होम /न्यूज /जीवन शैली /

सेहत के लिए ठीक नहीं रोजाना एक जैसा खाना, इसमें हो इंद्रधनुष जैसी विविधता- एक्सपर्ट्स

सेहत के लिए ठीक नहीं रोजाना एक जैसा खाना, इसमें हो इंद्रधनुष जैसी विविधता- एक्सपर्ट्स

यदि आप भरपूर पोषक तत्वों वाला भोजन कर रहे हैं, तो उसमें विविधता जरूरी है - (फोटो-canva.com)

यदि आप भरपूर पोषक तत्वों वाला भोजन कर रहे हैं, तो उसमें विविधता जरूरी है - (फोटो-canva.com)

Eating the same daily is not good for health : फेमस डाइटिशियन सियान पोर्टर (Sian Porter) बताती हैं, कोई भी भोजन आपको सभी जरूरी पोषक तत्व नहीं देता है. यदि आप भरपूर पोषक तत्वों वाला भोजन कर रहे हैं, तो उसमें विविधता जरूरी है. यानी आपके पोषक तत्वों के स्रोत में बदलाव होने चाहिए. किंग्स कॉलेज लंदन की डाइटिशियन और आंतों की सेहत की स्पेशलिस्ट डॉ मेगन रोसी (Megan Rossi,) का कहना है, 'हेल्थ कॉन्शियस लोग भी अक्सर एक तरह का खाना खाते हैं. हमें आंतों की अच्छी सेहत (Good Gut Health) के लिए भोजन में अधिकतम विविधता लानी चाहिए. "

अधिक पढ़ें ...

Eating the same daily is not good for health : आपने अपनी डेली डाइट के मेन्यू पर कभी ध्यान दिया है? क्या आप रोज सुबह-शाम एक जैसा भोजन करते हैं. जैसे रोटी-सब्जी-दाल-चावल? अगर ऐसा है तो आपके लिए जाने-माने डायटीशियन की नई स्टडी जानना जरूरी है. इस स्टडी के अनुसार, रोज एक जैसा खाना सेहत के लिए ठीक नहीं है. एक ही तरह का भोजन करने से हम कई बेहतर पोषक तत्वों से चूक जाते हैं. डेली मेले में छपी न्यूज रिपोर्ट के अनुसार, हाल ही में दुनिया के जाने-माने फुटबॉल खिलाड़ी डेविड बैकहम ने खुलासा किया था कि उनकी सिंगर वाइफ विक्टोरिया 25 साल से एक ही तरह का खाना खा रही हैं. वो है, ग्रिल्ड फिश और उबली सब्जियां. इसी के मद्देनजर फेमस डाइटिशियन सियान पोर्टर (Sian Porter) बताती हैं, कोई भी भोजन आपको सभी जरूरी पोषक तत्व नहीं देता है. और यदि आप भरपूर पोषक तत्वों वाला भोजन कर रहे हैं, तो उसमें विविधता जरूरी है. यानी आपके पोषक तत्वों के स्रोत (source of nutrients) में बदलाव होने चाहिए.

किंग्स कॉलेज लंदन की डाइटिशियन और आंतों की सेहत की स्पेशलिस्ट डॉ मेगन रोसी (Megan Rossi,) का कहना है, ‘हेल्थ कॉन्शियस लोग भी अक्सर एक तरह का खाना खाते हैं. हमें आंतों की अच्छी सेहत (Good Gut Health) के लिए भोजन में अधिकतम विविधता लानी चाहिए. “

क्या कहती है स्टडी
डॉ मेगन रोसी (Megan Rossi,) ने बताया कि प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज (PNAS) जर्नल के अनुसार, दुनियाभर में 50 सालों में हमारे भोजन की विविधता में कमी आई है. हमारी अधिकांश कैलोरी मांस, तेल और अनाज जैसे गेंहू व मक्का से आती है. यही भोजन हार्ट डिजीज, टाइप-2 डाइबिटीज और मोटापे से जुड़े हैं. एक अनुमान के अनुसार दुनिया में 75% भोजन 12 पौधों और जानवरों की 5 प्रजातियों तक सिमट गया है. आमतौर पर सलाह दी जाती है कि रोज के भोजन में फल-सब्जियां, स्टार्च वाले पदार्थ, दुग्ध उत्पाद, प्रोटीन जैसे मांस, अंडे और दालें शामिल होनी चाहिए. वहीं ये भी कहा जाता है कि एक दिन में कम से कम पांच करह के फल-सब्जी खाने चाहिए.’

यह भी पढ़ें-
Blood Circulation: शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर बनाए रखने के लिए डाइट में शामिल करें ये फूड्स

उनका कहना हैं, कि एक दिन में 5 अलग अलग फूड आइटम गिनने के बजाय ये देखें कि हमने पूरे हफ्ते कितने अलग-अलग भोज्य पदार्थ खाए. ये कम से कम 30 होने चाहिए. अमेरिकन गट प्रोजेक्ट की स्टडी बताती है कि जो लोग हर हफ्ते 30 प्रकार के भोज्य पदार्थ खाते हैं, उनकी आंतों में बैक्टीरिया एक हफ्ते में 10-12 विविध फल-सब्जियां खाने वालों से अधिक बेहतर होते हैं. आंतों में बैक्टीरिया का अच्छा मिश्रण हमारे लिए हेल्दी माना जाता है.

यह भी पढ़ें-
सुबह-सुबह प्रकृति की आवाजें सुनना मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद- स्टडी

क्या करें
मेगन रोसी के अनुसार, एक सब्जी की जगह दो-तीन सब्जी एक साथ लें. जैसे मिक्स वेज. एक तरह के अंकुरित अनाज की जगह चार-पांच अनाजों का मिश्रण लें. अगर आप मांसाहारी हैं तो प्रोटीन के वैकल्पिक स्रोत पर सोचें, चिकन, चीज या फिश ही नहीं बाल्कि दाल-फलियां भी. फल-सब्जियां खाते समय खुद से पूछें कि क्या इसमें इंद्रधनुष जैसी विविधता है?

Tags: Food, Health, Healthy Diet, Lifestyle

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर