COVID-19: होम आइसोलेशन के दौरान मरीज कैसे रखें अपना ख्‍याल, जानें क्‍या कहती है ताजा गाइड लाइन

कोरोना के मरीज के लिए घर पर हवादार कमरे में अलग से रहना बहुत जरूरी है. Image Credit : Pexels/Karolina Grabowska

कोरोना के मरीज के लिए घर पर हवादार कमरे में अलग से रहना बहुत जरूरी है. Image Credit : Pexels/Karolina Grabowska

होम आइसोलेशन (Home Isolation) में कोरोना से संक्रमित मरीज घर के अन्‍य सदस्‍यों से दूर खुद को एक अलग कमरे में रखता है और डॉक्‍टर की सलाह पर अपना ट्रीटमेंट (Self Treatment) करता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 4:57 PM IST
  • Share this:
Home Isolation Guidelines For Covid-19 Patients : कोरोना वायरस की दूसरी लहर में हर उम्र के लोग संक्रमित हो रहे हैं. कुछ में जहां हल्‍के लक्षण दिख रहे हैं तो वहीं कई गंभीर मरीज भी सामने आ रहे हैं. कोरोना के गंभीर मामलों में मरीज को अस्‍पताल में भर्ती कराना पड़ रहा है, जबकि हल्‍के या मध्‍यम मामलों में घर पर रहकर ही लोग अपना इलाज कर रहे हैं. इसे ही होम आइसोलेशन (Home Isolation) कहा जा रहा है. होम आइसोलेशन में मरीज खुद को घर के अन्‍य सदस्‍यों से अलग रखता है और डॉक्‍टर की सलाह पर अपना ट्रीटमेंट करता है. ऐसे में अगर आप भी होम आइसोलेशन में हैं और खुद अपना ट्रीटमेंट (Self Treatment) कर रहे हैं तो इन बातों को ख्‍याल रखना बहुत जरूरी है.

क्‍या है एम्‍स की गाइडलाइन

एम्‍स की नई गाइडलाइन के मुताबिक, 'अगर पेशेंट में माइल्‍ड इंफेक्‍शन है और सांस लेने में किसी तरह की तकलीफ नहीं आ रही, ऑक्‍सीजन लेवल भी सामान्‍य है तो उन मरीजों को घर पर रह कर ही सेल्‍फ आइसोलेशन में रहना चाहिए और फोन पर अपने डॉक्‍टर के संपर्क में रहना चाहिए.

Youtube Video

होम आइसोलेशन का क्‍या है नियम

कोरोना के मरीज के लिए घर पर हवादार कमरे में अलग से रहना बहुत जरूरी है. मरीज के लिए एक अलग टॉयलेट होना भी जरूरी है. मरीज की देखभाल के लिए घर का कोई सदस्‍य हो जो उसे भोजन आदि में मदद करे. इसके अलावा इस बात पर नजर रखें कि मरीज के लक्षण गंभीर तो नहीं हो रहे.

इसे भी पढ़ें : कोरोना काल में बदल दें अपनी ये 6 बुरी आदतें, तभी संक्रमण से होगा बचाव



क्‍या करे मरीज

मरीज को अन्‍य लोगों से दूरी बनाए रहना चाहिए. उसे हर वक्‍त तीन या पांच लेयर मास्‍क पहने रहना चाहिए. हाइजीन मेंटेन करना भी बहुत जरूरी है ऐसे में पेशेंट को कुछ कुछ देर में 20 से 40 सेकंड तक हाथ साबुन से धोना चाहिए. उसके कपड़े, बरतन, चादर आदि अलग से डिटर्जेंट में धोएं. इस बात का भी ध्‍यान रखें कि वह उन सर्फेस को ना टच करे जहां अन्‍य लोग भी छूते रहते हैं. अगर टच करे भी तो उस एरिया को तुरंत डिस्‍इंफेक्‍ट कर दें.

ऑक्‍सीजन की करते रहें जांच

संक्रमित मरीज को दिनभर में 4 से 5 बार ऑक्‍सीमीटर से ऑक्‍सीजन की जांच करते रहना चाहिए. अगर ऑक्‍सीमीटर में 94 या उससे कम लेवल दिखा रहा हो तो दो से तीन बार दुबारा जांच करें. ऐसा करने पर आप प्रोनिंग पोजीशन को फॉलो करें. इसके बाद भी अगर ऑक्‍सीजन लेवल नहीं उठता है तो डॉक्‍टर से संपर्क करें.

इसे भी पढ़ें : Covid 19 Most Risky Places : जानलेवा है कोरोना की दूसरी लहर, बचना है तो इन जगहों से बनाएं दूरी

कैसा हो डाइट

कोरोना मरीजों को घर का बना गर्म, ताजा और सादा भोजन खाना चाहिए. नारंगी, मौसमी, नींबू पानी आदि विटामिन सी युक्‍त फलों को डाइट में सेवन करें. इसके अलावा बीन्‍स, मशरूम, दाल, चिकेन, फिश आदि जैसे पोषक तत्‍वों से भरपूर भोजन खाना चाहिए. हल्‍दी, लहसुन, अदरक, दालचीनी जैसे मसालों का सेवन करना चाहिए. दही जैसे प्रोबायोटिक भोजन का सेवन करना चाहिए. पानी भरपूर पीना चाहिए.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज