होम /न्यूज /जीवन शैली /शरीर के लिए कैल्शियम और विटामिन डी क्यों है जरूरी, इनकी कमी को किस तरह से पहचानें?

शरीर के लिए कैल्शियम और विटामिन डी क्यों है जरूरी, इनकी कमी को किस तरह से पहचानें?

क्या है कैल्शियम और विटामिन डी में अंतर, जानें यहां. news18

क्या है कैल्शियम और विटामिन डी में अंतर, जानें यहां. news18

Importance of vitamin D and Calcium: शरीर के लिए विटामिन डी और कैल्शियम दोनों ही जरूरी होते हैं. ये हड्डियों, दांतों के ...अधिक पढ़ें

Importance of vitamin D and Calcium: विटामिन डी, कैल्शियम की जरूरत स्वस्थ हड्डियों, दांतों के लिए बहुत जरूरी है. शरीर में इनकी कमी से ये कमजोर होने लगते हैं. साथ ही विटामिन डी, कैल्शियम कई अन्य रोगों से बचाव के लिए भी जरूरी पोषक तत्व हैं. कैल्शियम एक मिनरल है, जो ना सिर्फ हड्डियों, दांतों को स्वस्थ रखता है, बल्कि नसों, दिल, मांसपेशियों, रक्त से संबंधित समस्याओं को दूर रखने के लिए भी कैल्शियम जरूरी होता है. शरीर में कैल्शियम की कमी होने से सबसे पहले हड्डियों, दांतों की सेहत पर नकारात्मक असर पड़ता है, क्योंकि सबसे ज्यादा कैल्शियम इन्हीं में पाया जाता है. कई बार कैल्शियम और विटामिन डी के बीच मुख्य अंतर को लोग समझ नहीं पाते हैं. क्या है कैल्शियम, क्या है विटामिन डी, ये शरीर के लिए क्यों जरूरी होते हैं, इनकी कमी को कैसे पहचानें, ये जानना-समझना भी जरूरी है.

कैल्शियम और विटामिन डी की कमी में अंतर 

लाल बहादुर शास्त्री हॉस्पिटल (नई दिल्ली) में चीफ मेडिकल ऑफिसर और ऑर्थोपेडिशियन डॉ. धीरज कुमार कहते हैं कि कैल्शियम एक प्रकार का मिनरल है. सबसे ज्यादा कैल्शियम हड्डियों, दांतों में होता है. लोगों को लगता है कि कैल्शियम सिर्फ हड्डियों के लिए इस्तेमाल होता है, लेकिन ऐसा नहीं होता है. कैल्शियम मांसपेशियों, नर्व, हार्ट, ब्लड क्लॉट बनने से रोकने के लिए भी बेहद जरूरी होता है. इसकी कमी से शरीर में कई तरह के नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं. इसकी कमी होने से मांसपेशियों में दर्द होता है, खून का थक्का नहीं बनेगा. एक्सरे, बोन स्कैन के जरिए कैल्शियम की कमी का पता चलता है.

विटामिन डी एक तरह का विटामिन है. यह ऑयल सॉल्यूबल विटामिन के अंतर्गत आता है, जो पानी में नहीं घुलता है. कैल्शियम का शरीर में एब्जॉर्प्शन तभी होता है, जब आप साथ में विटामिन डी भी लेंगे. विटामिन डी का मुख्य स्रोत सूरज की रोशनी है. इसके अलावा कुछ फूड्स जैसे अंडे की जर्दी, फैटी फिश, फोर्टिफाई मिल्क में भी ये मौजूद होता है. विटामिन डी की कमी होने से रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो सकती है. विटामिन डी की कमी को जानने के लिए कई तरह के टेस्ट किए जाते हैं. कैल्शियम और विटामिन डी दोनों एक-दूसरे को मदद करते हुए शरीर में काम करते हैं. किसी की भी कमी होने से दूसरा सही तरीके से काम नहीं कर सकता है.

ये भी पढ़ें: विटामिन डी की कमी से सर्दियों में बढ़ सकती हैं दिक्कतें, जानें लक्षण

शरीर में कैल्शियम की कमी को इन लक्षणों से पहचानें

  • शरीर में कैल्शियम कम होने से हड्डियों में दर्द रह सकता है.
  • मांसपेशियों में दर्द, ऐंठन होता है.
  • हाथ-पैरों में झुनझुनी, सुन्न होने की समस्या हो सकती है.
  • महिलाओं में पीरियड्स संबंधित समस्याएं हो सकती हैं.
  • दांतों की समस्या हो सकती है, दांत कमजोर होने लगते हैं.
  • ब्लड क्लॉटिंग हो सकती है.
  • याद रखने की क्षमता भी प्रभावित हो सकती है.

इसे भी पढ़ें: कैल्शियम की कमी से हो सकती हैं ये बीमारियां, करें इनका सेवन

कैल्शियम की कमी दूर करने के लिए खाएं ये फूड्स

कई फूड्स होते हैं, जिनमें प्राकृतिक तरीके से कैल्शियम मौजूद होता है. सोयाबीन, तिल, साबुत अनाज, दालें, बादाम, हरी सब्जियां, रागी, चीज, टमाटर, दूध और इससे बने खाद्य पदार्थ जैसे दही, पनीर, संतरा, कीवी, आम, अनानास, आंवला, ब्रोकोली, अखरोट, पिस्ता, तरबूज के बीज, बादाम, बाजरा, गेहूं, रागी आदि कैल्शियम रिच फूड्स होते हैं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें