ की भी सलाह ली जाती है. साथ ही डर्मेटोस्कोप की मदद से त्वचा की जांच की जाती है. कैंसर की जांच के लिए त्वचा से छोटा सा सैंपल भी लिया जाता है.

    इस तरह होता है इलाज

    स्किन कैंसर का इलाज उसकी गंभीरता पर निर्भर करता है. जिसमें बायोप्सी, फ्रीजिंग, एक्सीजन सर्जरी, मोहस सर्जरी का सहारा लिया जाता है. कई बार कीमोथेरेपी और फोटोडायनेमिक थेरेपी के अलावा बायोलॉजिकल थेरेपी की सलाह दी जा सकती है.

    Tags: Cancer, Health, Health News, Skin care

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर