विटामिन डी 3 की कमी से होती हैं ये समस्याएं, जानें समाधान और संपूर्ण जानकारी

विटामिन डी 3 की कमी को पूरा करने के लिए अंडे की ज़र्दी का कर सकते हैं सेवन

विटामिन डी 3 की कमी को पूरा करने के लिए अंडे की ज़र्दी का कर सकते हैं सेवन

कई लोग विटामिन डी और विटामिन डी3 को अलग (Different) समझते हैं. दरअसल विटामिन डी दो तरह (Two types) के होते हैं. जिनको विटामिन डी2 और विटामिन डी3 कहा जाता है. ये दोनों मिलकर (Both together) विटामिन डी कहलाते हैं.

  • Share this:
स्वस्थ रहने के लिए शरीर को कई तरह के विटामिन्स की ज़रुरत होती है. इनमें सबसे ज़रूरी है विटामिन डी 3. क्योंकि ये अन्य विटामिनों के विपरीत, एक हार्मोन की तरह काम करता है. ये कैल्शियम जैसे तमाम पोषक तत्वों को किडनी द्वारा अवशोषित करने में ख़ास भूमिका निभाता है. विटामिन डी 3 का सीधा असर हमारी हड्डियों और मांसपेशियों के साथ, शरीर की सभी प्रणालियों पर पड़ता है. इसकी कमी, शरीर में कई तरह की बीमारियों के बनने की वजह बनती है. ख़ासकर हड्डियों में दर्द और टूटने की बड़ी वजह विटामिन डी 3 की कमी होती है. इसके अलावा भी कई और दिक्कतें शरीर में हो सकती हैं.

इसके बावजूद विटामिन डी 3 की कमी, लोगों में होना आम बात होती जा रही है, क्योंकि लोग इसको अनदेखा कर देते हैं. इसी वजह से दुनिया भर में लगभग 1 बिलियन लोगों में विटामिन डी का लेवल कम है. 'हेल्थलाइन डॉट कॉम, में प्रकाशित एक खबर के अनुसार, वर्ष 2011 में हुई एक स्टडी में ये सामने आया कि अमेरिका में 41.6% वयस्कों में विटामिन डी की कमी है. तो वहीं हिस्पैनिक्स में 69.2% और अफ्रीकी-अमेरिकियों में 82.1% लोगों में इसकी कमी पाई गयी'.

हालांकि, विडामिन डी 3 की कमी को, सूरज की रोशनी के ज़रिये, काफी हद तक पूरा किया जा सकता है लेकिन एसी और ब्लोवर के दौर में ऐसा होना संभव नहीं है. इसलिए विटामिन डी 3  की कमी को पूरा करने के लिए कुछ ख़ास चीज़ों को अपनी डाइट में शामिल करने की ज़रूरत है. आइये, जानते हैं, कि विटामिन डी 3 की कमी से शरीर में क्या दिक्कतें हो सकती हैं और इसके लक्षण क्या हैं. ये भी जानते हैं, कि इसकी कमी को पूरा करने के लिए किन चीज़ों को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए.



ये भी पढ़ें: त्वचा और बालों के साथ सेहत के लिए भी फायदेमंद है विटामिन-ई, जानिए रूटीन में कैसे करें शामिल
 विटामिन डी 3 की कमी से होने वाली दिक्कतें और इसके लक्षण


अक्सर बीमार या संक्रमित होना



जल्दी थकान हो जाना

हड्डियों और पीठ में दर्द होना

ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डियों के टूटने की) बीमारी हो जाना

मांसपेशियों में दर्द होना

पीरियड्स का अनियमित होना

मूड स्विंग्स होना

इनफर्टिलिटी का बढ़ना

डिप्रेशन होना

बालों का झड़ना

चोट या घाव का जल्दी ठीक न होना

ये भी पढ़ें: लीवर को बनाए रखना है हेल्‍दी और स्ट्रॉन्ग, ऐसे करें आंवले का सेवन


शरीर में विटामिन डी 3 की कमी के ये हो सकते हैं कारण  

त्वचा का काला होना

बुजुर्ग होने के नाते

अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त होना

ज्यादा मछली या डेयरी प्रोडक्ट्स न खाना

ऐसी ठंडी जगहों पर रहना जहाँ सूरज कम रहता है

बाहर जाते समय हमेशा सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना

ज्यादातर घर के अंदर ही रहना

इनके ज़रिये कर सकते हैं विटामिन डी 3 की कमी पूरी

सूरज की रोशनी यानी धूप में बैठें

फैटी फिश का सेवन करें

टूना मछली खाएं

मशरूम का सेवन करें

पाश्चराइज्ड दूध रोज़ पिएं

संतरे के रस का सेवन करें

अंडे की जर्दी का सेवन करें

साबुत अनाज खाएं

कॉड लिवर तेल (कैप्सूल ) अपनाएं

अल्ट्रा वायलेट लैंप और बल्ब का इस्तेमाल करें

हेल्थ डॉट कॉम में प्रकाशित खबर में बोस्टन यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर के मेडिसिन, सोशियोलॉजी और बायोफिजिक्स के एमडी, माइकल एफ होलिक के अनुसार, वो लोग अल्ट्रा वायलेट लैंप और बल्ब का इस्तेमाल कर सकते हैं, जिनमें विटामिन डी की कमी बहुत ज्यादा हो. इसमें वे लोग शामिल हैं जो विटामिन को अवशोषित नहीं कर पाते हैं. या जिनको सर्दियों के मौसम में भी धूप नहीं मिलती है.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज