होम /न्यूज /जीवन शैली /

डायबिटीज मरीजों को कद्दू खाना चाहिए या नहीं, जानिए सच्चाई

डायबिटीज मरीजों को कद्दू खाना चाहिए या नहीं, जानिए सच्चाई

कद्दू में जो फाइबर होता है जो ब्लड शुगर लेवल को मैंटेन रखता है.(Image: Shutterstock)

कद्दू में जो फाइबर होता है जो ब्लड शुगर लेवल को मैंटेन रखता है.(Image: Shutterstock)

is pumpkin beneficial for diabetic patient? कद्दू (Pumpkin) में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो संपूर्ण स्वास्थ्य (Overall health) के लिए बेहतर माना जाता है. 120 ग्राम कद्दू में 2 ग्राम प्रोटीन, 11 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 3 ग्राम फाइबर, 4 ग्राम शुगर मौजूद होता है. इसके अलावा कद्दू में कैल्शियम, आइरन, विटामिन सी और प्रोविटामिन ए भी पाया जाता है. सबसे अच्छी बात यह है कि कद्दू में सिर्फ 50 कैलोरी ऊर्जा ही मिलती है. कद्दू में फैट बिल्कुल भी नहीं पाया जाता है. इसलिए यह हार्ट की हेल्थ के लिए तो अच्छा है ही लेकिन क्या यह डायबिटीज मरीजों के लिए भी बेहतर काम करता है.

अधिक पढ़ें ...

    is pumpkin beneficial for diabetic patient? कद्दू (Pumpkin) बहुत ही लो कैलोरी वाला फूड है. इसमें कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो संपूर्ण स्वास्थ्य (Overall health) के लिए बेहतर माना जाता है. 120 ग्राम कद्दू में 2 ग्राम प्रोटीन, 11 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 3 ग्राम फाइबर, 4 ग्राम शुगर मौजूद होता है. इसके अलावा कद्दू में कैल्शियम, आइरन, विटामिन सी और प्रोविटामिन ए भी पाया जाता है. सबसे अच्छी बात यह है कि कद्दू में सिर्फ 50 कैलोरी ऊर्जा ही मिलती है. कद्दू में फैट बिल्कुल भी नहीं पाया जाता है. इसलिए यह हार्ट की हेल्थ के लिए तो अच्छा है ही लेकिन क्या यह डायबिटीज मरीजों के लिए भी बेहतर काम करता है. इसके अलावा क्या डायबिटीज मरीजों में ब्लड शुगर को कम करने में मददगार है.

    इसे भी पढ़ेंः क्या होता है मौसमी अवसाद, कैसे करें इससे डील, जानें लक्षण और कारण 

    डायबिटीज मरीजों को कद्दू का सेवन करना चाहिए या नहीं इसे लेकर लोगों के मन में इसी तरह के कई सवाल होते हैं. दरअसल, कद्दू में कार्बोहाइड्रैट और शुगर दोनों पाया जाता है. इसलिए लोगों के मन में शंका होती है कि इससे ब्लड शुगर बढ़ सकता है. हेल्थलाइन को खबर के अनुसार अगर सीमित मात्रा में कद्दू का सेवन किया जाए तो इससे ब्लड शुगर लेवल नहीं बढ़ता है क्योंकि कद्दू में जो फाइबर होता है वह ब्लड शुगर लेवल को मैंटेन रखता है.

    इसे भी पढ़ेंः  किन कारणों से होती है पेशाब करते समय जलन, जानिए कारण और निदान
    10 से नीचे जीएल डायबिटीज मरीजों के लिए बुरा नहीं
    हेल्थलाइन की खबर के मुताबिक कद्दू का जीआई 75 है जबकि इसका जीएल सिर्फ 3 है. जीआई यानी ग्लाइसेमिक इंडेक्स (glycemic index –GI) और जीएल यानी ग्लाइसेमिक लोड (glycemic load -GL) का मतलब होता है किसी फूड से कार्बाहाइड्रेट, शुगर या स्टार्च के कारण शरीर में ब्लड शुगर के बनने की क्षमता कितनी है. यह एक तरह से फूड की रैंकिंग का माप है जिससे पता चलता है कि फलां फूड में ब्लड शुगर बढ़ाने की क्षमता इतनी है.

    आमतौर पर यह माना जाता है कि अगर जीएल 10 से नीचे है तो यह ब्लड शुगर पर कोई खास प्रभाव नहीं डालता. दूसरी और जीआई को 1 से 100 के बीच मापा जाता है. इससे भी यही इंगित होता है कि खून में शुगर की मात्रा को किस हद तक बढ़ा सकता है. फूड का जितना जीआई होगा, उतना ही ज्यादा वह ब्लड शुगर को बढ़ाएगा.

    सीमित मात्रा में सेवन फायदेमंद
    अगर कद्दू में जीआई के माप को मानक बनाया जाए तो तो यह ब्लड शुगर को बढ़ाने वाला माना जाएगा लेकिन चूंकि जीएल सिर्फ 3 है, इस लिहाज से यह ब्लड शुगर को घटाने का काम करेगा. क्योंकि जीआई से फूड में कार्बोहाइड्रैट की सही मात्रा का पता नहीं चल पाता है. जबकि जीएल से वास्तविक अर्थों में यह आंका जा सकता है कि कोई फूड ब्लड शुगर को बढ़ाने की क्षमता रखता है. इसलिए अगर सीमित मात्रा में कद्दू का सेवन डायबिटीज के मरीज करते हैं तो इससे ब्लड शुगर लेवल नहीं बढ़ना चाहिए लेकिन अगर ज्यादा मात्रा में कद्दू का सेवन करते हैं तो इससे खून में शुगर की मात्रा बढ़ सकती है.

    Tags: Diabetes, Health, Lifestyle

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर