• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • काम के दौरान लंबी सिटिंग से इस तरह लें ब्रेक, नहीं होगी कोलेस्‍ट्रॉल या डायबिटीज की समस्‍या!

काम के दौरान लंबी सिटिंग से इस तरह लें ब्रेक, नहीं होगी कोलेस्‍ट्रॉल या डायबिटीज की समस्‍या!

काम के बीच में ब्रेक लेना बहुत जरूरी है.  Image Credit : shutterstock.com

काम के बीच में ब्रेक लेना बहुत जरूरी है. Image Credit : shutterstock.com

Take A Break From Long Sitting : अगर आप लंबे समय तक बैठकर (Long Sitting) काम करते हैं तो आपको डायबिटीज (Diabetes) जैसी बीमारियों का खतरा हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    It is Necessary To Take A Break From Long Sitting :  कोरोना (Corona) महामारी के दौर में अधिकतर लोग घर से ही ऑफिस का काम निपटा रहे हैं. इनमें से अधिकतर वे लोग हैं जो दिन में कम से कम 8 से 9 घंटे तक लैपटॉप के सामने बैठते हैं और काम जल्‍दी निपटाने के चक्‍कर में अर्ली मॉर्निंग से लेकर लेट नाइट तक काम करते रहते हैं. लेकिन आपको बता दें कि आपकी ये आदत आपकी सेहत (Health) को मुश्किल में डाल रही है. जी हां, हाल ही के शोधों में यह पाया गया है कि जो लोग एक ही जगह पर लंबे समय तक बैठकर (Long Sitting) काम करते हैं उन्‍हें डाइबिटीज, हाई कोलेस्‍ट्रॉल, मेटाबॉलिक सिंड्रॉम जैसी बीमारियां अपनी चपेट में आसानी से ले सकती हैं. अगर आपको इससे बचना है तो यह बहुत जरूरी है कि हर आधे घंटे में थोड़ा ब्रेक (Break) लें.

    करें ये काम 

    दैनिक भास्‍कर में छपी एक खबर में न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स के हवाले से बताया गया है कि अगर लॉन्‍ग सिटिंग के साइड इफेक्‍ट्स से बचना चाहते हैं तो हर 30 मिनट में कम से कम 3 मिनट का ब्रेक जरूर लें. इस ब्रेक में आप सीढि़यों पर चढ़ना उतरना, जंपिंग जैक, स्‍क्‍वैड आदि कर सकते हैं. अगर आप 15 स्‍टेप चल भी लें तो कोलेस्‍ट्रॉल और ब्‍लड शुगर लेवल का खतरा कम किया जा सकता है.

    इसे भी पढ़ें : ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या से लाइफ टाइम बचना है तो लाइफ स्टाइल में शामिल करें ये चीज़ें

     

    ये होता है नुकसान

    हेल्‍थलाइन के मुताबिक, अगर आप 6 या उससे अधिक घंटे तक बैठकर रोज काम कर रहे हैं तो आपके शरीर पर इसका शॉर्ट और लॉन्‍ग टर्म इफेक्‍ट पर सकता है. ये हो सकते हैं नुकसान-
    -डाइबिटीज होने का खतरा कई गुना.
    -पैरों में वैरिकाज वेंस की समस्‍या.
    -कार्डियोवैस्‍कुलर यानी हार्ड डिजीज की संभावना.
    – कई तरह के कैंसर का रिस्‍क.
    – डिप्रेशन की समस्‍या.
    – बैकपेन की समस्‍या.
    – वजन का बढ़ना.
    – डाइजेशन में दिक्‍कत.
    – मसल्‍स का कमजोर होना. ऐसे में जरूरी है कि हम अपनी सेहत को नजरअंदाज करने की बजाए काम के बीच में ब्रेक लें और खुद को एक्टिव रखें.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज