आप भी परेशान हैं जिद्दी पेट की चर्बी से तो ऐसे पाएं छुटकारा

बेली फैट से छुटकारा पाने के लिए लाइफस्टाइल में करें बदलाव. Image: News18

बेली फैट से छुटकारा पाने के लिए लाइफस्टाइल में करें बदलाव. Image: News18

How To Get Rid Of Belly Fat: पेट की चर्बी (Belly Fat) आपके लिए भी आफत बन गई है तो अपनाएं ये तरीके और पाएं इससे छुटकारा.

  • Share this:
पेट की चर्बी यानी बेली फैट (Belly Fat) किसी आफत से कम नहीं ये आपके कपड़ों को तंग महसूस कराता है. इसके साथ ही ये बेहद खतरनाक भी हो सकता है.पेट की चर्बी का एक प्रकार जिसे आंत की चर्बी (Visceral Fat) कहा जाता है, टाइप 2 मधुमेह, हृदय रोग के जोखिम पैदा करती है.
हालांकि, शरीर के इस हिस्से से फैट कम करना बेहद मुश्किल हो सकता है, लेकिन कई चीजें हैं जो आप अतिरिक्त बेली फैट को कम करने के लिए कर सकते हैं. हम यहां आपको पेट की चर्बी कम करने के साइंटफिक स्टडीज से समर्थित ऐसे ही चार असरदार टिप्स बताने जा रहे हैं.

ट्रांस फैट वाले खाने से परहेज करें:  

ट्रांस फैट को असंतृप्त वसा (Unsaturated Fats) में हाइड्रोजन को पंप करके बनाया जाता है जैसे कि सोयाबीन तेल में.स्टडीज में देखा गया है कि इस तरह का फैट सूजन, हृदय रोग की वजह बनने के साथ ही इंसुलिन प्रतिरोध में परेशानी पैदा करता है. बंदरों पर की गई छह साल की स्टडी में देखा गया कि हाई मोनोअनसैचुरेटेड (Monounsaturated) फैट फूड लेने वाले बंदरों की तुलना में हाई ट्रांस फैट फूड लेने वाले बंदरों के पेट पर 33 फीसदी फैट अधिक जमा हुआ है.पेट की चर्बी को कम करने और अपनी सेहतमंदी के लिए खाने वाले हर प्रोडेक्ट्स के लेबल को ध्यान से पढ़ें और उन उत्पादों से दूर रहें जिनमें ट्रांस फैट होता है. कुछ अध्ययनों ने पेट की चर्बी बढ़ाने के लिए ट्रांस फैट के अधिक सेवन जिम्मेदार ठहराया है. आप वजन कम करने की कोशिश में हों तो ट्रांस फैट सेवन को सीमित करना एक अच्छा आईडिया है.
ये भी पढ़ेंः जानें, कैसे करें पेट का फैट कम




ग्रीन टी पिएंः  

ग्रीन टी एक असाधारण हेल्दी ड्रिंक हैं. इसमें कैफीन और एंटीऑक्सिडेंट एपिगैलोकैटेचिन गैलेट (Epigallocatechi Gallate) ईजीसीजी होते हैं जो मेटाबॉलिज्म को बढ़ाते हैं. लगातार रोजाना ग्रीन टी पीने से वजन घटाने में मदद मिलती है. अगर यह आप पर कम असरकारक है तो फिर इसके साथ अपने रूटीन में एक्सरसाइज को भी शामिल कर लें.

इंटरमिटेंट फास्टिंग करेंः  

इंटरमिटेंट फास्टिंग वजन घटाने का एक तरीका है जो आजकल बेहद चलन में है.यह खाने एक का पैटर्न है जो खाने की अवधि या पीरियड्स और फास्ट पीरियड्स के बीच एक साइकल या चक्र बनाता है. इसके सबसे लोकप्रिय तरीकों में सप्ताह में एक या दो बार 24 घंटे का फास्ट करना शामिल है. एक अन्य तरीके में 16 घंटे के लिए हर दिन फास्ट करना और 8 घंटे की अवधि के भीतर अपना सारा फूड खा लेना होता है. इस तरीके से फास्ट करने पर लोगों ने छह से 24 सप्ताह के अंदर पेट की चर्बी में चार से सात फीसदी की कमी का अनुभव किया. स्टडी बताती हैं कि यह वजन कम करने और पेट की चर्बी घटाने के सबसे असरकारक तरीकों में से एक हो सकता है.हालांकि इसका कोई भी नेगेटिव असर होने पर इंटरमिटेंट फास्टिंग तुरंत बंद कर देनी चाहिए.

ये भी पढ़ेंः मोटापे से कैसे बचें, 10 बड़े उपाय


लाइफस्टाइल में बदलाव लाएंः  

अगर आप यह सोचते हैं कि लाइफस्टाइल में बदलाव लाने से कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा तो आप गलत हैं. आपको अंदाजा नहीं होगा कि वजन कम करने के कई तरीके सीधे आपकी लाइफस्टाइल और हेल्दी फूड से जुड़े हैं.इसलिए, लंबे वक्त के लिए अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव लाना आपके पेट की चर्बी कम करने और इसे दोबारा से आने से रोकने का शानदार उपाय है.जब आपके पास हेल्दी आदतें हैं और आप सही आहार लेते हैं, तो प्राकृतिक तौर पर आपके शरीर में खुद ही फैट जमा नहीं हो पाता है, इसलिए आप स्थायी तौर पर अपने खाने की आदतों और लाइफस्टाइल में बदलाव लाने की सोचें.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज