• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • कोविशील्ड, मॉडर्ना और फाइजर की वैक्सीन कैंसर मरीजों पर भी प्रभावी – स्टडी

कोविशील्ड, मॉडर्ना और फाइजर की वैक्सीन कैंसर मरीजों पर भी प्रभावी – स्टडी

कैंसर मरीजों पर कारगर है कोरोना की वैक्सीन. (Image: shutterstock.com)

कैंसर मरीजों पर कारगर है कोरोना की वैक्सीन. (Image: shutterstock.com)

Covid vaccine effective in cancer patient: एक नई रिसर्च में दावा किया गया है कि कोविशील्ड, मॉडर्ना और फाइजर की वैक्सीन कैंसर मरीजों में भी कोरोना के खिलाफ प्रभावी तरीके से इम्यूनिटी विकसित करती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    Covid vaccine effective in cancer patient: वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि कैंसर से पीड़ित मरीजों पर कोविशील्ड, मॉडर्ना और फाइजर की कोरोना वैक्सीन प्रभावी तरीके से काम करती है और इससे कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है. मिंट की खबर के मुताबिक वैज्ञानिकों ने अपनी इस रिसर्च को यूरोपियन सोसाइटी ऑफ मेडिकल ऑन्कोलॉजी (European Society for Medical Oncology) के सम्मेलन में प्रस्तुत किया है. शोधकर्ताओं ने बताया कि कैंसर से पीड़ित लोगों में बिना किसी साइड इफेक्ट के, वैक्सीन के उपयुक्त, सुरक्षात्मक इम्यून रिस्पॉन्स अधिक देखे गए हैं. पेश किए गए साक्ष्य से यह भी पता चलता है कि वैक्सीन की तीसरी बूस्टर डोज कैंसर रोगियों के बीच सुरक्षा के स्तर को और अधिक बढ़ा देती है. शोधकर्ताओं ने पिछले कई अध्यनों और जर्नल्स में प्रकाशित रिपोर्ट को भी पेश किया जिसमें कैंसर मरीजों पर कोविड 19 का प्रभावी असर देखा गया है.

    इसे भी पढ़ेंः वर्क फ्रॉम होम से हो रही है अकड़न? इन 5 टिप्स से मिलेगी राहत

    ट्रायल में कैंसर मरीज शामिल नहीं थे
    कैंसर के मरीजों पर कोविड 19 वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल नहीं किया गया था. इससे सभी के मन में यह डर था कि इनके लिए वैक्सीन सुरक्षित हैं या नहीं. कैंसर मरीजों में कीमोथेरेपी और कई तरह की एंटी कैंसर दवाइयों को दिए जाने के कारण उनमें इम्यून सिस्टम पहले से ही बहुत बिगड़ जाता है, इसलिए इस बात को लेकर संशय था कि कोरोना वैक्सीन क्या इन मरीजों में कोविड-19 के गंभीर रूपों के खिलाफ पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करेगी. इस सवाल को अब तक नहीं सुलझाया गया था. पहले के अध्यन में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण से मिलने वाली सुरक्षा पर कीमोथेरेपी और इम्यूनोथेरेपी के संभावित प्रभाव का पता लगाया गया. ताजा अध्यन में यह साबित हुआ कि कैंसर मरीजों में वैक्सीन कोविड के खिलाफ प्रभावी इम्यून विकसित करती है.

    इसे भी पढ़ेंः कोरोना के बाद कई तरह के दर्द से हैं परेशान, तो इस तरह पाएं छुटकारा

    कैंसर मरीजों में एंटीबॉडी का पर्याप्त स्तर पाया गया
    शोधकर्ताओं ने मॉडर्ना की दो-खुराक टीके के प्रति उनमें प्रतिक्रियाओं को मापने के लिए चार अलग-अलग अध्यन समूहों में नीदरलैंड के कई अस्पतालों के 791 मरीजों को इस अध्यन में शामिल किया. इसमें कैंसर रहित व्यक्ति, इम्यूनोथेरेपी के साथ इलाज किए गए कैंसर रोगी, कीमोथैरेपी के साथ इलाज किए गए रोगी और केमो-इम्यूनोथेरेपी संयोजन के साथ इलाज किए गए रोगी शामिल थे. दूसरी डोज देने के 28 दिनों के बाद कीमोथेरेपी प्राप्त करने वाले 84 प्रतिशत मरीजों में कोरोना के खिलाफ पर्याप्त एंटीबॉडी को विकसित होते हुए पाया गया. इसके अलावा कीमो-इम्यूनोथेरेपी प्राप्त करने वाले 89 प्रतिशत मरीजों में और इम्यूनोथेरेपी करवाने वाले 93 प्रतिशत मरीजों में एंटीबॉडी के पर्याप्त स्तर पाए गए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज