जानें, बच्चों के देर से बोलने की ये भी हो सकती हैं वजहें

बच्चों के देर से बोलने की वजह एंकलोग्लोसिया भी हो सकती है-Image credit/pexels-tatiana-syrikova

बच्चों के देर से बोलने की वजह एंकलोग्लोसिया भी हो सकती है-Image credit/pexels-tatiana-syrikova

Know Reason for children to speak late- कभी-कभी कुछ बच्चे अपने स्वभाव (Nature) की वजह से तो कुछ अनुवांशिकता (Heredity) की वजह से देर से बोलते हैं लेकिन कुछ बच्चे अगर बच्चों से साथ रहकर भी देर से बोलते हैं तो इसकी कई वजह (Reason) हो सकती हैं.

  • Share this:
बहुत सारे बच्चे अपनी उम्र के अनुसार उतना नहीं बोल पाते हैं जितना उनकी उम्र के बाकी बच्चे बोल रहे होते हैं. इनमें कुछ बच्चे तो ऐसे होते हैं जो लोगों को देखकर धीरे-धीरे बोलना शुरू कर देते हैं लेकिन कुछ ऐसा नहीं कर पाते हैं. कई बार तो वजह (Reason) होती है उनका स्वभाव (Nature) और शारीरिक विकास (Physical growth) जो अलग-अलग होता है. तो कई बार वजह कुछ और भी हो सकती हैं. जिसको समझने की ज़रूरत माता-पिता को है. आइये यहां जानते हैं बच्चों के देर से बोलने की वजहों के बारे में.

कान में इन्फेक्शन

बच्चे को जन्म के समय या जन्म लेने के कुछ समय बाद अगर कान में इन्फेक्शन हो चुका है, तो इससे बच्चे की बोलने की क्षमता प्रभावित होती है जिसकी वजह से बच्चे देर से बोलना शुरू करते हैं.

ये भी पढ़ें: इन खास चीजों को करें डाइट में शामिल, बढ़ेगी बच्चों की हाइट


ठीक से सुन और समझ न पाना


कभी-कभी बच्चे कान में किसी दिक्कत की वजह से ठीक तरह से सुन और समझ नहीं पाते हैं, जिसकी वजह से भी वो देर से बोलना शुरू करते हैं.



समय से पहले पैदा होना

जो बच्चे निर्धारित समय से पहले यानी प्रीमेच्योर पैदा होते हैं. उनको कई बार इस तरह की दिक्कतें आती हैं. वो देर से बोलना, देर से सुनना, देर से समझना और देर से बाकी गतिविधियां करना शुरू करते हैं.

बाक़ी एक्टिविटीज़ में इंट्रेस्ट

कई बार बच्चा बोलता नहीं है या कम बोलता है लेकिन बाकी सभी गतिविधियां सही तरह से करता है. उसके कम बोलने की वजह बाकी एक्टिविटीज़ में इंट्रेस्ट  लेना भी हो सकता है.

न्यूरोलॉजिकल प्रॉब्लम

बच्चा अपनी उम्र के अनुसार अगर बोलने में देर कर रहा है और कई सारे हमउम्र बच्चों के साथ रहने पर भी बोलना शुरू नहीं कर रहा है, तो इस बात की भी संभावना है कि बच्चे में न्यूरोलॉजिकल डिसएबिलिटी हो.

ये भी पढ़ें: बच्चों के कमरे में कभी न रखें ये चीजें, हो सकती हैं खतरनाक

ऑटिज्म


बच्चे के देर से बोलने की वजह कभी-कभी ऑटिज्म भी हो सकती है. बच्चा कम बोलता या नहीं बोलता है और उसको भाषा समझने में भी दिक्कत होती है, तो उसे ऑटिज्म डिसऑर्डर हो सकता है.

एंकलोग्लोसिया

कई बार बच्चा सब समझता है और बोलना भी चाहता है लेकिन बोल नहीं पाता है तो इसकी वजह एंकलोग्लोसिया भी हो सकती है. इसे जीभ-टाई के नाम से भी जाना जाता है. इस स्थिति में बच्चे की जीभ पूरी तरह से मूवमेंट नहीं कर पाती है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज