लीवर को हेल्दी रखने के लिए जरूर करें ये काम, पाचन क्रिया में ऐसे करता है मदद

शरीर में विटामिन बी की कमी से फैटी लिवर का खतरा.Image-shutterstock.com

शरीर में विटामिन बी की कमी से फैटी लिवर का खतरा.Image-shutterstock.com

Healthy Liver: अगर आपका लीवर खराब है, तो इसका समय पर इलाज किया जाना चाहिए. देरी से इलाज होने पर लीवर सिरोसिस और लीवर कैंसर (Liver Cancer) जैसी बीमारी का खतरा हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2021, 10:10 AM IST
  • Share this:
Healthy Liver: लीवर शरीर को स्वस्थ रखने के लिए कई तरह के कार्य करता है, जिसमें डिटॉक्सीफिकेशन और पाचन क्रिया शामिल हैं. हम जो कुछ भी खाते हैं और पीते हैं, वह लीवर से होकर गुजरता है. ऐसे में यह आसानी से खराब हो सकता है, अगर हम इसकी अच्छे से देखभाल न करें. अधिकतर समय हेपेटाइटिस A, B, C, शराब और ड्रग्स के कारण लीवर की बीमारियां होती हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, भारत में लीवर की बीमारियां ही मौत होने का 10 वां सबसे सामान्य कारण है. आपको बता दें कि लीवर हर रोज लगभग 800-1,000 मिलीलीटर पित्त को स्रावित करता है, जिसमें फैट के पाचन के लिए आवश्यक सॉल्ट मौजूद होते हैं.

यह रक्त से अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है. अगर आपका लीवर खराब है, तो इसका समय पर इलाज किया जाना चाहिए. देरी से इलाज होने पर लिवर सिरोसिस और लिवर कैंसर जैसी बीमारी का खतरा हो सकता है. मेडिकल एक्सर्ट्स के अनुसार एक हेल्दी लाइफस्टाइल और बैलेंस्ड डाइट लीवर की बीमारियों को दूर रखने के लिए जरूरी है.

इसे भी पढ़ेंः डाइट में शामिल करें 'अरबी की सब्जी', ब्लड प्रेशर से लेकर शुगर लेवल तक रखता है कंट्रोल में

लीवर क्या करता है
-संक्रमण और बीमारी से लड़ता है

-ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है

-शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है



-कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है

-ब्लड क्लॉटिंग को रोकने में मदद करता है.

-शरीर में कई आवश्यक प्रोटीन बनाता है

-पाचन क्रिया के लिए बाइल डक्ट रिलीज करता है.

-कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स के निर्माण के लिए जिम्मेदार

-शरीर में इंसुलिन और अन्य हॉर्मोन को सिंपल फॉर्म में तोड़ता है

लीवर की बीमारियों के कारण

-लीवर की बीमारी आनुवांशिक हो सकती है

-अनहेल्दी लाइफस्टाइल और खाने का पैटर्न

-अल्कोहल और जंक फूड का अधिक सेवन

-अधिक वजन, मोटापा और टाइप 2 डायबिटीज

लीवर खराब होने के लक्षण

-पीलिया या जॉन्डिस होना.

-मुंह का स्वाद खराब होने लगता है, टेस्ट खराब होने लगता है.

-शरीर में आलसपन और कमजोरी. दिनभर थकावट बनी रहती है.

-छाती में जलन और भारीपन का एहसास होता है.

-लिवर वाली जगह पर दबाने से दर्द होता है.

-भूख न लगना, बदहजमी व पेट में गैस बनना, पेट संबंधी पेरशानियां होना.

-लिवर बड़ा हो जाता है तो पेट में सूजन आने लगती है और दर्द होने लगता है.

-वजन कम होना या अधिक मोटापा.

लीवर खराब होने का खतरा

-शरीर में विटामिन बी की कमी से फैटी लिवर का खतरा.

-शराब का अत्यधिक सेवन और धूम्रपान करने से लिवर संबंधी बीमारियां होती हैं.

-पीने के पानी में क्लोरीन की अधिक मात्रा होने से लिवर संबंधी परेशानियां.

-रंगयुक्त मिठाइयों और कोल्ड ड्रिंक का इस्तेमाल बिल्कुल न करें.

-एंटी बायोटिक दवाईयों का अधिक मात्रा में सेवन करने से लिवर खराब होता है.

-घर की उचित सफाई न होना. साथ ही मलेरिया, टायफाइड से पीड़ित होने पर भी लिवर जल्द खराब होता है.

-गंदा मांस खाना, गंदा पानी पीना, मिर्च, मसालेदार और चटपटा खाना भी लिवर को खराब करता है.

इसे भी पढ़ेंः इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए जरूर पिएं ये 2 खास ड्रिंक्स और खाएं ये स्पेशल फूड

लीवर की सफाई कैसे करें

-लहसुन, हरी और पत्तेदार सब्जियां, सेब, अखरोट, अंगूर और गाजर जरूर खाएं.

-जैतून के तेल (ऑलिव ऑयल) का इस्तेमाल करें.

-नींबू का सेवन जरूर करें.

-ग्रीन टी पिएं.

-हल्दी का सवन जरूर करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज