• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • HEALTH NEWS MORNING HEALTHY BREAKFAST TAKE THESE SPECIAL THINGS PUR

ऐसा होना चाहिए आपका हेल्दी ब्रेकफास्ट, इन खास चीजों का जरूर करें सेवन

सुबह का हेल्दी नाश्ता आपको न सिर्फ पूरे दिन एनर्जी देता है बल्कि आपको कई बीमारियों से भी दूर रखता है. Image-shutterstock.com

Morning Healthy Breakfast: खाली पेट गुनगुने पानी (Lukewarm Water) के साथ शहद पीने से दिन की शुरुआत करें. नाश्ते में विटामिन, प्रोटीन, फाइबर और ओमेगा 3 फैटी एसिड वाले फूड जरूर खाएं.

  • Share this:
    Morning Healthy Breakfast: हेल्दी रहने के लिए सुबह का ब्रेकफास्ट हेल्दी होना बहुत ही जरूरी है. सुबह नाश्ते में क्या खाना चाहिए, इसकी जानकारी जरूर होनी चाहिए. सुबह ब्रेकफास्ट में कुछ हेल्दी फूड्स का सेवन जरूर करें. ये न सिर्फ आपकी इम्यूनिटी को मजबूत करेंगे बल्कि आपके पाचन को भी सुधारेंगे. सुबह का हेल्दी नाश्ता आपको न सिर्फ पूरे दिन एनर्जी देता है बल्कि आपको कई बीमारियों से भी दूर रखता है. मॉर्निंग हेल्दी डाइट के कई ऑप्शन मौजूद हैं बस आपको उन्हें फॉलो करना है. एक अच्छे दिन की शुरुआत करने के लिए हेल्दी और हैवी ब्रेकफास्ट लेना जरूरी है. खाली पेट गुनगुने पानी के साथ शहद पीने से दिन की शुरुआत करें. नाश्ते में विटामिन, प्रोटीन, फाइबर और ओमेगा 3 फैटी एसिड वाले फूड जरूर खाएं. सुबह के नाश्ते में फलों को शामिल करें. ठीक से किया गया पौष्टिक नाश्ता शरीर को एनर्जी देता है. आइए जानते हैं कैसा होना चाहिए सुबह का हेल्दी ब्रेकफास्ट. किन चीजों के करें ब्रेकफास्ट में शामिल.

    ओटमील
    सुबह हेल्दी ब्रेकफास्ट के लिए ओटमील का सेवन जरूर करें. साधारण ओटमील को आप फलों के साथ और भी हेल्दी बना सकते हैं. सुबह के नाश्ते में ओटमील का सेवन करने से शरीर स्वस्थ रहता है और बीमारियां दूर भागती हैं. ओट्स में बहुत अधिक मात्रा में ओमेगा 3, फैटी एसिड, फोलेट और पोटेशियम पाया जाता है जो दिल के लिए भी काफी अच्छा होता है.

    इसे भी पढ़ेंः कोरोना काल में 'तुलसी काढ़ा' करेगा कमाल, इम्यूनिटी से लेकर शूगर लेवल तक सब रहेगा कंट्रोल

    केला
    सुबह के नाश्ते को हेल्दी बनाने के लिए केले का इस्तेमाल जरूर करें. आप ब्रेकफास्ट में इसे दूध में मैश करके खा सकते हैं या ऐसे ही इसे ब्रेड के साथ भी ले सकते हैं. केले में बहुत अधिक मात्रा में आयरन और पोटेशियम मौजूद होता है. यह शरीर में आयरन की कमी को पूरा करता है. साथ ही केला हाइपरटेंशन के रोगियों के लिए भी फायदेमंद होता है. केला न सिर्फ इंसटेंट एनर्जी देता है बल्कि पेट की समस्याओं को भी दूर रखता है.

    बादाम
    बादाम कई पौष्टिक गुणों से भरपूर होता है. सुबह खाली पेट बादाम खाने से कई स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं. बादाम को अगर भिगोकर खाया जाए तो यह ज्यादा फायदा करता है. बादाम में शरीर के लिए जरूरी विटामिन, मैंगनीज, प्रोटीन, फाइबर और ओमेगा 3 फैटी एसिड मौजूद होते हैं. मुठ्ठीभर बादाम को अपने डेली ब्रेकफास्ट डाइट में जरूर शामिल करें.

    दही
    ब्रेकफास्ट में एक कटोरी दही जरूर शामिल करें. दही आंतों के लिए काफी फायदेमंद होती है. ब्रेकफास्ट में दही खाने से कई फायदे होते हैं. दही में प्रोबायोटिक्स पाए जाते हैं जो पेट को साफ रखते है और पाचन को सुधारते हैं.

    सेब और संतरा
    सेब और संतरा दोनों ऐसे फल हैं जिन्हें ब्रेकफास्ट में खाने की सलाह दी जाती है. सुबह के नाश्ते में किसी एक फल को जरूर शामिल करना चाहिए. ब्रेकफास्ट में सेब और संतरा को शामिल करने से शरीर को एनर्जी मिलने के साथ-साथ इम्यूनिटी भी बढ़ती है. नाश्ते में सेब या संतरा खाने से पाचन तंत्र बेहतर रहता है और बॉडी का मेटाबॉलिक रेट भी सही होता है.

    अंडा
    रोजाना ब्रेकफास्ट में अंडे का सेवन करने से शरीर में कई बीमारियों को दूर रखने की ताकत बनी रहती है. सुबह के नाश्ते में अंडा शामिल करना फायदेमंद होता है. अंडे में बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन और पोषक तत्व पाए जाते है. अंडे में विटामिन डी मौजूद होता है जो हड्डियों के लिए फायदेमंद होता है. रोज एक अंडा खाने से आप पूरे दिन की विटामिन डी की खुराक पूरी कर सकते है.

    इसे भी पढ़ेंः घर में लगाएं ये खास औषधीय पौधे, कई बीमारियों से रहेंगे दूर

    चिया सीड्स
    चिया सीड्स में भी प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है जो नई मसल्स को बनाने में मदद करते हैं. यह शरीर में जरूरी प्रोटीन की मात्रा की भी पूर्ति करता है. चिया सीड्स को खाने में डालने से पहले 5 से 10 मिनट तक पानी में भी भिगोकर रखने की कोशिश करें. सीमित मात्रा में चिया सीड्स का नियमित सेवन शरीर को स्वस्थ रखता है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
    Published by:Purnima Acharya
    First published: