इन वजहों से हो सकती है पीरियड्स में देरी, जानें कारण और उपाय

21 से 35 दिन के अंतराल में होने वाले पीरियड्स को नॉर्मल सर्कल माना जाता है. Image Credit : Pexels/Polina Zimmerman

21 से 35 दिन के अंतराल में होने वाले पीरियड्स को नॉर्मल सर्कल माना जाता है. Image Credit : Pexels/Polina Zimmerman

वैसे तो पीरियड्स (Periods) मिस होने की सबसे कॉमन वजह प्रेग्नेंसी होती है लेकिन अगर आप प्रेग्नेंसी प्लान नहीं कर रही हैं और फिर भी आपके पीरियड्स मिस हो रहे हैं तो इसकी कई वजहें हो सकती हैं.

  • Share this:
आज की स्‍ट्रेस से भरी लाइफ स्‍टाइल के कारण अधिकतर महिलाएं अनियमित पीरियड्स (Irregular Periods) की वजह से परेशान रहती हैं और अंदर ही अंदर तनाव (Stress) से घिरा महसूस करती हैं. कई बार उनके पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं. वैसे तो पीरियड्स मिस होने की सबसे कॉमन वजह प्रेग्नेंसी होती है लेकिन अगर आप प्रेग्नेंसी (Pregnancy) प्लान नहीं कर रही हैं और फिर भी आपके पीरियड्स मिस हो रहे हैं तो इसकी कई वजहें हो सकती हैं. आम तौर पर पीरियड साइकल 28 दिन का होता है जो हर महीने इतने दिन के अंतर पर चलता रहता है. लेकिन अगर यह साइ‍कल एक महीने बहुत लंबा और दूसरे महीने बहुत छोटा रहने लगे तो यह अनियमित या इरेग्युलर पीरियड्स माना जाता है.

अनियमित पीरियड्स की वजह

एवरीडे हेल्‍थ के मुताबिक, 21 से 35 दिन के अंतराल में होने वाले पीरियड्स को नॉर्मल सर्कल माना जाता है. अगर इसकी वजहों की बात करें तो एक स्‍टडी में पाया गया है कि 87 प्रतिशत महिलाओं में इरेग्‍युलर पीरियड की वजह पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रम यानी पीसीओसी है जो एक हार्मोनल समस्‍या है जबकि 44 प्रतिशत महिलाओं में इसकी वजह थायराइड की समस्‍या है. इस समस्‍या की एक अन्‍य बड़ी वजह पेल्विक इनफ्लामेटरी डिजीज़ यानी पीआईडी भी हो सकती है जो सेक्‍शुअली ट्रांसमिटेड इनफेक्‍शन की वजह से होता है. इनके अलावा भी कई नॉन डिजीज कारण होते हैं जिनकी वजह से पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं.

इसे भी पढ़ें : यूटीआई की समस्‍या से हैं परेशान? इन 7 तरीकों से महिलाएं करें अपना बचाव




ये भी हैं कारण



-तनाव अनियमित पीरियड का बहुत बड़ा कारण होता है. दरअसल महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन और टेस्टोस्टेरोन नाम के तीन हार्मोन होते हैं जिनका संतुलन बिगड़ते ही पीरियड्स में परेशानी शुरू हो जाती है और जैसे ही यह संतुलन तनाव की वजह से बिगड़ता है पीरियड पर इसका सीधा प्रभाव दिखता है.

- मोटापे के कारण भी महिलाओं में अनियमित मासिक धर्म जैसी समस्याएं देखने को मिलती हैं. यही नहीं, तेजी से अगर वजन घटने लगे तक भी यह समस्‍या होना आम बात है.

-गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करने से भी मासिक धर्म चक्र पर प्रभाव पड़ता है. ये गोलियां अंडाशय के अंडे को रिलीज करने से रोकती हैं.

-लगातार बीमार रहने या थायरॉयड, मधुमेह की वजह से भी मासिक धर्म में अनियमितता देखी जा सकती है.

अनियमित पीरियड्स को नॉर्मल करने के घरेलू उपचार-

1.हल्दी

हल्दी को वार्मिंग जड़ी बूटी भी माना जाता है. यह मासिक धर्म और संबंधित हार्मोन को नियमित करने में मदद करती है. अगर इसे महिलाएं रोज रात में एक गिलास दूध के साथ मिलाकर पिएं तो बहुत फायदा मिलेगा.

2.अदरक

रोजाना अदरक का सेवन आपके मासिक धर्म को नियमित करने में बहुत सहायक हो सकता है. इसके लिए एक कप पानी में एक इंच अदरक डालें और अच्‍छी तरह से उबालें. स्वाद के लिए आप इसमें शहद या नमक के साथ काली मिर्च डाल सकती हैं. इस मिश्रण को आप एक महीने तक रोज दिन भर में 3 बार पिएं. आपका अनियमित पीरियड नॉर्मल हो जाएगा.

3. दालचीनी-

दालचीनी की तासीर गर्म  है. ऐसे में यह अनियमित पीरियड्स को ठीक करने में उपयोगी साबित होता है. आप एक ग्‍लास दूध में आधा चम्मच दालचीनी मिलाकर उसका सेवन करें. आपको कुछ ही दिनों में फायदा दिखने लगेगा.

4.सौंफ-

सौंफ में एंटीस्पास्मोडिक तत्व होते हैं जो पीरियड्स को नियमित रखने में सहायक होते हैं. इसके साथ ही यह फीमेल सेक्स हार्मोंस को भी नियंत्रित रखती हैं. दो चम्‍मच सौंफ लें और एक ग्‍लास पानी में सौंफ डाल कर रातभर भिगो दें. अगली सुबह पानी को छानकर पिएं.

ये भी पढ़ें: पीरियड्स के दौरान न करें ये गलतियां, सेहत को हो सकते हैं नुकसान

5.अनानास-

अनानास अनियमित पीरियड्स को नियमित करने के लिए लोकप्रिय घरेलू नुस्खा है जिसमें ब्रोमेलेन एंजाइम होता है जो गर्भाशय की परत को नरम बनाने और पीरियड साइकल को नियमित करने में मदद करता है. ब्रोमेलेन पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द, ऐंठन, सिरदर्द जैसी समस्याओं को दूर करता.

6. कच्चा पपीता-

समय पर पीरियड्स नहीं आते तो कच्चे पपीते का सेवन करें. आप अगर पीरियड्स आने से पहले पपीता को दही के साथ खातीं हैं तो आपका पीरियड समय पर होने लगेगा.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज